New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आवेदन पत्र भर...

Tuesday, 27 June 2017

LUCKNOW:ANUDESHK BHARTI: 32022 शारीरिक शिक्षा और खेल अनुदेशक भर्ती पर वर्तमान सरकार ने 19 मार्च से अग्रिम आदेश तक समीक्षा के नाम पर भर्ती पर रोक लगा रखी है 🎯10 दिनों से प्रचण्ड गर्मी में बेरोजगार बीपीएड धारकों द्वारा चल रहा है आमरण अनशन। 🎯जब तक भर्ती से रोक नहीं हटेगी तब तक जारी रहेगा आमरण अनशन-प्रदेश अध्यक्ष धीरेन्द्र यादव 🎯डेढ़ लाख से बीपीएड धारकों ने किया था आवेदन, सब्र टूटने पर बैठे आमरण अनशन पर।

ANUDESHK BHARTI: 32022 शारीरिक शिक्षा और खेल अनुदेशक भर्ती पर वर्तमान सरकार ने 19 मार्च से अग्रिम आदेश तक समीक्षा के नाम पर भर्ती पर रोक लगा रखी है
🎯10 दिनों से प्रचण्ड गर्मी में बेरोजगार बीपीएड धारकों द्वारा चल रहा है आमरण अनशन।
🎯जब तक भर्ती से रोक नहीं हटेगी तब तक जारी रहेगा आमरण अनशन-प्रदेश अध्यक्ष धीरेन्द्र यादव
🎯डेढ़ लाख से बीपीएड धारकों ने किया था आवेदन, सब्र टूटने पर बैठे आमरण अनशन पर।

शारीरिक शिक्षा और खेल अनुदेशक भर्ती पर लगी रोक को हटाने की मांग के लिए रविवार को प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक बीपीएड संषर्घ मोर्चा यूपी के डिग्री धारकों ने लक्ष्मण मेला स्थल पर अनशन किया।
अध्यक्ष धीरेन्द्र प्रताप यादव ने बताया कि प्रदेश के 32022 उच्च प्राथमिक विद्यालयों में ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए गए थे। इसमें डेढ़ लाख से अधिक युवाओं ने आवेदन किया। दूसरी ओर प्रदेश की वर्तमान सरकार ने 19 मार्च से अग्रिम आदेश तक समीक्षा के लिए इन भर्तियों पर रोक लगा दी।


गलत चयन के गुनाहगारों को सजा दें सीएम साहब, मऊ के एक शिक्षक ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग के गुनाहगारों को सजा देने की मांग की

अतिथि प्रवक्ताओं के भरोसे होगी पढ़ाई, चार संकायों के 42 विभागों में फिर की जाएगी 214 अतिथि प्रवक्ताओं की तैनाती, लिए जा चुके हैं आवेदन

FATEHPUR : बीएसए सीयूजी को नही दे रहे तवज्जो, 24 घण्टे खुलने की जगह सुबह से शाम तक बंद रहा सीयूजी नम्बर

पीसीएस के बाद खुल सकते हैं अन्य भर्तियों के रास्ते , दो दर्जन भर्तियों के इंटरव्यू पर महीनों से लगी है रोक, भर्तियां दोबारा शुरू किए जाने की मांग ने पकड़ी तेजी

नीट की सामान्य मेरिट में आरक्षित वर्ग को जगह नहीं, बदले आरक्षण पैटर्न से आरक्षित वर्ग के 9000 अभ्यर्थियों का नुकसान

प्राचार्यों की गलत नियुक्ति के मामले ने फिर पकड़ा तूल, निशाने पर उच्चतर शिक्षा सेवा चयन आयोग के अफसर

प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में अब बटेंगी किताबें, वक जुलाई से खुल रहे विद्यालय, इसी दिन से वितरण शुरू की संभावना


चयन बोर्ड भंग हुआ तो होंगे गम्भीर परिणाम, 90 दिनों में विद्यालयों में खाली पदों पर भर्ती शरू करने के वायदे को पूरा करने के बजाए सरकार चयन बोर्ड भंग करने की बना रही योजना

बार बार आश्वासन से आजिज आए प्रतियोगी, अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्तियों पर नही हुआ कोई फैसला


