Sunday, 31 January 2016

,

सोलह राज्यों ने नौकरी में इण्टरव्यू खत्म किए : उत्तर प्रदेश, मणिपुर ने शिक्षकों की भर्ती में इण्टरव्यू खत्म करके इसकी शुरूआत की, मंत्रालय ने अन्य राज्यों को भी पहल करने की सलाह दी। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

, , , , ,

शिक्षक भर्ती : ढ़ीले होंगे नियम, छः लाख शिक्षकों की नियुक्ति के नियमों में पांच साल की छूट बढ़ा सकती है केंद्र सरकार। बीएड डिग्रीधारी अगले पांच साल तक और बन सकते हैं प्राइमरी के मास्साब! ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

शिक्षक भर्ती : ढ़ीले होंगे नियम, छः लाख शिक्षकों की नियुक्ति के नियमों में पांच साल की छूट बढ़ा सकती है केंद्र सरकार।
बीएड डिग्रीधारी अगले पांच साल तक और बन सकते हैं प्राइमरी के मास्साब!
नई दिल्ली,

30-01-16 08:04 PM

केंद्र सरकार शिक्षा के अधिकार (आरटीई)कानून के तहत राज्यों को शिक्षकों की नियुक्ति के नियमों में और पांच साल के लिए ढील दे सकती है। इससे जहां बीएड डिग्रीधारियों के लिए प्राइमरी शिक्षक नियुक्त होने के मौके बढ़ेंगे। वहीं, स्कूलों में पहले से कार्यरत अस्थाई शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अप्रशिक्षितशिक्षकों को जरूरी योग्यता हासिल करने का मौका भी मिलेगा।

शिक्षा के अधिकार कानून- 2011 में लागू हुए प्रावधानों के तहत पांच साल के भीतर स्कूलों में छात्र-शिक्षक अनुपात के अनुसार शिक्षक नियुक्त किए जाने थे। इसी प्रकार जो शिक्षक अप्रशिक्षित थे, उन्हें न्यूनतम योग्यताएं हासिल करनी थी, ताकि उनकी सेवाएं जारी रखी जा सके। लेकिन पांच साल में शिक्षकों की नियुक्तियां नहीं हो सकी। न ही सभी अप्रशिक्षित शिक्षक ट्रेंनिंग हासिल कर सके। उल्टे केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, बिहार समेत डेढ़ दर्जन राज्यों को बीएड डिग्रीधारियों को प्राइमरी शिक्षक नियुक्त करने की अनुमति दे दी। लेकिन शर्त यह रखी कि वे प्राइमरी शिक्षक की छह महीने की विशेष ट्रेनिंग लेंगे। लेकिन यह कार्य पूरा नहीं हो सका।

सूत्रों के अनुसार नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन (एनसीटीई) ने केंद्र को कहा है कि शिक्षकों की नियुक्ति और न्यूनतम अर्हता हासिल करने की समय सीमा को पांच साल के लिए और बढ़ाकर 2020 कर दिया जाए। राज्यों की तरफ से भी केंद्र को सुझाव आए हैं। इस मुद्दे पर केंद्र सरकार ने 8 फरवरी को दिल्ली में राज्यों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है। इसमें इस मुद्दे पर चर्चा होगी और फैसला लिया जाएगा। बता दें कि जिन राज्यों को शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत छूट दी गई हैं वे 31 मार्च 2016 को खत्म हो रही है।

जमीनी सच्चाई- 19.83 लाख शिक्षकों के पद आरटीई के तहत स्वीकृत,
14.15 लाख शिक्षकों की ही हुई भर्ती-

80 फीसदी कार्यरत शिक्षकों के पास ही पेशेवर डिग्री, शेष अप्रशिक्षित हैं या उनकी डिग्री मान्य नहीं है-
06 लाख के करीब हैं अप्रशिक्षित या गैर मान्यता प्राप्त डिग्री धारण करने वाले शिक्षक,जो पढ़ा रहे हैं- बीएड, या अन्य अप्रशिक्षित शिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए इग्नू एवं अन्य विश्वविद्यालयों ने ऑनलाइन कोर्स शुरू किए-
35 से 40 हजार शिक्षक सालाना के दर से ही इन ऑनलाइन पाठ्यक्रमों में लोगों कोप्रशिक्षित किया जा सका है।

