New

जनपद के अंदर स्थानांतरण प्रकिया में ऑनलाइन आवेदन करें, समस्त दिशा निर्देश पढ़ते हुए यहां से आवेदन करें

शासनादेश  आवेदन पत्र भरने हेतु महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश   ( ऑनलाइन आवेदन करने से पूर्व दिशा निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ लें एवं आवेदन के प्र...

Thursday, 31 March 2016

बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों हेतु शैक्षिक सत्र 2016-17 में विद्यालयी गतिविधियों हेतु कलेण्डर जारी।


Posted via सौरभ त्रिवेदी

वर्ष 2015 हेतु अध्यापक/अध्यापिकाओं को राष्ट्रीय/राज्य अध्यापक पुरस्कार हेतु रजिस्टर्ड डाक से आवेदन प्राप्ति की तिथि 31.03.16 से बढ़ाकर 15.04.16 की गयी निर्धारित। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:



Posted via सौरभ त्रिवेदी

परिषदीय प्राथमिक एवम् उच्च प्राथमिक विद्यालयों के शैक्षिक सत्र 2015-16 में कक्षा 5 एवम् 8 की वार्षिक परीक्षा परिणाम घोषित होने के उपरांत दिनांक 11.04.16 तक ब्लॉक संसाधन केंद्र में डाटा इंट्री कराने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:



Posted via सौरभ त्रिवेदी

वित्तीय वर्ष 2015-16 में मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत एम्0एम्0ई0 मद में विद्यालय स्तरीय मद में धन आवंटन, जिलेवार आवंटित धनराशि का ब्यौरा देखें। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:



Posted via सौरभ त्रिवेदी

शैक्षिक सत्र 2015-16 में परिषदीय विद्यालयों की वार्षिक परीक्षा 2016 में सम्मलित न होने छात्र-छात्राओं की कक्षोन्नति के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:



Posted via सौरभ त्रिवेदी

3500 सहायक अध्यापक ( उर्दू भाषा ) की तृतीय काउंसलिंग के उपरांत नियुक्ति/अर्ह पाये गए अभ्यर्थियों की सूचना उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:





Posted via सौरभ त्रिवेदी


Wednesday, 30 March 2016

विशिष्ट बीटीसी 2004 के चयनित अभ्यर्थियों के मानदेय के भुगतान के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:



Posted via सौरभ त्रिवेदी

Tuesday, 29 March 2016

परिषदीय विद्यालयों में नियुक्ति किये गए अध्यापकों एवम् 31 मार्च 2016 को सेवानिवृत्त होने वाले अध्यापकों के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत Replacement Of Kitchen Devices हेतु प्रति विद्यालय रू- 5000/- की दर से धनराशि निर्गत एवम् जिलेवार धनराशि का आवंटन भी देखें। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

बेसिक शिक्षा विभाग ने शैक्षिक सत्र के लिए जारी किया कैलेंडर परिषदीय स्कूलों में पढ़ाई संग रचनात्मकता पर भी जोर। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

बेसिक शिक्षा विभाग ने शैक्षिक सत्र के लिए जारी किया कैलेंडर
परिषदीय स्कूलों में पढ़ाई संग रचनात्मकता पर भी जोर
राज्य ब्यूरो, लखनऊ :

अगले शैक्षिक सत्र में बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों के विद्यार्थी चित्रकला, हस्तकला, पेपरक्राफ्ट, पेंटिंग, रंगोली और क्ले मॉडलिंग के जरिये अपनी रचनात्मकता को साकार कर सकेंगे। स्कूलों में सुलेख, श्रुतिलेख, वाचन, निबंध लेखन, गणित व सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी। बच्चों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करने के लिए स्कूलों में पौधरोपण प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। स्कूलों में पुष्पवाटिका व किचेन गार्डेन सज्जा पर भी जोर होगा। वहीं नौनिहालों के व्यक्तित्व विकास के लिए वाद-विवाद और भाषण प्रतियोगिताएं भी आयोजित कराने का इरादा है।