Fatehpur : बीईओ और शिक्षक मिलकर स्कूलों की करेंगे सफाई

ALLAHABAD:अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्ती प्रक्रिया पूरी कराने को अभ्यर्थी एकजुट🎯तीन माह से 11 हजार पदों का साक्षात्कार ठप🎯28 जून को विधानसभा का घेराव करने व लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान पर अनशन करेंगे।

अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्ती प्रक्रिया पूरी कराने को अभ्यर्थी एकजुट
🎯तीन माह से 11 हजार पदों का साक्षात्कार ठप
🎯28 जून को विधानसभा का घेराव करने व लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान पर अनशन करेंगे।
राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद।सूबे में ग्राम विकास अधिकारी, कनिष्ठ सहायक और सहायक लेखाकार जैसे करीब 11 हजार पदों की साक्षात्कार प्रक्रिया तीन माह से ठप पड़ी है। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की भर्तियों में लगी रोक हटाने के लिए अब फिर अभ्यर्थी एकजुट हुए हैं। 28 जून को विधानसभा का घेराव करने व लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान पर अनशन करने की रणनीति तैयार हो गई है। आयोग के अभ्यर्थियों का कहना है कि 11 हजार पदों में साक्षात्कार की प्रक्रिया अंतिम चरण में थी, तभी 28 मार्च को उसे एकाएक ठप करा दिया गया। इन पदों के लिए करीब 40 हजार अभ्यर्थी दावेदार हैं और उनमें से 90 फीसद साक्षात्कार दे चुके हैं। अभ्यर्थियों ने कहा कि लिखित परीक्षा, टाइपिंग व शारीरिक परीक्षा उत्तीर्ण करके वह इंटरव्यू में पहुंचे, लेकिन उसे रोक दिया गया। इसके विरोध में कई बार धरना, अनशन और घेराव हो चुका है। सरकार के मंत्री और प्रशासन के बड़े अफसर लगातार वादे कर रहे हैं, लेकिन एक वादा पूरा नहीं हो सका है। बीते एक जून को मुख्य सचिव ने आश्वस्त किया था कि इसी माह भर्ती प्रक्रिया शुरू करा दी जाएगी, लेकिन यह माह पूरा को है इस ओर किसी का ध्यान नहीं है। इलाहाबाद के चंद्रशेखर आजाद पार्क में अभ्यर्थियों ने बैठक करके रणनीति बनाई कि अब भर्ती रोकने के तीन माह पूरा होने की तारीख 28 जून को आंदोलन फिर आंदोलन करेंगे। बैठक में अखिलेश सिंह, गुलाब, राहुल मौर्य, विजय, आशीष त्रिपाठी, काशिफ आदि मौजूद थे।


ALLAHABAD:डीएलएड पंजीकरण को मारामारी,अब तक करीब तीन लाख पंजीकरण और डेढ़ लाख आवेदन होने की सूचना🎯वहीं 56 हजार 427 ने फाइनल आवेदन यानी शुल्क के साथ कर दिया है।🎯प्रदेश के 63 जिला शिक्षा व प्रशिक्षण संस्थान यानी डायट की 10500 व 1422 निजी कॉलेजों की 71100 (कुल 81600) सीटों पर डीएलएड 2016 के लिए दाखिला होना है।🎯परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डॉ. सुत्ता सिंह ने बताया कि इस बार अभ्यर्थियों को काउंसिलिंग में दौड़ भाग करने से राहत मिलेगी, क्योंकि पहली बार ऑनलाइन काउंसिलिंग कराने की तैयारी है। 🎯वहीं, ऑनलाइन आवेदन में संशोधन के लिए 10 से 13 जुलाई की शाम 6 बजे तक अवसर मिलेगा।

डीएलएड पंजीकरण को मारामारी,अब तक करीब तीन लाख पंजीकरण और डेढ़ लाख आवेदन होने की सूचना
🎯वहीं 56 हजार 427 ने फाइनल आवेदन यानी शुल्क के साथ कर दिया है।
🎯प्रदेश के 63 जिला शिक्षा व प्रशिक्षण संस्थान यानी डायट की 10500 व 1422 निजी कॉलेजों की 71100 (कुल 81600) सीटों पर डीएलएड 2016 के लिए दाखिला होना है।
🎯परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डॉ. सुत्ता सिंह ने बताया कि इस बार अभ्यर्थियों को काउंसिलिंग में दौड़ भाग करने से राहत मिलेगी, क्योंकि पहली बार ऑनलाइन काउंसिलिंग कराने की तैयारी है।
🎯वहीं, ऑनलाइन आवेदन में संशोधन के लिए 10 से 13 जुलाई की शाम 6 बजे तक अवसर मिलेगा।