बीएड डिग्रीधारियों को होगा फायदा

देश में शिक्षक प्रशिक्षण की करीब 14 लाख सीटें हैं। इनमें से 75 फीसदी सीटें बीएड की हैं, जबकि बाकी सीटें प्राइमरी डीईएलएड की हैं। इसलिए यदि आरटीई में शिक्षकों से जुड़ी छूट की अवधि बढ़ती है, तो बीएड डिग्रीधारियों कोफिर फायदा होगा। राज्यों को उन्हें प्राइमरी शिक्षक नियुक्त करने की छूट फिर से मिल सकती है।

शिक्षकों की कमी

बिहार-2,54,066
झारखंड-69,163
उत्तर प्रदेश-2,91,871
मध्य प्रदेश-88,453
पश्चिम बंगाल-1,04,346
ओडिशा-63,355
छत्तीसगढ़-46,886(स्रोत मानव संसाधन विकास मंत्रालय 2014-15)

, ,

15 हजार शिक्षक भर्ती : अभ्यर्थी साल भर बाद भी भर्ती से दूर। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

अभ्यर्थी साल भर बाद भी भर्ती से दूर
15 हजार शिक्षक भर्ती

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 15 हजार शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया नौ दिसंबर 2014 से चल रही है। जनवरी 2015 से आवेदन लेने का सिलसिला इस तरह शुरू हुआ कि वह चार मर्तबा बीते 15 जनवरी 2016 तक चला। चौथी बार आवेदन लेने की प्रक्रिया पूरी होने पर परिषद के सचिव संजय सिन्हा ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किया था कि एक फरवरी को नए दावेदारों की काउंसिलिंग कराकर पांच फरवरी को सभी चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र बांट दिया जाए। इसी बीच महेंद्र प्रताप सिंह व सात अन्य बनाम उप्र राज्य व अन्य के याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने 25 जनवरी को भर्ती पर स्थगनादेश जारी कर दिया। न्यायालय के आदेश का अनुपालन करते हुए परिषद ने भर्ती प्रक्रिया अग्रिम आदेशों तक के लिए रोक दिया है।

शिक्षकों की भर्ती का शासनादेश जारी होने के बाद पहली बार बीटीसी, विशिष्ट बीटीसी, उर्दू बीटीसी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों, दूसरी बार में केवल डीएड यानी विशेष शिक्षा वाले अभ्यर्थियों से और तीसरी बार हाईकोर्ट के आदेश के अनुपालन में विशिष्ट बीटीसी 2004, 2007 एवं 2008 उत्तीर्ण अभ्यर्थियों से ऑनलाइन आवेदन लिया को आवेदन करने का मौका दिया गया। चौथी बार हाईकोर्ट के निर्देश पर सबके लिए वेबसाइट खोली गई। इस भर्ती प्रक्रिया में लगातार अभ्यर्थियों की तादाद बढ़ती जा रही है, लेकिन सीटें ज्यों की त्यों हैं, जबकि अभ्यर्थी यह भी मांग कर रहे हैं कि जिस तरह से अलग-अलग अभ्यर्थियों के लिए वेबसाइट खोली गई।

Saturday, 30 January 2016

, ,

15000 शिक्षक भर्ती : फिर अटकी 15 हजार शिक्षकों की भर्ती न्यायालय ने आवेदन प्रक्रिया को 15 जनवरी तक बढ़ाने पर किया स्टे एक को काउंसिलिंग व पांच फरवरी को नियुक्ति पत्र बांटना स्थगित। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

फिर अटकी 15 हजार शिक्षकों की भर्ती
न्यायालय ने आवेदन प्रक्रिया को 15 जनवरी तक बढ़ाने पर किया स्टे
एक को काउंसिलिंग व पांच फरवरी को नियुक्ति पत्र बांटना स्थगित

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : प्राथमिक स्कूलों के लिए 15 हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया फिर अटक गई है। एक फरवरी को होने वाली काउंसिलिंग एवं पांच फरवरी को नियुक्ति पत्र बांटने पर सचिव बेसिक शिक्षा परिषद संजय सिन्हा ने रोक लगा दी है। अब इस भर्ती के संबंध में बाद में निर्देश जारी होंगे।