बेसिक शिक्षा विभाग ने शैक्षिक सत्र 2016-17 में परिषदीय विद्यालयों में होने वाली गतिविधियों का कैलेंडर सोमवार को जारी कर दिया है। शैक्षिक सत्र में प्राथमिक स्तर पर न्यूनतम 200 दिन या 800 घंटे और उच्च प्राथमिक स्तर पर कम से कम 220 दिन या 1000 घंटे पढ़ाई के लिए तय किये गए हैं।

कैलेंडर के मुताबिक हर कार्यदिवस में प्रार्थना व राष्ट्रगान के अलावा आज का विचार, आज का समाचार सभा आयोजित की जाएगी। हर बुधवार को स्वास्थ्य व स्वच्छता दिवस मनाया जाएगा जिसमें यूनीफॉर्म, नाखून और दांतों की सफाई पर बच्चों का विशेष ध्यान दिलाया जाएगा। हर महीने अभिभावक-शिक्षक और विद्यालय प्रबंध समिति के सदस्यों की बैठकें होंगी। प्रत्येक महीने के आखिरी शनिवार को उस महीने में पड़ने वाले सभी छात्रों का जन्मदिवस मनाया जाएगा। बच्चों को प्रेरित करने के लिए स्कूलों में प्रतिष्ठित व्यक्तियों के प्रेरक व्याख्यान आयोजित किये जाएंगे। स्कूलों में एकांकी का आयोजन किया जाएगा।

विद्यालय प्रबंध समिति, ग्राम शिक्षा समिति, अभिभावक शिक्षक व स्टाफ की बैठकें स्कूल की अवधि के बाद आयोजित की जाएंगी। अध्यापकों के लिए संगीत, चित्रकला, वाद-विवाद, खेलकूद आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा अवकाश के दिनों में ब्लाक या जिला स्तर पर कराया जा सकता है। खेल प्रतियोगिताएं भी : स्कूल, ब्लॉक, व जिला स्तर पर क्रीड़ा प्रतियोगिताएं व स्काउट-गाइड रैली आयोजित की जाएंगी। ब्लॉक स्तर पर कबड्डी, खो-खो, एथलेटिक्स, फुटबॉल व वॉलीबॉल प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा जिसमें विद्यालय स्तर के विजेता छात्र ही भाग लेंगे। विद्यालय में पहले चार दिन अंतिम घंटे में खेलकूद और व्यायाम कराया जाएगा। सप्ताह के अंतिम दो दिन स्काउट गाइड की रैलियां आयोजित की जाएंगी।

परीक्षा कार्यक्रम प्रथम सत्र परीक्षा : आठ व नौ अगस्त, अर्धवार्षिक परीक्षा : 19 से 21 अक्टूबर, दूसरी सत्र परीक्षा : पांच व छह दिसंबर, वार्षिक परीक्षा : 21 से 25 मार्च वार्षिक परीक्षा परिणाम घोषणा : 30 मार्च

Monday, 28 March 2016

यूपी-टीईटी-2015 का परिणाम घोषित, प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 24.85 प्रतिशत जबकि उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 14.03 प्रतिशत अभ्यर्थियों को मिली सफलता,ओवरऑल 17 प्रतिशत अभ्यर्थी पास। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

यूपी-टीईटी-2015 का परिणाम घोषित, प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 24.85 प्रतिशत जबकि उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 14.03 प्रतिशत अभ्यर्थियों को मिली सफलता,ओवरऑल 17 प्रतिशत अभ्यर्थी पास

इलाहाबाद, वरिष्ठ संवाददाता
Updated: 28-03-16 06:55 PM

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी-टीईटी)-2015 का परिणाम सोमवार की शाम घोषित कर दिया गया। प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 24.85 प्रतिशत जबकि उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 14.03 प्रतिशत अभ्यर्थियों को सफलता मिली है। ओवरऑल 17 प्रतिशत अभ्यर्थी पास हुए हैं।

