New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आवेदन पत्र भर...

Thursday, 31 December 2015

सर्व शिक्षा अभियान ( एन0पी0ई0जी0ई0एल0 व् के0जी0बी0वी0 सहित ) के वर्ष 2014-15 के अभिलेखों के वैधानिक सम्प्रेक्षण रिपोर्ट की अनुपालन आख्या प्रेषण के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

सर्व शिक्षा अभियान की वार्षिक कार्ययोजना एवम् बजट 2016-17 की संरचना के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

जनपदों में यूनिफाइएड शैक्षिक सूचना प्रबंधन प्रणाली (U-DISE) 2015-16 कार्यक्रम प्राथमिकता के आधार पर पूर्ण किये जाने के सम्बन्ध में आदेश। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

मॉडल स्कूलों को हैंडओवर किये जाने के सम्बन्ध में आदेश तथा वर्ष 2010-11 व् 12-13 में स्वीकृत/निर्माणाधीन मॉडल स्कूलों का जिलेवार विवरण भी देखें। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

18 वीं प्रादेशिक स्काउट और गाइड रैली के आयोजन के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

कम्प्यूटर सहायतित शिक्षा कार्यक्रम के अंतर्गत कम्प्यूटर प्रशिक्षण प्राप्त करने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

सी0ए0जी0 ऑडिट के ड्रॉफ्ट रिपोर्ट के सम्बन्ध में संशोधित आदेश। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

समेकित शिक्षा के अंतर्गत Curriculur Adaptation हेतु प्रशिक्षण के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

सी0ए0जी0 ऑडिट के ड्रॉफ्ट रिपोर्ट के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

परिषदीय उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत अंशकालिक अनुदेशकों के मानदेय भुगतान के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

पांचवीं और आठवीं की परीक्षाएं होंगी बोर्ड से। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

पांचवीं और आठवीं की परीक्षाएं होंगी बोर्ड से
अरविंद पांडेय, नई दिल्ली

देशभर में स्कूलों में नए शैक्षणिक सत्र से यानी एक अप्रैल से पांचवीं और आठवीं क्लास की परीक्षाएं स्कूली बोर्ड से कराई जा सकती हैं। स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार को लेकर गठित सेंट्रल बोर्ड ऑफ एजुकेशन की उप समिति ने अपनी रिपोर्ट में इसकी सिफारिश की है। उप समिति ने इसकी रिपोर्ट भी मानव संसाधन मंत्रलय को भेज दी है। इस उप समिति में मध्य प्रदेश के स्कूली शिक्षा मंत्री को भी रखा गया है। जो लंबे समय से स्कूली बोर्ड को शुरू करने के पक्ष में है।
स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार को लेकर गठित सेंट्रल बोर्ड ऑफ एजुकेशन की उप समिति ने इसके अलावा आरटीई एक्ट में बदलाव की भी सिफारिश की है, जिसके तहत अभी तक आठवीं तक शिक्षा को अनिवार्य किया गया था। यानी कोई भी बच्चा पढ़ने में चाहे कितना भी कमजोर हो, उसे आठवीं तक फेल नहीं किया जा सकता है। सिफारिश में इस अनिवार्यता को खत्म करने को कहा गया है। गुणवत्ता में सुधार को लेकर गठित उप समिति का अध्यक्ष राजस्थान के स्कूली शिक्षा मंत्री प्रो. बासुदेव देवनानी को बनाया गया है।

आठवीं तक फेल नहीं करने की नीति बदलने पर सहमति। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

आठवीं तक फेल नहीं करने की नीति बदलने पर सहमति
     
नई दिल्ली, विशेष संवाददाता
Updated: 30-12-15 08:14 PM

केंद्रीय शिक्षा सलाहकार बोर्ड (केब) की एक उप समिति ने कक्षा आठवीं तक फेल नहीं करने की नीति में बदलाव करने पर सहमति व्यक्त की है। राजस्थान के शिक्षा मंत्री प्रोफेसर वासुदेव देवयानी की अध्यक्षता वाली समिति ने कहा कि मंत्रालय को यह भी सुझाव दिया जा रहा है कि पांचवीं एवं आठवीं में बोर्ड परीक्षा होनी चाहिए। समिति की बुधवार को हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है जिसकी सिफारिश जल्द ही मानव संसाधन विकास मंत्रालय से की जाएगी।

दरसअल, केब की पिछली बैठक में आठवीं तक फेल नहीं करने की नीति में बदलाव पर सहमति बनी थी। लेकिन इसकी प्रक्रिया और सभी राज्यों के विचार जानने के लिए देवयानी की अध्यक्षता में समिति बनी थी। समिति में मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और ओडिसा के शिक्षा मंत्री शामिल है।