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में 15 हजार शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। चौथी बार बीते 15 जनवरी तक आवेदन लेने के बाद परिषद के सचिव सिन्हा ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किया था कि एक फरवरी को नए अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग कराकर पांच फरवरी को सभी चयनित दावेदारों को नियुक्ति पत्र बांट दिया जाए। इसी बीच महेंद्र प्रताप सिंह व सात अन्य बनाम उप्र राज्य व अन्य की याचिका की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने 25 जनवरी को भर्ती पर स्थगनादेश जारी कर दिया। यह याचिका आवेदन प्रक्रिया 15 जनवरी तक बढ़ाए जाने के खिलाफ की गई थी। न्यायालय के आदेश का अनुपालन करते हुए परिषद ने भर्ती प्रक्रिया अग्रिम आदेशों तक के लिए रोक दिया है। यह निर्देश सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को भेज दिया गया है।

चौथी बार लिये गए आवेदन

बेसिक शिक्षा परिषद में 15 हजार शिक्षकों की भर्ती का नौ दिसंबर 2014 को शासनादेश जारी हुआ था। इसके बाद तीन बार आवेदन लिए गए। पहली बार बीटीसी, विशिष्ट बीटीसी, उर्दू बीटीसी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों, दूसरी बार में केवल डीएड यानी विशेष शिक्षा वाले अभ्यर्थियों से और तीसरी बार हाईकोर्ट के आदेश के अनुपालन में विशिष्ट बीटीसी 2004, 2007 एवं 2008 उत्तीर्ण अभ्यर्थियों से ऑनलाइन आवेदन लिया गया। चौथी बार फिर हाईकोर्ट के निर्देश पर सभी के लिए वेबसाइट 15 जनवरी तक खोली गई।

अभ्यर्थियों की न बदलें मेरिट

आदर्श शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन उप्र ने 15 हजार शिक्षक भर्ती में पूर्व में विज्ञापित पदों के आधार पर मेरिट में चयनित अभ्यर्थियों की मेरिट अन्य अभ्यर्थियों को शामिल करने के बाद न बदलने का अनुरोध किया है। एसोसिएशन ने अल्टीमेटम दिया है कि यदि मेरिट में बदलाव किया गया तो हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक जाएंगे।

, , , ,

15000 शिक्षक भर्ती : सुल्तानपुर : बीएसए के खिलाफ कार्रवाई को सचिव ने लिखा पत्र भर्ती प्रक्रिया में जटिलता के लिए बीएसए जिम्मेदार। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

सुल्तानपुर बीएसए के खिलाफ कार्रवाई को सचिव ने लिखा पत्र
भर्ती प्रक्रिया में जटिलता के लिए बीएसए जिम्मेदार
अमर उजाला ब्यूरो

सुल्तानपुर। बेसिक शिक्षा परिषद सचिव ने परिषदीय विद्यालयों में 15 हजार प्राथमिक शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में जटिलता उत्पन्न होने के लिए बीएसए सुल्तानपुर को जिम्मेदार ठहराया है। बेसिक शिक्षा परिषद सचिव ने बीएसए के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए शासन को पत्र लिखा है। पत्र में 296 शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर बीएसए को गलत उदाहरण प्रस्तुत करने का दोषी भी बताया है।

प्रदेश स्तर पर चल रही परिषदीय विद्यालयों में 15 हजार प्राथमिक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में नया मोड़ आ गया है। उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद सचिव संजय सिन्हा ने विशेष सचिव शिक्षा को पत्र भेजकर इस भर्ती प्रक्रिया में सारे विवाद की जड़ सुल्तानपुर को बताया है। सचिव ने पत्र में कहा है कि सभी जनपदों को एक्सेल डाटा उपलब्ध कराते हुए आवेदन पत्रों के आधार पर काउंसलिंग कराने के निर्देश दिए गए थे लेकिन जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सुल्तानपुर ने स्वयं निर्णय लेकर नौ नवंबर को 300 सीटों के सापेक्ष 296 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र जारी कर दिया था। परिषद को इसकी जानकारी हुई तो बीएसए से स्पष्टीकरण मांगा। अभी तक उनका कोई स्पष्टीकरण कार्यालय को प्राप्त नहीं हुआ है। बीएसए ने नियुक्ति पत्र को 10 नवंबर को स्थगित व 14 दिसंबर को निरस्त कर दिया था। इस मामले में नियुक्ति पत्र पाए अंकित सिंह एवं चार अन्य ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की। जिस पर हाईकोर्ट ने स्थगन एवं निरस्तीकरण संबंधी दोनों आदेशों को स्थगित करते हुए 22 फरवरी को तलब किया है। सचिव ने शासन को अवगत कराते हुए कहा है कि 15 हजार प्राथमिक शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में इस समय न्यायालय में कई याचिकाएं विचाराधीन हैं। सुल्तानपुर बीएसए ने बिना किसी निर्देश के नियुक्ति पत्र जारी कर पूरे प्रदेश में जारी इस भर्ती प्रक्रिया में जटिलता उत्पन्न की है। सचिव संजय सिन्हा ने बीएसए को इस अनधिकृत कृत्य के लिए उत्तरदायी मानते हुए शासन से आवश्यक कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।