कक्षा एक से पांच तक के सरकारी स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए दो फरवरी को आयोजित प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 2,58,372 अभ्यर्थी पंजीकृत थे, जिनमें से 2,37,620 आवेदक शामिल हुए। इनमें से 59,062 (24.85 प्रतिशत) सफल हुए हैं।

इसी तरह कक्षा 6 से 8 तक के सरकारी स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए आवश्यक उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में पंजीकृत 6,71,796 अभ्यर्थियों में से 6,22,437 परीक्षा में सम्मिलित हुए।

इनमें से 87,353 (14.03 प्रतिशत) परीक्षार्थी सफल हुए हैं। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी नीना श्रीवास्तव ने बताया कि परीक्षा का परिणाम www.upbasiceduboard.gov.in पर अपलोड कर दिया गया है। अभ्यर्थी इस वेबसाइट पर अपना रोल नंबर भरने के बाद परिणाम देख सकते हैं और प्रिंट आउट ले सकते हैं।

रिजल्ट वेबसाइट पर बुधवार की शाम 6 बजे तक ही उपलब्ध रहेगा। लगभग दो साल के अंतराल के बाद दो फरवरी को प्रदेश के 1128 केन्द्रों पर शिक्षक पात्रता परीक्षा आयोजित की गई थी।

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों के कार्यरत शैक्षणिक एवम् शिक्षणेत्तर कर्मियों के संविदा अनुबंध हेतु मूल्यांकन प्रपत्र के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

इटीनरेन्ट एवम् रिसोर्स टीचर्स के यात्रा भत्ता भुगतान के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

उ0प्र0 शिक्षक पात्रता परीक्षा 2015 का रिजल्ट जारी। ⏳रिजल्ट देखने के लिये यहाँ क्लिक करें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

यूपी0 टीईटी 2015 रिजल्ट देखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

http://upbasiceduboard.gov.in/TET_Result/tet_regno.aspx

अंग्रेजी माध्यम से संचालित परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में अध्ययनरत ( 1 से 5 ) छात्र-छात्राओं की संख्या उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

बाँदा : प्र0अ0 प्राथमिक विद्यालय एवम् स0अ0 उच्च प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक/शिक्षिकाओं की पदोन्नति हेतु दिनांक 28.03.16 को होने वाली काउंसलिंग अपरिहार्य कारणों से स्थगित। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

46 हजार पदों पर शारीरिक शिक्षक के पद भरने की मांग तेज: बीपीएड डिग्री धारकों ने बुलंद की आवाज।

46 हजार पदों पर शारीरिक शिक्षक के पद भरने की मांग तेज: बीपीएड डिग्री धारकों ने बुलंद की आवाज

प्रदेश के 46 हजार उच्च प्राथमिक विद्यालयों में शारीरिक शिक्षक के पदों पर स्थायी नियुक्ति की मांग को लेकर बीपीएड डिग्री धारकों ने प्रदर्शन करके अपनी आवाज बुलंद की।

लक्ष्मण मेला मैदान में पिछले कई दिनों से धरना दे रहे व क्रमिक अनशन पर बैठे डिग्री धारकों ने प्रदेश सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा है कि उनकी नियुक्ति न होने से उनका परिवार भुखमरी की कगार पर है। नियुक्ति के लिए हाई कोर्ट ने भी सरकार को आदेश दिया है, लेकिन सरकार द्वारा इसका पालन नहीं किया जा रहा है। धरने का नेतृत्व कर रहे धीरेंद्र यादव ने कहा कि अगर सरकार ने 46 हजार पदों पर नियुक्ति का शासनादेश जल्दी नहीं घोषित करती तो प्रदेश भर के डिग्रीधारक बड़ा आंदोलन करने को बाध्य होंगे। साथ ही आगामी विधान सभा चुनाव में सपा सरकार को सबक भी सिखाएंगे। क्रमिक अनशन में जेपी त्रिपाठी, मो. शमशाद, प्रवीण मौर्य, सरिता यादव, आशीष त्रिवेदी व आरती झा, कुसुमलता, बृजमोहन सहित कई लोग शामिल हैं।