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : बीटीसी का नया नाम डीएलएड यानी डिप्लोमा इन एलीमेंटरी एजुकेशन प्रशिक्षण 2016 में प्रवेश पाने के लिए अब एक सप्ताह का समय बचा है। इस प्रशिक्षण के लिए ऑनलाइन पंजीकरण व आवेदन की प्रक्रिया 14 जून से चल रही है। अब तक करीब तीन लाख पंजीकरण और डेढ़ लाख आवेदन होने की सूचना है। दावेदारी के लिए आठ दिनों का समय बचा है, ज्ञात हो कि तीन जुलाई तक पंजीकरण व सात तक ऑनलाइन आवेदन होंगे।प्रदेश के 63 जिला शिक्षा व प्रशिक्षण संस्थान यानी डायट की 10500 व 1422 निजी कॉलेजों की 71100 (कुल 81600) सीटों पर डीएलएड 2016 के लिए दाखिला होना है। बीते 21 जून को शाम छह बजे तक इन सीटों के सापेक्ष एक लाख 66 हजार 400 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण करा चुके हैं। वहीं 56 हजार 427 ने फाइनल आवेदन यानी शुल्क के साथ कर दिया है। यह आंकड़ा अब और बढ़कर तीन लाख पंजीकरण और व डेढ़ लाख आवेदन तक पहुंच गया है। पिछली बार इतनी ही सीटों पर करीब साढ़े चार लाख से अधिक पंजीकरण हुए थे और करीब चार लाख ने आवेदन किया था। माना जा रहा है कि इस बार पिछला रिकॉर्ड टूट जाएगा। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डॉ. सुत्ता सिंह ने बताया कि आवेदन शुल्क पांच जुलाई तक जमा किए जा सकेंगे। वहीं, ऑनलाइन आवेदन सात जुलाई तक होंगे। ऐसे में आवेदकों की संख्या पिछले वर्षो का रिकॉर्ड तोड़ सकती है। इस बार अभ्यर्थियों को काउंसिलिंग में दौड़ भाग करने से राहत मिलेगी, क्योंकि पहली बार ऑनलाइन काउंसिलिंग कराने की तैयारी है। वहीं, ऑनलाइन आवेदन में संशोधन के लिए 10 से 13 जुलाई की शाम 6 बजे तक अवसर मिलेगा।


ALLAHABAD:सॉफ्टवेयर बताएगा किसका होगा तबादला🎯ऑनलाइन आवेदन में शिक्षकों को मिले अंक ही बनेंगे शिक्षकों के समायोजन, स्थानांतरण और गैर जिले में तबादले का प्रमुख आधार होंगे। 🎯बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक शिक्षकों के तबादले का मामला, अफसर नहीं कर सकेंगे खेल।🎯अधिकतर जनपदों में डाटा फीडिंग न होने के कारण प्रक्रिया जुलाई में ही पूरी हो पाने के आसार हैं।