फिर स्थगित हुई भर्ती प्रक्रिया

सुल्तानपुर। चार माह से चल रही 15 हजार शिक्षक भर्ती प्रक्रिया अग्रिम आदेश तक फिर स्थगित हो गई है। इसके पूर्व कई बार आवेदन की तिथि बढ़ाई जा चुकी है। बेसिक शिक्षा परिषद सचिव संजय सिन्हा ने सभी बीएसए को पत्र जारी कर एक फरवरी को काउंसलिंग प्रक्रिया व पांच फरवरी को नियुक्ति पत्र निर्गत किए जाने के आदेश पर रोक लगा दी है। सचिव ने कहा है कि अग्रिम आदेश तक भर्ती प्रक्रिया स्थगित रहेगी।

भेजा था स्पष्टीकरण : बीएसए

सुल्तानपुर। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी रमेश यादव ने बताया कि बेसिक शिक्षा परिषद सचिव को स्पष्टीकरण भेजा गया था। सचिव की ओर से शासन को कार्रवाई के लिए लिखे गए पत्र पर उन्होंने अनभिज्ञता जताई।

Friday, 29 January 2016

, ,

अधीनस्थ राजपत्रित महिला शाखा के रिक्त पदों पर पदोन्नति हेतु पात्रता परिधि में आ रही शिक्षिकाओं/प्रवक्ताओं को विगत 10 वर्षो की गोपनीय आख्या/प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

, , , , ,

फर्रुखाबाद: प्रधानाध्यापक प्रा0वि0/सहायक अध्यापक उ0प्रा0वि0 को न्यूनतम रू०- 17140/- तथा प्रधानाध्यापक उ0प्रा0वि0 रू०-18150/- वेतनमान निर्धारण के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

, ,

उ0प्र0 शिक्षक पात्रता परीक्षा 2015 के आयोजन के सम्बन्ध में दिशा-निर्देश एवम् जिलेवार नामित पर्यवेक्षक अधिकारियों एवम् आवंटित जनपदों की सूची भी देखें। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

,

15000 शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में जनपद सुल्तानपुर में नियुक्ति पत्र दिए जाने के सम्बन्ध में बेसिक शिक्षा सचिव उ0प्र0 इलाहाबाद ने विशेष सचिव,शिक्षा अनुभाग -5 उ0प्र0 शासन लखनऊ को लिखा पत्र माँगा मार्गदर्शन। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

, , ,

फतेहपुर : प्रत्येक सोमवार को स्वच्छता दिवस मनाते हुए विद्यालय में अध्यनरत छात्रों को शारीरिक स्वच्छता हेतु प्रेरित करने के सम्बन्ध। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

, , ,

फतेहपुर : विद्यालय दिवस के प्रत्येक दिन विद्यालय में अध्यनरत छात्रों से संकल्प दिलाने के सम्बन्ध में निर्देश, देखें क्या क्या दिलाने हैं संकल्प। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

, , , , ,

फतेहपुर : उ0प्रा0वि0 में विज्ञान/गणित विषय के नियुक्त सहायक अध्यापकों के कार्यभार ग्रहण किये जाने की आख्या उपलब्ध कराये जाने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

,

नवाचार कार्यक्रम 2015-16 के अंतर्गत स्वच्छ विद्यालय एवम् बाल स्वच्छता मिशन से सम्बंधित गतिविधियों के सम्बन्ध में निर्देश देखें एवम् कार्यक्रम संचालन सम्बन्धी दिशा- निर्देश डाउनलोड करें। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

, ,

टीईटी में बैठेंगे नौ लाख से ज्यादा अभ्यर्थी,मुख्य सचिव ने हेल्पलाइन शुरू करने के दिए निर्देश। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