46 हजार पदों पर शारीरिक शिक्षक के पद भरने की मांग तेज: बीपीएड डिग्री धारकों ने बुलंद की आवाज। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

46 हजार पदों पर शारीरिक शिक्षक के पद भरने की मांग तेज: बीपीएड डिग्री धारकों ने बुलंद की आवाज

प्रदेश के 46 हजार उच्च प्राथमिक विद्यालयों में शारीरिक शिक्षक के पदों पर स्थायी नियुक्ति की मांग को लेकर बीपीएड डिग्री धारकों ने प्रदर्शन करके अपनी आवाज बुलंद की।

लक्ष्मण मेला मैदान में पिछले कई दिनों से धरना दे रहे व क्रमिक अनशन पर बैठे डिग्री धारकों ने प्रदेश सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा है कि उनकी नियुक्ति न होने से उनका परिवार भुखमरी की कगार पर है। नियुक्ति के लिए हाई कोर्ट ने भी सरकार को आदेश दिया है, लेकिन सरकार द्वारा इसका पालन नहीं किया जा रहा है। धरने का नेतृत्व कर रहे धीरेंद्र यादव ने कहा कि अगर सरकार ने 46 हजार पदों पर नियुक्ति का शासनादेश जल्दी नहीं घोषित करती तो प्रदेश भर के डिग्रीधारक बड़ा आंदोलन करने को बाध्य होंगे। साथ ही आगामी विधान सभा चुनाव में सपा सरकार को सबक भी सिखाएंगे। क्रमिक अनशन में जेपी त्रिपाठी, मो. शमशाद, प्रवीण मौर्य, सरिता यादव, आशीष त्रिवेदी व आरती झा, कुसुमलता, बृजमोहन सहित कई लोग शामिल हैं।

टीईटी 2015 का परिणाम आज,परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय की मानें तो परीक्षार्थी इसे मंगलवार से देख सकेंगें। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

टीईटी 2015 का परिणाम आज

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी) 2015 का परिणाम सोमवार को जारी होने की उम्मीद है।
एनआइसी की वेबसाइट पर परिणाम अपलोड होने की प्रक्रिया सुबह शुरू होगी, जिसके शाम तक पूरा होने के
आसार हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय की मानें तो परीक्षार्थी इसे मंगलवार से देख सकेंगे। हालांकि परिणाम जारी करने का औपचारिक एलान सोमवार शाम को ही होगा। 1परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव की ओर से टीईटी 2015 की परीक्षा बीते दो फरवरी को आयोजित हुई थी।

शासनादेश बनाने के लिए मृतक आश्रितों की मांग। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

शासनादेश बनाने के लिए मृतक आश्रितों की मांग

उत्तर प्रदेश प्राथमिक मृतक आश्रित शिक्षणोत्तर कर्मचारी संघ की ओर रविवार को दारूलशफा में बैठक आयोजित कर मृतक आश्रितों के लिए शासनादेश बनाए जाने की मांग की। बैठक में संघ के प्रदेश अध्यक्ष जुबेर अहमद ने
संघ के पदाधिकारियों से कहा कि हाल ही में शिक्षक संगठनों द्वारा किए गए धरना प्रदर्शन में स्वास्थ्यमंत्री अहमद हसन ने मृतक आश्रितों के लिए शासनादेश बनाकर शिक्षक पद पर नियुक्ति किए जाने का आश्वासन दिया गया था। 1 बावजूद इसके शासनादेश नहीं बनाया गया। उन्होंने पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि यदि सरकार द्वारा शासनादेश को जल्द लागू न किए जाने व उसमें मृतक आश्रितों की योग्यताओं की अनदेखी किए जाने की दशा में संघ के पदाधिकारी प्रदेशव्यापी विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर होगें। बैठक में प्रदेश महामंत्री विनोद यादव, प्रदेश सचिव पंकज बाजपेई व कोषाध्यक्ष हर्षित अरोड़ा समेत तमाम लोग उपस्थित थे।

