New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आवेदन पत्र भर...

Friday, 20 January 2017

शिक्षा के साथ स्वच्छता भी जरूरी

शिक्षा के साथ स्वच्छता भी जरूरी

1राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : अध्यापक बच्चों को शिक्षा प्रदान करते हैं, लेकिन शिक्षक का कार्य यहीं तक सीमित नहीं किया जा सकता। वास्तव में बच्चों के लिए जो भी आवश्यक है उसका ज्ञान देना शिक्षक का दायित्व होता है। इसी के तहत स्वास्थ्य और स्वच्छता भी आती है जो कि प्रत्येक व्यक्ति की मूलभूत आवश्यकता है यह व्यक्तिगत स्वच्छता एवं व्यवहार में परिवर्तन पर आधारित है। यह बात राज्य शैक्षिक प्रबंधन एवं प्रशिक्षण संस्थान (सीमैट) उप्र के निदेशक संजय सिन्हा ने कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों के वार्डेनों के सुरक्षा एवं संरक्षा विषय पर आयोजित चार दिवसीय प्रशिक्षण के पांचवें चक्र की समाप्ति कही। उन्होंने कहा कि समाज में कई जगह बालिकाओं की तुलना में बालकों को अधिक महत्व दिया जाता है इस कारण उनके भोजन पर अधिक ध्यान दिया जाता है। इस कारण बालिकाएं कई बार स्वास्थ्य की दृष्टि से कमजोर हो जाती हैं इसलिए जरूरी है कि बालिकाओं के साथ जेंडर के आधार पर भेदभाव नहीं करें। विभागाध्यक्ष डॉ. अमित खन्ना ने कहा कि बच्चे स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के विभिन्न रूपों से अवगत हों, इसमें शिक्षक की भूमिका महत्वपूर्ण होती है।

Blog Archive

Blogroll

Recommended Posts × +