New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2017 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2017 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आव...

Sunday, 12 February 2017

21 फरवरी को देशभर में मनाया जायेगा मातृदिवस, जल्द घोषित होने वाली शिक्षा नीति में भारतीय भाषाओं पर जोर

उच्च शिक्षण संस्थाओं में भी मातृभाषा को बढ़ावा

जल्द घोषित होने वाली शिक्षा नीति में भारतीय भाषाओं पर जोर

इन भाषाओं को बढ़ावा देने के लिए सरकार कर सकती है नई घोषणा

सांस्कृतिक एकजुटता का भी जरिया1शैक्षणिक जगत में मातृभाषा की उपेक्षा को दूर करने के साथ ही मंत्रलय ने इस बात पर भी जोर दिया है कि इस दिवस का उपयोग देश की भाषाई और सांस्कृतिक परंपरा को छात्रों के सामने पेश करने के लिए भी किया जाए। उसने कहा है कि इस मौके पर आयोजनों में देश की भाषाई विविधता के साथ ही सांस्कृतिक विविधता पर भी जोर दिया जाए। इसके लिए साहित्य, शिल्प, कला, लिपि और रचनात्मक अभिव्यक्ति के अन्य माध्यमों के जरिये देश के समृद्ध इतिहास के बारे में भी बताया जाए। साथ ही छात्रों को अपनी मातृभाषा के साथ ही दूसरी भाषाओं को सीखने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाए।

तैयारी

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली : समाज और जीवन में मातृभाषा की अहमियत को समझाने के लिए 21 फरवरी को देशभर के स्कूल-कॉलेजों में मातृभाषा दिवस का आयोजन किया जाएगा। इस मौके पर मानव संसाधन विकास मंत्रलय इन भाषाओं को बढ़ावा देने के लिए कोई नई घोषणा भी कर सकता है। जल्द ही घोषित होने वाली राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भी मातृभाषा को नए सिरे से अहमियत दिए जाने की हो रही है। 1केंद्रीय मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रलय के निर्देश पर सभी शिक्षण संस्थानों से कहा गया है कि वे 21 फरवरी को इस मौके पर अपने संस्थानों में मातृभाषा को बढ़ावा देने वाली विभिन्न गतिविधियां आयोजित करें। साथ ही इन गतिविधियों की सूचना और चित्र अपने राज्य बोर्ड, सीबीएसई अथवा यूजीसी को ईमेल के जरिये भेजें। इस मौके पर शिक्षण संस्थानों को भाषण, वाद-विवाद, गायन, लेख प्रतियोगिता, संगीत और नाटक आदि आयोजित करने को कहा गया है। साथ ही यह भी कहा गया है कि कोशिश की जाए कि इन प्रतियोगिताओं और आयोजनों में अधिक से अधिक स्थानीय भाषाओं को समाहित किया जा सके। छात्रों को स्थानीय भाषाओं में ऑनलाइन संसाधन उपलब्ध करवाने पर भी जोर दिया जाए। साथ ही देश की भाषाई और सांस्कृतिक विविधता को दर्शाने वाली प्रदर्शनियां आयोजित की जाएं। 1लंबे समय से यह आरोप लगता रहा है कि देश की तीन हजार से ज्यादा भाषाएं शिक्षा जगत में बहुत उपेक्षित होती रही हैं।

Blog Archive

Blogroll