Sunday, 27 March 2016

फतेहपुर : बच्चों के परीक्षा परिणाम को विद्यालय उत्सव के आयोजन में वितरित करने और नए शिक्षा सत्र की शुरुआत में विद्यालय नामांकन आदि के सम्बन्ध में बीएसए ने दिए सभी बीईओ को निर्देश, स्कूल चलो अभियान की तैयारियां शुरू, जनप्रतिनिधियों से अपने स्तर से सहयोग लेने को कहा। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

फतेहपुर : 30 मार्च को विद्यालय उत्सव मनाये जाने के सम्बन्ध में सभी एसएमसी अध्यक्षों को  सूचनार्थ और सहयोगार्थ बीएसए ने  लिखा पत्र, शासन की मंशा से अवगत कराते हुए विद्यालय नामांकन हेतु प्रेरित करने का दिया सन्देश। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

फतेहपुर : शासन की मंशानुरूप 30 मार्च को विद्यालय दिवस के सम्बन्ध में विद्यालयों में सहभागिता करने हेतु बीएसए फतेहपुर ने जिले के सभी जनप्रतिनिधियों को दिया न्योता, नामांकन के सम्बन्ध में प्रेरित करने का भी किया निवेदन ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

शिक्षामित्रों की ट्रेनिंग पर नई रिट के बाद खलबली, समायोजित शिक्षामित्रों के खिलाफ दायर हुई नई रिट। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

विधायक जाफरी से मिले शिक्षणेत्तर कर्मचारी नेता, चतुर्थ श्रेणी कर्मियों को विद्यालय में शिक्षक बनने का मौका देने की मांग। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

सहायक अध्यापक उर्दू भर्ती मामला: मोअल्लिमों ने मांगा नियुक्ति पत्र, मांग पूरी न होने पर आंदोलन करने की दी चेतावनी,नवसृजित 1900 पदों में जनरल बीटीसी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को भर्ती प्रक्रिया से दूर रखने की की माँग। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

सहायक अध्यापक उर्दू भर्ती मामला: मोअल्लिमों ने मांगा नियुक्ति पत्र, मांग पूरी न होने पर आंदोलन करने की दी चेतावनी,नवसृजित 1900 पदों में जनरल बीटीसी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को भर्ती प्रक्रिया से दूर रखने की की माँग

नियुक्ति पत्र की मांग को लेकर उर्दू मोअल्लिम डिग्रीधारकों ने शनिवार को प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया। जिला प्रशासन के माध्यम से बेसिक शिक्षा मंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंप प्रदर्शनकारियों ने मांग पूरी न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।1उर्दू फरोज मोअल्लिमीन एसोसिएशन के आह्वान पर हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा
स्थल पर धरना देने के लिए डिग्रीधारक एकत्र हुए। सरकार विरोधी नारेबाजी कर डिग्रीधारकों ने उपेक्षा का आरोप लगाया। धरने का नेतृत्व प्रदेश महासचिव सैयद अमीर हैदर रिजवी ने किया। उन्होंने 1997 तक के सभी डिग्रीधारकों को सहायक अध्यापक उर्दू के पद पर नियुक्त करने की मांग की। वरिष्ठ मंत्री शराफत हुसैन ने कहा कि नवसृजित 1900 पदों में जनरल बीटीसी उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को भर्ती प्रक्रिया से दूर रखा जाए। उन्होंने सहायक अध्यापक के पदों के लिए उर्दू टीईटी उत्तीण अभ्यर्थियों को वरीयता देने की मांग की। धरने में एसोसिएशन मंत्री खान खालिद महमूद, वकार अहमद, आमिर उस्मानी व सैयद कासिम हुसैन सहित अन्य लोग शामिल रहे।
उर्दू डिग्रीधारकों ने गांधी प्रतिमा स्थल पर दिया धरना, मांग पूरी न होने पर आंदोलन करने की दी चेतावनी