समिति ने इस बारे में राज्यों से लिखित सुझाव मांगे थे। जिनमें से 18 राज्यों ने लिखित रूप से सहमति जताते हुए मौजूदा नीति में बदलाव की हामी भर दी है। दरअसल, राज्यों का कहना है कि फेल नहीं करने की नीति से बच्चे पढ़ने में दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं जिससे उनका शैक्षिक स्तर खराब हो रहा है। यह व्यवस्था पांच साल पूर्व शिक्षा का अधिकार कानून के प्रावधानों के तहत की गई है लेकिन इसके नतीजे खराब रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि हर कक्षा के बच्चों के लिए एक लर्निग लेवल तय की जाए और यदि बच्चे उसे हासिल नहीं कर पाते हैं तो उन्हें एक महीने के भीतर एक और मौका दिया जाए। यदि दोबारा भी वे लर्निग लेवल हासिल नहीं कर पाते हैं तो उन्हें उसे कक्षा में रोक दिया जाए। समिति में इस बात पर भी सहमति बनी थी पांचवीं एवं आठवीं की परीक्षाएं राज्य स्तर पर बोर्ड परीक्षाओं की तरह होनी चाहिए। बता दें कि शिक्षा का अधिकार कानून से पहले कई राज्यों में पांचवीं एवं आठवीं की बोर्ड परीक्षा होती थी।

इन सिफारिशों को यदि मानव संसाधन विकास मंत्रालय यदि स्वीकार कर लेता है तो आने आने वाले दिनों में शिक्षा का अधिकार कानूनों में आवश्यक बदलाव करने होंगे। उसके बाद नए नियमों को लागू किया जाएगा।

लखीमपुर खीरी : नियुक्ति पत्र के लिए इधर-उधर भटकते रहे प्रशिक्षु शिक्षक सैकड़ों प्रशिक्षु शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, एडीएम के आदेश को फर्जी बताने पर बिगड़ गई बात नाराजगी। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

नियुक्ति पत्र के लिए इधर-उधर भटकते रहे प्रशिक्षु शिक्षक
सैकड़ों प्रशिक्षु शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, एडीएम के आदेश को फर्जी बताने पर बिगड़ गई बात
नाराजगी :

संवादसूत्र, लखीमपुर : सहायक अध्यापक पद पर मौलिक नियुक्ति के लिए भटक रहे प्रशिक्षु शिक्षकों का आक्रोश बुधवार उस वक्त भड़क गया जब शाम ढलने के बाद भी बेसिक शिक्षा कार्यालय में उनको नियुक्ति पत्र देने के लिए टरकाया जाने लगा। दूरदराज जिलों से आए प्रशिक्षु शिक्षक सुबह से शाम तक इंतजार में रहे कि अब उन्हें नियुक्ति पत्र मिलेगा, लेकिन एनवक्त आए बीएसए के तुगलकी फरमान से प्रशिक्षु शिक्षकों के सब्र का बांध टूट गया। प्रशिक्षु शिक्षक अपनी समस्या लेकर अपर जिलाधिकारी संतोष कुमार से मिले तो उन्होंने बीएसए को नियुक्ति पत्र के संबंध में निर्देश दिए। हद तो तब हो गई जब एडीएम के उस आदेश को बेसिक शिक्षा विभाग के एक लिपिक ने फर्जी करार दे दिया। इस पर मामला और भड़क गया और मामला हाथापाई पर आने लगा। प्रशिक्षु शिक्षकों ने जब संबंधित लिपिक से एडीएम से बात करने को कहा तो वह किनारा कर गए। एडीएम भी बीएसए को फोन मिलाते रहे, लेकिन उन्होंने एडीएम का फोन नहीं उठाया।