टीईटी में बैठेंगे नौ लाख से ज्यादा अभ्यर्थी

लखनऊ (ब्यूरो)। मुख्य सचिव आलोक रंजन ने दो फरवरी को होने वाली उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) के अभ्यर्थियों की सुविधा के लिए हेल्पलाइन शुरू करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही पर्याप्त मात्रा में मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारियों की ड्यूटी लगाने को भी कहा। उन्होंने कहा कि प्रश्नपत्र और उत्तर पुस्तिकाएं समयसीमा के भीतर सेंटरों तक पहुंचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

मुख्य सचिव गुरुवार को योजना भवन के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष से उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा-2015 की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शिक्षक पात्रता परीक्षा में 9 लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों के परीक्षा देने की संभावना है। 2 फरवरी को टीईटी का आयोजन दो पालियों में होगा। इसके लिए प्रदेश में उच्च प्राथमिक स्तर के 1128 और प्राथमिक स्तर के 428 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। शिक्षक पात्रता परीक्षा में उच्च प्राथमिक स्तर के 671796 और प्राथमिक स्तर के 258372 यानी कुल 930168 अभ्यर्थी शामिल होंगे।

मुख्य सचिव ने हेल्पलाइन शुरू करने के दिए निर्देश

, ,

वित्तविहीन शिक्षक आज नहीं घेरेंगे विधान भवन, व्यावसायिक शिक्षकों ने निकाला कैंडल मार्च। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

वित्तविहीन शिक्षक आज नहीं घेरेंगे विधान भवन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा की ओर से शुक्रवार को विधानभवन घेराव का कार्यक्रम शासन से हुई वार्ता के बाद स्थगित कर दिया गया है। महासभा के अध्यक्ष उमेश द्विवेदी ने बताया कि गुरुवार को दोपहर बाद शासन स्तर पर आला अधिकारियों से हुई बातचीत में कुछ प्रमुख मांगों पर सैद्धांतिक सहमति बनने के बाद प्रस्तावित आंदोलन स्थगित किया है।

व्यावसायिक शिक्षकों ने निकाला कैंडल मार्च

लखनऊ। माध्यमिक व्यावसायिक शिक्षक जागरूक मंच ने मांगों लेकर गुरुवार को लक्ष्मण मेला मैदान से जीपीओ तक कैंडल मार्च निकाला। मंच के अध्यक्ष संजीव यादव ने बताया कि माध्यमिक शिक्षा मंत्री ने व्यावसायिक शिक्षकों को नियमित करने का वादा किया था। लेकिन, अब तक 12 महीने का मानदेय भी नहीं दिया गया। महामंत्री आलोक शुक्ला ने बताया कि शुक्रवार को व्यावसायिक शिक्षक विधानभवन के बाहर प्रदर्शन करेंगे।

, , ,

मदरसा शिक्षकों ने मांगी स्थायी नियुक्ति, ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

मदरसा शिक्षकों ने मांगी स्थायी नियुक्ति

लखनऊ। मदरसा शिक्षकों ने गुरुवार को गांधी प्रतिमा पर धरना देकर स्थायी नियुक्ति देने की मांग उठाई। मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक संघ के बैनर तले जीपीओ स्थित गांधी प्रतिमा पर जुटे शिक्षकों ने प्रदेश सरकार पर सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया। धरने का नेतृत्व कर रहे संगठन के प्रदेश अध्यक्ष हाजी समीउल्लाह खान शुएब ने कहा कि शिक्षामित्रों की योजना मदरसा आधुनिकीकरण के बाद आई लेकिन उन्हें स्थायी कर दिया गया। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मदरसा शिक्षकों की मांगे पूरी करने की घोषणा की थी। इस संबंध में 21 सितंबर 2015 को राज्यमंत्री हाजी फरीद महफूज किदवई की अगुवाई में मुख्यमंत्री से मुलाकात भी गई थी, लेकिन इस दिशा में अब तक कोई कार्यवाही नहीं हुई।

, , ,

सीपीएड डिग्रीधारकों ने दिया धरना। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