सॉफ्टवेयर बताएगा किसका होगा तबादला
🎯ऑनलाइन आवेदन में शिक्षकों को मिले अंक ही बनेंगे शिक्षकों के समायोजन, स्थानांतरण और गैर जिले में तबादले का प्रमुख आधार होंगे।
🎯बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक शिक्षकों के तबादले का मामला, अफसर नहीं कर सकेंगे खेल।
🎯अधिकतर जनपदों में डाटा फीडिंग न होने के कारण प्रक्रिया जुलाई में ही पूरी हो पाने के आसार हैं।
राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद।बेसिक शिक्षा परिषद के शिक्षकों के तबादले में अफसर चहेतों को लाभ पहुंचाने का खेल नहीं कर सकेंगे, बल्कि तबादले का आधार तैयार किया गया सॉफ्टवेयर होगा। उसमें शिक्षक को मिले अंकों के आधार पर ही फेरबदल होगा। इसमें हेराफेरी करने पर संबंधित जिले के अफसर की सूचना बिना किसी की शिकायत के ही वरिष्ठ अफसरों तक पहुंच जाएगी। ऐसा करने वाले अफसरों पर कार्रवाई करने की भी योजना है। परिषद के पांच लाख से अधिक शिक्षकों का समायोजन, जिले के अंदर स्थानांतरण व दूसरे जिले में तबादले के लिए पिछले वर्ष की तरह ही ऑनलाइन आवेदन इस बार भी लिए जाने हैं। दोनों वर्ष की प्रक्रिया में सबसे बड़ा अंतर सॉफ्टवेयर का है। विभाग ने इस तरह का सॉफ्टवेयर तैयार कराया है, जिसमें हेराफेरी की गुंजाइश न के बराबर है। इसमें सब कुछ शिक्षकों के ही हाथ में है। अफसरों को केवल मॉनीटरिंग का जिम्मा दिया गया है। यानी शिक्षकों के अप्रैल माह का सैलरी डाटा अपलोड करना, सभी शिक्षकों की सेवा पुस्तिका के जरूरी सूचनाएं अपडेट करना और अतिरिक्त विद्यालय के शिक्षकों ने अपने समायोजन के लिए आवेदन किया गया है या नहीं। इसके बाद समय सारिणी के अनुसार शिक्षकों को ही ऑनलाइन आवेदन करना है। जिलों में समायोजन की प्रक्रिया शुरू है, जो 30 जून तक चलती रहेगी। सॉफ्टवेयर में शिक्षक जैसे ही अपने संबंधित सूचनाएं दर्ज करेंगे, उसी के सापेक्ष उन्हें अंक मिलेंगे, मसलन जितने वर्ष की कुल सेवा है यह दर्ज करते ही उतने अंक उन्हें हासिल होंगे, महिला शिक्षिका है तो पांच अंक अलग से मिलेंगे, दिव्यांग को पांच अंक और असाध्य रोगी शिक्षक को भी पांच अंक मिलेंगे। यह अंक ही शिक्षक के समायोजन, स्थानांतरण और गैर जिले में तबादले का प्रमुख आधार होंगे। अधिक अंक पाने वालों को ही अपनी पसंद के विद्यालय, जिला में जाने का पहले मौका मिलेगा। जिलाधिकारी या फिर बेसिक शिक्षा अधिकारी इन अंकों में हेरफेर नहीं कर सकेंगे और न ही कम अंक वाले शिक्षक को पहले विद्यालय आवंटित कर पाएंगे। तबादलों में इन अफसरों की भूमिका केवल यह देखने भर की होगी कि जो सूचनाएं ऑनलाइन अपलोड की गई हैं, वह पूरी तरह से सही हैं या नहीं। अतिरिक्त शिक्षक को ऑनलाइन आवेदन करना ही होगा, यदि वह आवेदन नहीं करता है तो बेसिक शिक्षा अधिकारी अपने मन मुताबिक विद्यालय में उसे भेज सकता है। गड़बड़ी रोकने को तबादलों में पैन कार्ड व आधार अनिवार्य किया गया है।
📚तमाम जिलों में चल रही फीडिंग→शासन ने बेसिक शिक्षकों के समायोजन, स्थानांतरण व अंतर जिला तबादले का आदेश जारी कर दिया है और 30 जून तक समायोजन के आवेदन होने हैं लेकिन, सूबे के कई जिलों में अभी शिक्षकों की सूचनाएं सॉफ्टवेयर पर अपलोड की जा रही हैं इससे यह प्रक्रिया जुलाई में ही पूरी हो पाने के आसार हैं।


Monday, 26 June 2017

शिक्षक भर्ती को आरपार की लड़ाई की घोषणा

भर्ती अटकने से भड़के अभ्यर्थी , आंदोलन की तैयारी

9342 LT GRADE TEACHER REQUIREMENTS : भर्ती जल्द शुरू होने के आसार, डिप्टी सीएम ने दिया आश्वासन

निजी स्कूलों की फीस पर लगाम लगाएगी सरकार

एएसयू में शिक्षकों की संख्या बढ़ाने की तैयारी, इस बार शुरू होंगी नई कक्षाएं, अतिरिक्त शिक्षकों की पड़ेगी जरूरत

शिक्षा की तार्किकता पर विचार करने का सही समय - ऋतु सारस्वत

असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती - लिखित परीक्षा के लिए कोर्ट जाएंगे प्रतियोगी

भर्ती मामले में डीआईओएस नपे, पद के दुरुपयोग के भी पाए गए दोषी, भतीजी की भी कराई थी नियुक्ति