72825 टीईटी प्रशिक्षुओं के दूसरे चरण की मौलिक नियुक्ति के लिए प्रशिक्षु शिक्षकों को 31 दिसंबर तक स्कूलों में कार्यभार ग्रहण करना है। बीएसए ने 30 दिसंबर को मौलिक नियुक्ति आदेश देने की बात कही थी। बुधवार की सुबह से ही 574 प्रशिक्षु शिक्षक व शिक्षिकाएं मौलिक नियुक्ति पत्र पाने के लिए सुबह से ही डेरा डाले बैठे थे, लेकिन उन्हें आज भी निराश होना पड़ा। इसको लेकर प्रशिक्षु शिक्षकों में आक्रोश और हताशा रही। एक प्रशिक्षु सुनील कुमार सिंह ने बताया कि बेसिक शिक्षा विभाग की हीलाहवाली के चलते द्वितीय चरण के शिक्षकों के बैच में ही वह जूनियर हो जाएंगे। कई जिलों में द्वितीय चरण के शिक्षकों को मौलिक नियुक्ति पत्र जारी कर दिए गए हैं। शहर कोतवाल डीसी श्रीवास्तव भी बीएसए आफिस पहुंचे, वहां हंगामा कर रहे प्रशिक्षु शिक्षकों ने अपनी समस्या बताई। सुनील सिंह के मुताबिक शहर कोतवाल के बीएसए से बात करने पर उन्होंने एक जनवरी 2016 को नियुक्ति-पत्र जारी करने की सहमति जताई है। हालांकि इससे पहले बीएसए 4 जनवरी और 11 जनवरी को नियुक्त-पत्र देने की बात कर रहे थे। प्रशिक्षु शिक्षकों का कहना है कि जनवरी 2016 में मौलिक नियुक्ति मिलने पर उन्हें सैद्धांतिक रूप से नुकसान उठाना पड़ेगा, जिसकी भरपाई संभव नहीं है। इसमें प्रमोशन से लेकर इंक्रीमेंट तक प्रभावित होगा, लेकिन खीरी जिले का बेसिक शिक्षा विभाग प्रशिक्षु शिक्षकों की समस्याओं को सुनने के लिए तैयार नहीं है। जब बीएसए डॉ. ओपी राय से फोन कर जानकारी चाही गई तो प्रशिक्षु शिक्षकों के बाबत पूछते ही उन्होंने फोन काट दिया। 1दोबारा फोन करने पर रिसीव नहीं किया। बहरहाल मौलिक नियुक्ति पत्र के लिए देर शाम बीएसए कार्यालय पर डेरा डाले प्रशिक्षु शिक्षक-शिक्षिकाएं वापस लौट गए।

उ0प्र0 शिक्षक पात्रता परीक्षा 2015 ऑनलाइन आवेदन में हुई त्रुटियों के संसोधन के सम्बन्ध में विज्ञप्ति ज़ारी। ⏳विज्ञप्ति पढ़ें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:(सौरभ त्रिवेदी)

टीईटी-15 आवेदन में कमी गुरुवार से सुधारें,टीईटी के लिए कुल 9.42 लाख आदेवन। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

टीईटी-15 आवेदन में कमी गुरुवार से सुधारें

इलाहाबाद, वरिष्ठ संवाददाता First Published:30-12-2015 06:57:56 PMLast Updated:30-12-2015 06:57:56 PM

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी-टीईटी) 2015 के आवेदन में यदि कोई कमी रह गई है, तो उसे आज ही सुधार लें। संशोधन के लिए वेबसाइट
http://upbasiceduboard.gov.in/ गुरुवार दोपहर से चार जनवरी को शाम छह बजे तक खुलेगी।
सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी नीना श्रीवास्तव ने बताया कि प्रविष्टियों में संशोधन संबंधित दिशा-निर्देश एवं शर्ते वेबसाइट पर अपलोड हैं। दिशा-निर्देश को अच्छे से पढ़ने के बाद संशोधन कर फाइनल सेव करने से पहले अपनी प्रविष्टियों के संशोधन को दोबारा अच्छे से चेक कर लें।

इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही के लिए आवेदक स्वयं उत्तरदायी होगा। इस संबंध में पुन: सुधार के लिए कोई भी प्रत्यावेदन किसी भी स्तर पर नहीं लिया जाएगा।

टीईटी के लिए 9.42 लाख आदेवन

यूपी-टीईटी 2015 के लिए 9,42,552 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 12,57,938 अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था। लेकिन अंतिम तिथि 29 दिसम्बर तक 9,42,552 ने ही फीस जमा की है। अभी प्राथमिक व उच्च प्राथमिक में आवेदन का अलग-अलग आंकड़ा नहीं मिल सका है। दो फरवरी को प्रस्तावित परीक्षा के लिए केन्द्र निर्धारण का काम शुरू हो गया।

नए साल में सुधरेगी बीटीसी की बिगड़ी चाल तय समय से पीछे चल रहा बीटीसी सत्र आएगा पटरी पर सुप्रीम कोर्ट ने आवेदन लेने व सत्र शुरू करने का तय किया कार्यक्रम,2015 का सत्र 22 सितंबर 2016 से शुरू। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