परिषदीय स्कूलों की शिक्षा को प्रवेश परीक्षा का आईना आश्रम पध्दति विद्यालयों में दाखिले के लिये परीक्षा ने खोली कलई। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

परिषदीय स्कूलों की शिक्षा को प्रवेश परीक्षा का आईना
आश्रम पध्दति विद्यालयों में दाखिले के लिये परीक्षा ने खोली कलई।

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में पांच साल बाद हुई वार्षिक परीक्षा का रिजल्ट तो 30 मार्च को आएगा लेकिन राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालयों में दाखिले के लिए पहली बार आयोजित प्रवेश परीक्षा ने परिषदीय स्कूलों का चौपट रिपोर्ट कार्ड पहले ही आउट कर दिया है। आश्रम पद्धति विद्यालयों की कक्षा छह में दाखिले के लिए
शामिल हुए परिषदीय विद्यालयों के 36 हजार से अधिक छात्रों में से 2.94 फीसद ही ऐसे हैं जिन्हें 60 प्रतिशत से अधिक अंक मिले। वहीं कक्षा सात और आठ में प्रवेश के लिए प्रत्येक की परीक्षा में बैठने वाले साढ़े तीन हजार से अधिक छात्रों में से क्रमश: 1.09 और 1.49 फीसद ही 60 प्रतिशत से अधिक अंक पा सके हैं।1राज्य सरकार समाज कल्याण/जनजाति विकास विभाग की ओर से संचालित राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालयों को अगले शैक्षिक सत्र से नवोदय विद्यालय की तर्ज पर चलाने का निर्णय कर चुकी है। इन विद्यालयों में बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों के मेधावी बच्चों को प्रवेश देने का फैसला भी किया गया था। राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालयों की कक्षा छह, सात व आठ की लगभग पांच हजार सीटों पर दाखिले के लिए 14 फरवरी को प्रवेश परीक्षा आयोजित करायी गई थी। कक्षा छह में दाखिले के लिए 58 और कक्षा सात व आठ में दाखिले के लिए आठ जिलों में प्रवेश परीक्षा करायी गई थी। प्रवेश परीक्षा के लिए संबंधित जिलों के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी और खंड शिक्षा अधिकारियों को प्रत्येक ब्लॉक में संचालित स्कूलों से 100 श्रेष्ठ छात्रों को नामित करने का निर्देश दिया गया था। कक्षा छह में दाखिले के लिए आयोजित प्रवेश परीक्षा के लिए 58690 छात्रों का पंजीकरण कराया गया था। इनमें से 36141 छात्र प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए। कक्षा सात के लिए पंजीकृत 4674 छात्रों में से 3580 प्रवेश परीक्षा में उपस्थित हुए। वहीं कक्षा आठ में दाखिले के लिए 4610 रजिस्टर्ड छात्रों में से 3547 प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए। प्रवेश परीक्षा के लिए प्रश्नपत्र तैयार करने की जिम्मेदारी बेसिक शिक्षा विभाग के अधीन परीक्षा नियामक प्राधिकारी को ही सौंपी गई थी। 1प्रवेश परीक्षा के परिणामों ने परिषदीय स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता की कलई खोल दी है। कक्षा छह की प्रवेश परीक्षा में शामिल हुए तकरीबन 60 फीसद छात्र ऐसे हैं जिन्हें 30 फीसद से कम अंक

बेसिक शिक्षा विभाग में मृतक आश्रितों के लिए सिर्फ चतुर्थ श्रेणी की नौकरी: दैव की मार, एमबीए और पीएचडी भी चपरासी। ⏳पूरी ख़बर पढ़े : शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

बेसिक शिक्षा विभाग में मृतक आश्रितों के लिए सिर्फ चतुर्थ श्रेणी की नौकरी: दैव की मार, एमबीए और पीएचडी भी चपरासी:

वे नियति का शिकार हैं और विडंबना यह कि अनुकंपा के नाम पर उन पर रहम करने वाले बेसिक शिक्षा विभाग ने जिंदगी में उनके आगे बढ़ने की राह भी रोक दी है। सुनकर आश्चर्य होगा कि बेसिक शिक्षा विभाग में मृत
अध्यापकों के आश्रितों के लिए सिर्फ चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की ही नौकरी है भले ही वे कितने भी शिक्षित हों। 1नतीजा यह है कि एमबीए और पीएचडी करने वाले भी विद्यालयों में चपरासी की नौकरी कर रहे हैं। विभाग ने उनके प्रमोशन की राह नहीं खोल रखी है, शिक्षा मित्र अलबत्ता उसकी प्राथमिकताओं में शामिल हैं।1प्रदेश में लगभग तीस हजार मृतक आश्रित ऐसे हैं जिन पर बेसिक शिक्षा विभाग की रहमदिली उनकी कुंठा का कारण बन गई है। उन्हें मृतक आश्रित कोटे में नियुक्त किया गया है लेकिन विभाग के पास ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि उन्हें प्रशिक्षित करके शिक्षक बनने का अवसर दिया जा सके। हालांकि पहले ऐसा नहीं होता था। 2011 के पहले तक ऐसी नियुक्तियों में बीए-एमए पास लोगों को प्रशिक्षित कराकर उन्हें पदोन्नत किया जाता रहा है। शिक्षा का अधिकार कानून लागू होने के बाद बीटीसी या टीईटी अनिवार्य कर दी गई। तब से उनके लिए कोई नियमावली ही नहीं बनाई गई। उदाहरण के लिए बाराबंकी के जुबैर अहमद एमबीए हैं। मां के निधन के बाद उनकी जगह काम कर रहे हैं। उनके ही जिले में सात और मृतक आश्रित बीएड और टीईटी के बावजूद इसी पद पर काम कर रहे हैं। हाथरस की दीक्षा एलएलबी होकर भी चतुर्थ श्रेणी कर्मी है और नोएडा में आधा दर्जन पीएचडी चपरासी का काम करने को मजबूर हैं।1उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक मृतक आश्रित शिक्षणोतर कर्मचारी संघ के अध्यक्ष जुबेर अहमद के अनुसार पिछले दो सालों से यह मुद्दा वह सरकार के समक्ष उठा रहे हैं। वह कहते हैं कि हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि जो भी उच्च शिक्षित व्यक्ति मृतक आश्रित कोटे के तहत चतुर्थ श्रेणी पद पर काम कर रहा है, उसके लिए विभागीय तौर पर टीईटी पास करने या फिर प्रशिक्षण का रास्ता खोला जाए। ऐसा करने वालों को ही पदोन्नति दी जाए लेकिन विभाग उनकी नहीं सुन रहा है। इसी तरह इंटर करने वालों को लिपिकीय पद पर पदोन्नत किया जाए। संघ ने अब एक मुहिम के तहत सभी विधायकों से अपने लिए पत्र लिखाना शुरू किया है।

Saturday, 26 March 2016

मध्यान्ह भोजन हेतु वित्तीय वर्ष 2015-16 में योजनान्तर्गत निर्गत वित्तीय स्वीकृतियों की धनराशि के कोषागार से आहरण के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

आर0टी0ई0 2009 के परिप्रेक्ष्य में नवविकसित गुणवत्ता अनुश्रवण प्रपत्रों पर सूचना उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

वित्तीय वर्ष 2015-16 में बेसिक शिक्षा परिषदीय विद्यालयों में सामान्य वर्ग के कक्षा 6 से 8 तक के अध्यनरत बालकों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तकों के वितरण के क्रय की गयी पुस्तकों के भुगतान हेतु द्वितीय किश्त की धनराशि का आवंटन। ⏳आदेश की प्रति देखें: शिक्षा विभाग की हलचल डॉट नेट:

Blog Archive

Blogroll