ठगी का खेल खुला तो फर्जी बोर्ड गुल, राजधानी में चल रहे और भी फर्जी बोर्ड

बीएड कोर्स में अभी भी एक लाख सीटें खाली- अभी तक 1.94 लाख सीटों में से 94 हजार सीटें ही भर पाई- आगे पूल काउंसिलिंग से सीटें भरने की तैयारी, आज नहीं होगी काउंसिलिंग

बीएड कोर्स में अभी भी एक लाख सीटें खाली

- अभी तक 1.94 लाख सीटों में से 94 हजार सीटें ही भर पाई

- आगे पूल काउंसिलिंग से सीटें भरने की तैयारी, आज नहीं होगी काउंसिलिंग

जागरण संवाददाता, लखनऊ :

बीएड के दो वर्षीय कोर्स में दाखिले के लिए अभी तक बीएड की कुल 1.94 लाख में से लगभग 94 हजार सीटों पर ही अभ्यर्थियों ने दाखिले लिए हैं। ऐसे में करीब एक लाख सीटें अभी खाली हैं। अब इन्हें पूल काउंसिलिंग से भरने की तैयारी की जा रही है।

बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा के राज्य समन्वयक प्रो. एनके खरे ने बताया कि अभी तक 94 हजार सीटों पर ही दाखिले हुए हैं। अंतिम एलाटमेंट 30 जून को होगा और उसके बाद खाली सीटों को पूल काउंसिलिंग से भरने के लिए बैठक बुलाई जाएगी। बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा में करीब 4.15 लाख अभ्यर्थी अर्ह घोषित किए गए थे। बीएड की काउंसिलिंग में अभी 3.50 लाख अभ्यर्थियों को ही दाखिले के लिए आमंत्रित किया गया था। ऐसे में बाकी 65 हजार विद्यार्थियों को काउंसिलिंग में मौका देने और पूल काउंसिलिंग करवाने के लिए आगे बैठक आयोजित की जाएगी। प्रो. एनके खरे ने बताया कि सोमवार को ईद के त्यौहार के मौके पर अवकाश रहेगा और काउंसिलिंग नहीं होगी।

Sunday, 25 June 2017

UNNAO:गुनहगारों पर जल्द ही गिर सकती है गाज 🎯शिक्षा विभाग में घोटालों की होगी उच्चस्तरीय जांच 🎯बीएसए कार्यालय पहुंच बेसिक शिक्षा निदेशक ने गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी पूछे सवाल, शिक्षा विभाग में मची खलबली