नए साल में सुधरेगी बीटीसी की बिगड़ी चाल
तय समय से पीछे चल रहा बीटीसी सत्र आएगा पटरी पर
सुप्रीम कोर्ट ने आवेदन लेने व सत्र शुरू करने का तय किया कार्यक्रम
धर्मेश अवस्थी, इलाहाबाद

शैक्षिक संस्थानों का रोग जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) व निजी बीटीसी कालेजों को भी लग गया है। लेटलतीफ चल रहे बीटीसी सत्र को तमाम प्रयासों के बाद पटरी पर नहीं लाया जा सका है। अफसरों के सभी प्रयास असफल होने पर सर्वोच्च न्यायालय ने बीटीसी का सत्र नियमित करने की पहल की है। कोर्ट ने कब आवेदन लिया जाए और कब से पढ़ाई शुरू हो इसका कार्यक्रम भी भेजा है। यह अलग बात है कि 2014 का सत्र शुरू करने में उस पर अमल नहीं हुआ है लेकिन अब तय कार्यक्रम के हिसाब से काम करने को अधिकारी तत्पर हैं।

शिक्षा निदेशालय परिसर में अक्सर मुट्ठी भींचे युवा यह गवाही दे रहे हैं कि बीटीसी अब शिक्षक बनने की गारंटी नहीं रही। यह कोर्स ही नहीं, बल्कि पाठ्यक्रम का सत्र तक नियमित नहीं है। 2013 का सत्र शुरू करने के समय निजी कालेजों की एकाएक संख्या बढ़ने और फिर उनकी सीटों को भरने में जो आपाधापी मची उससे महकमा आज तक उबर नहीं पाया है। असल में सीटें भरने के कारण काउंसिलिंग आदि की प्रक्रिया में काफी विलंब हुआ। इससे सत्र तय समय से काफी देर से चला। देरी होने से आगे के सत्रों का समय भी खिसकता चला गया। इसका नतीजा यह है कि बीते अगस्त-सितंबर माह में 2014 सत्र के प्रवेश की काउंसिलिंग शुरू हुई। इस प्रकरण को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई।
बीटीसी सत्र को नियमित करने के लिए शीर्ष कोर्ट ने बाबा शिवनाथ सिंह शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान बनाम नेशनल काउंसिलिंग फॉर टीचर एजूकेशन व अन्य के संबद्ध 10 अन्य याचिकाओं की सुनवाई करते हुए आठ सितंबर 2015 को आदेश दिया कि बीटीसी 2014 सत्र का प्रवेश पूरा करते हुए 22 सितंबर से कक्षाएं शुरू की जाएं। इस आदेश के बाद सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी नीना श्रीवास्तव ने कई बार डायट के प्राचार्यो को पत्र लिखा, लेकिन प्रवेश प्रक्रिया अब तक जारी है। यही नहीं अधिकांश संस्थानों को कोर्ट का भी भय नहीं रहा, बाकायदे विज्ञापन जारी करके दिसंबर तक सीटें भरी गईं। हालांकि सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने स्पष्ट किया कि सत्र की शुरुआत 22 सितंबर 2015 से ही माना जाएगा।

शीर्ष कोर्ट ने यह भी निर्देश दिया कि 2015 का सत्र 22 सितंबर 2016 से शुरू किया जाएगा। इसके लिए आवेदन लेने की प्रक्रिया की संभावित तारीख अप्रैल 2016 तय की गई है, ताकि सारी सीटें जुलाई तक भर ली जाएं। यानी कि बीटीसी की बिगड़ी चाल सुधारने की प्रक्रिया नए साल में ही गति पकड़ लेगी।

इसके बाद 2017 का बीटीसी सत्र एक जुलाई 2017 से शुरू हो जाएगा और इसके लिए आवेदन फरवरी 2017 से लिए जाएंगे। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय उप्र के रजिस्ट्रार नवल किशोर ने बताया कि बीटीसी का सत्र नियमित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने जो आदेश दिया है उसका हर हाल में अनुपालन होगा।

हमीरपुर : शिक्षकों को मिलेगा एसएमएस से अवकाश। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

इलाहाबाद : 108 शिक्षकों को मिला नए वर्ष का तोहफा। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

108 शिक्षकों को मिला नए वर्ष का तोहफा
इलाहाबाद:

परिषदीय स्कूलों के 108 सहायक शिक्षकों को शिक्षा विभाग ने नए वर्ष का तोहफा दिया है। इन्हें प्रधानाध्यापक बना दिया गया है। प्रोन्नत शिक्षकों को बीएसए ने ज्वाइन करने को लेटर भी जारी कर दिया है। जिले के
विभिन्न ब्लाकों में संचालित प्राथमिक स्कूलों के 108 शिक्षकों को पदोन्नत करके सहायक शिक्षक से प्रधानाध्यापक बनाया गया है। पदोन्नति की श्रेणी में आने वाले शिक्षकों को अब 4200 सौ के स्थान पर 4600 सौ ग्रेड पे प्राप्त होगा। बेसिक शिक्षा अधिकारी राजकुमार ने खंड शिक्षा अधिकारियों को प्रमोशन प्राप्त शिक्षकों को प्रधानाध्यापक के पद पर सप्ताह भर में ज्वाइन कराने के निर्देश दिए हैं।

अलीगढ : शैक्षिक गुणवत्ता, स्वच्छता, पुताई, ससमय उपस्थिति आदि बिन्दुओं को सुचारू रूप से कार्यान्वित करने हेतु जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी का आदेश। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

Wednesday, 30 December 2015

लखीमपुर खीरी : शैक्षिक गुणवत्ता , शिक्षकों एवम् अविभावकों की समस्याओं के निस्तारण हेतु हेल्पलाइन व्यवस्था प्रारम्भ करने हेतु जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी का आदेश। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

 उ० प्र० बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित प्राथमिक विद्यालयों में 15000 सहायक अध्यापकों के पदों पर भर्ती में सर्व शिक्षा अभियान सप्लीमेंट्री प्लान के तहत स्वीकृत सहायक अध्यापको के नव सृजित पदों को जोड़े जाने के सम्बन्ध में सदर विधायक चित्रकूट ने माननीय बेसिक शिक्षा मंत्री,उ0प्र0 लखनऊ को लिखा पत्र। ⏳पत्र की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ का जनपदीय विशाल धरना प्रदर्शन दिनाँक 03 फरवरी 2016 को । ⏳देखें कौन -2 सी हैं मांगे: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

 उ० प्र० बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित प्राथमिक विद्यालयों में 15000 सहायक अध्यापकों के पदों पर भर्ती के ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, आवेदन के दिशा निर्देश देखने एवम् आवेदन करने हेतु क्लिक करें।

 उ० प्र० बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित प्राथमिक विद्यालयों में 15000 सहायक अध्यापकों के पदों पर भर्ती - प्रक्रिया में शासनादेश संख्या 3640/ 79-5-2015-14(10)/ 2010 दिनांक 18/12/2015 के क्रम में ऑनलाइन आवेदन प्रणाली-

STEP-1

आवेदन पत्र भरने हेतु महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश
ऑनलाइन आवेदन करने से पूर्व दिशा निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ लें एवं रजिस्ट्रेशन के प्रारूप को भी ध्यानपूर्वक पढ़ लें | समस्त प्रविष्टियाँ अंग्रेजी भाषा में ही मान्य होंगी |

STEP-2
आवेदन पत्र के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (पंजीकरण) करें

अंतिम तिथि
11/01/2016
(सायं 6 बजे तक)

STEP-3
ई- चालान प्रिंट करने एवं आवेदन शुल्क जमा करने हेतु
बैंक (SBI) की वेबसाइट का लिंक

अंतिम तिथि
13/01/2016

STEP-4
अपना आवेदन पत्र प्रिंट करें

अंतिम तिथि
15/01/2016
(सायं 5 बजे तक)

** काउंसलिंग हेतु भरा हुआ रजिस्ट्रेशन फॉर्म एवं आवेदन पत्र का प्रिंट अनिवार्य है
** ऐसे अभ्यर्थी जो 15000 सहायक अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया में पूर्व में ऑनलाइन आवेदन भर चुके हैं उन्हें पुनः आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है

आवेदन करने के लिए यहाँ क्लिक करें। 


बीटीसी प्रशिक्षण 2013 तथा सेवारत (मृतक आश्रित)/ उर्दू बीटीसी 2013 परीक्षा वर्ष 2015 के तृतीय सेमेस्टर की परीक्षा कराये जाने के सम्बन्ध में सचिव परीक्षा नियामक का आदेश। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

बीटीसी प्रशिक्षण 2013 तथा सेवारत (मृतक आश्रित)/ उर्दू बीटीसी 2013 परीक्षा वर्ष 2015 के तृतीय सेमेस्टर की परीक्षा का कार्यक्रम जारी। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

फतेहपुर : प्र0अ0 (प्रा0वि0) में पदोन्नति हेतु प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत सहायक अध्यापकों की अनंतरिम जनपदीय वरिष्ठता सूची का प्रकाशन। ⏳प्रतियाँ देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट(सौरभ त्रिवेदी)

Blog Archive

Blogroll