सीपीएड डिग्रीधारकों ने दिया धरना
लखनऊ। शारीरिक शिक्षक के पद पर स्थायी नियुक्ति की मांग को लेकर 1997 के पूर्व के सीपीएड डिग्रीधारियों ने गुरुवार को गांधी प्रतिमा पर धरना दिया। सीपीएड बेरोजगार शिक्षक संघ के प्रदेश महासचिव रामसागर सिंह ने कहा कि सीपीएड और मोअल्लिम-ए-उर्दू डिग्री धारकों को एक साथ शिक्षक प्रशिक्षण प्राप्त है। लेकिन शासनादेश जारी कर मोअल्लिम-ए-उर्दू डिग्री धारकों को नियुक्ति दे दी गई, पर सीपीएड डिग्रीधारकों की अनदेखी की गई है। उन्होंने मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित कर उर्दू डिग्रीधारकों की तर्ज पर सीपीएड की नियुक्ति की उम्र 60 वर्ष बढ़ाने, इंटरमीडिएट सीपीएड को 23 मार्च 1995 के शासनादेश के तहत बीटीसी के समकक्ष माने जाने की मांग की है।

, , ,

3000 शिक्षकों की मार्कशीट फर्जी नौकरी छोड़ गए तमाम शिक्षक कॉलेज संचालक भी फंसे। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

3000 शिक्षकों की मार्कशीट फर्जी
नौकरी छोड़ गए तमाम शिक्षक कॉलेज संचालक भी फंसे
गड़बड़झाला :
विशेष जांच दल ने जताई आशंका
जागरण संवाददाता, आगरा : अंबेडकर विवि के सबसे बड़े बीएड फर्जीवाड़े में सुबूत जुटाए जा रहे हैं। एक कर्मचारी को जेल भेजने के बाद दो और कर्मचारियों के खिलाफ सुबूत मिल गए हैं। उधर, विशेष जांच दल (एसआइटी) ने तीन हजार सरकारी शिक्षकों की मार्कशीट के फर्जी होने की आशंका जताई है। इन्हें बनवाने में निजी कॉलेज संचालक भी फंसने जा रहे हैं।
विवि के बीएड सत्र 2004-05 में 10 हजार रोल नंबर जेनरेट (बिना प्रवेश मार्कशीट दीं) किए थे। कनिष्ठ लिपिक रणवीर सिंह को बाह के प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक अशोक कुमार उत्प्रेती की बीएड सत्र 2005 की फर्जी मार्कशीट बनाने पर गिरफ्तार कर जेल भेजा है। शिक्षक की मार्कशीट गगन कॉलेज, अलीगढ़ के नाम से बनाई थी, जबकि कॉलेज संचालक ने लिखकर दिया है कि उनके यहां इस नाम का कोई छात्र ही नहीं था। इसी तरह एसआइटी ने बीएसए, कार्यालय आगरा से तीन हजार शिक्षकों की मार्कशीट का ब्योरा मांगा है। इन सभी की विशिष्ट बीटीसी से 2007 के बाद नौकरी लगी थी। शिक्षकों की मार्कशीट का संबंधित कॉलेजों में सत्यापन कराया जाएगा। फर्जीवाड़े में फंसने की आशंका पर तमाम शिक्षकों ने नौकरी छोड़ दी है। फर्जी मार्कशीट मिलने पर मुकदमा दर्ज होगा। एसआइटी ने 36 कर्मचारियों और कॉलेज संचालकों की सूची तैयार की है। इनकी भी जांच की जा रही है।

Thursday, 28 January 2016

,

मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत मण्डल/जनपद स्तर पर कार्यरत समन्वयकों/कम्प्यूटर ऑपरेटरों द्वारा मोटरसाइकिल यात्रा भत्ता रु० 2 से 5 किये जाने के सम्बन्ध में।⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

Monday, 25 January 2016

, , ,

फतेहपुर: शिक्षामित्रों से समायोजित सहायक अध्यापक पद पर प्रथम बैच के छूटे हुए एवम् द्वितीय बैच के समस्त सहायक अध्यापको की सेवा पुस्तिका दिनांक 31.01.2016 तक बनवाने के सम्बन्ध में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी फतेहपुर द्वारा आदेश। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

,

उ0प्र0 बेसिक शिक्षा परिषद् द्वारा संचालित परिषदीय प्रा0वि0/उ0प्रा0वि0 की वार्षिक परीक्षाएं दिनांक 14 मार्च से 21 मार्च के मध्य आयोजित किये जाने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

Text Widget 2