गुनहगारों पर जल्द ही गिर सकती है गाज
🎯शिक्षा विभाग में घोटालों की होगी उच्चस्तरीय जांच
🎯बीएसए कार्यालय पहुंच बेसिक शिक्षा निदेशक ने गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी पूछे सवाल, शिक्षा विभाग में मची खलबली
जागरण संवाददाता, उन्नाव: बेसिक शिक्षा महकमे के स्थलीय पटल से भ्रष्टाचार के उठ रहे मामलों पर जांच तेज है। एक तरफ जहां छापेमारी की कार्रवाई के बाद जांच रिपोर्ट को आगे बढ़ाने की तैयारी सीडीओ कर रहे हैं, वहीं शनिवार को बेसिक शिक्षा निदेशक ने भी कुछ पन्नों को उलटने का काम शुरू हो गया है। कुछ सवालों के जवाब मौके से लिए। इस दौरान महकमे में खलबली मची गई है। बेसिक शिक्षा निदेशक डा. सर्वेंद्र बहादुर विक्रम सिंह एसवीएम में आयोजित एक शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम के बाद वह बेसिक शिक्षा कार्यालय पहुंचे। साथ में बीएसए दीवान सिंह यादव भी थे। करीब 20 मिनट तक वह सर्व शिक्षा अभियान को लेकर होने वाले कार्यों की समीक्षा की। इस बीच उन्होंने कई और मामलों की जानकारी की। इस दौरान उन्होंने जूनियर हाईस्कूल में विज्ञान और गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी सवाल-जवाब किए। सूत्रों का कहना है कि उन्होंने सीडीओ द्वारा की गई छापेमारी में सामने आई फाइलों में कमी, शिक्षकों के जीपीएफ भुगतान, दिव्यांग और मृतक आश्रित सहित प्रेरकों के भुगतान संबंधी जानकारी भी की। पटल सहायकों के बारे में भी पूछताछ की। साथ ही खंड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले की रिपोर्ट पर भी जवाब लिया। 1गर्दन फंसने से पहले बचने की कोशिश : सीडीओ की छापेमारी में कई ¨बदुओं पर सामने आए भ्रष्टाचार की जांच में कई चेहरे का रंग उड़ा है। जांच रिपोर्ट पर डीएम की सहमति पर आगे की कार्रवाई तय होगी। इससे पहले सामने आ रहे अधिकारी व बाबू अपने आप को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। वहीं, पटल सहायकों ने भी अपने हिस्से के कार्यों को मूरत रूप देना शुरू किया है। फाइलों से धूल हटाने भी तेज हो चुका है। यही नहीं, ठंडे बस्ते में पड़े बिलों को भी ढूंढ़ अपनों को बचाने की कवायद भी तेज हो चली है। 1 76 परीक्षार्थी हुए परीक्षा में शामिल उन्नाव: जवाहर नवोदय विद्यालय फतेहपुर चौरासी में आयोजित प्रवेश परीक्षा शनिवार को सुबह 10 बजे से शुरू हुई। तीन घंटे की परीक्षा में 9वीं कक्षा में दाखिले की दौड़ देखने को मिली। यहां 80 रिक्त सीटों पर 76 छात्र-छात्रओं ने परीक्षा दी। जूनियर हाईस्कूल के प्रमाण पत्र के आधार पर परीक्षा कराई गई है। यहां पर नि:शुल्क प्रवेश के साथ ही बेहतर शिक्षा पास होने वाले परीक्षार्थियों को दिया जाएगा। प्रधानाचार्य आरआर कसर ने बताया कि परीक्षा शांतिपूर्वक कराई गई। 1जागरण संवाददाता, उन्नाव: बेसिक शिक्षा महकमे के स्थलीय पटल से भ्रष्टाचार के उठ रहे मामलों पर जांच तेज है। एक तरफ जहां छापेमारी की कार्रवाई के बाद जांच रिपोर्ट को आगे बढ़ाने की तैयारी सीडीओ कर रहे हैं, वहीं शनिवार को बेसिक शिक्षा निदेशक ने भी कुछ पन्नों को उलटने का काम शुरू हो गया है। कुछ सवालों के जवाब मौके से लिए। इस दौरान महकमे में खलबली मची गई है। 1बेसिक शिक्षा निदेशक डा. सर्वेंद्र बहादुर विक्रम सिंह एसवीएम में आयोजित एक शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम के बाद वह बेसिक शिक्षा कार्यालय पहुंचे। साथ में बीएसए दीवान सिंह यादव भी थे। करीब 20 मिनट तक वह सर्व शिक्षा अभियान को लेकर होने वाले कार्यों की समीक्षा की। इस बीच उन्होंने कई और मामलों की जानकारी की। इस दौरान उन्होंने जूनियर हाईस्कूल में विज्ञान और गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी सवाल-जवाब किए। सूत्रों का कहना है कि उन्होंने सीडीओ द्वारा की गई छापेमारी में सामने आई फाइलों में कमी, शिक्षकों के जीपीएफ भुगतान, दिव्यांग और मृतक आश्रित सहित प्रेरकों के भुगतान संबंधी जानकारी भी की। पटल सहायकों के बारे में भी पूछताछ की। साथ ही खंड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले की रिपोर्ट पर भी जवाब लिया।
📚गर्दन फंसने से पहले बचने की कोशिश : सीडीओ की छापेमारी में कई ¨बदुओं पर सामने आए भ्रष्टाचार की जांच में कई चेहरे का रंग उड़ा है। जांच रिपोर्ट पर डीएम की सहमति पर आगे की कार्रवाई तय होगी। इससे पहले सामने आ रहे अधिकारी व बाबू अपने आप को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। वहीं, पटल सहायकों ने भी अपने हिस्से के कार्यों को मूरत रूप देना शुरू किया है। फाइलों से धूल हटाने भी तेज हो चुका है। यही नहीं, ठंडे बस्ते में पड़े बिलों को भी ढूंढ़ अपनों को बचाने की कवायद भी तेज हो चली है।


यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव ने संभाला कार्यभार

अब पत्राचार पाठ्यक्रम यूजीसी के नए नियम से ही चलेंगे

10 से कम विद्यार्थी पर ही समायोजित होंगे शिक्षक, उप मुख्यमंत्री के बाद शिक्षक संघ ने स्थगित किया धरना

Blog Archive

Blogroll