��हलचल एक नाम विश्वास का ��शिक्षा विभाग की समस्त खबरें एवं आदेश सबसे तेज एवं सबसे विश्वसनीय सिर्फ हलचल पर - सौरभ त्रिवेदी

Breaking

New

उ0प्र0 शिक्षक पात्रता परीक्षा 2017 में आवेदन हेतु ऑनलाइन प्रक्रिया प्रारम्भ, आप यहाँ से सुगमता से सभी दिशा निर्देश पढ़ते हुए आवेदन करें, UPTET 2017 ONLINE PROCESS SYSTEM NOW AVAILABLE, CLICK HERE TO FILL FORM

आवेदन पत्र भरने हेतु महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश ऑनलाइन आवेदन करने से पूर्व दिशा निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ लें एवं आव...

Saturday, 18 March 2017

12460 : FATEHPUR : शिक्षक भर्ती के ऑनलाइन आवेदन में फर्जीवाड़ा!बेसिक शिक्षा के 12460 पदों की भर्ती के लिए किए गए ऑनलाइन आवेदन में व्यापक पैमाने पर फर्जीवाड़ा उजागर, अब सत्यापन के बाद ही मिलेंगे नियुक्ति पत्र :

शिक्षक भर्ती के ऑनलाइन आवेदन में फर्जीवाड़ा!बेसिक शिक्षा के 12460 पदों की भर्ती के लिए किए गए ऑनलाइन आवेदन में व्यापक पैमाने पर फर्जीवाड़ा उजागर, अब सत्यापन के बाद ही मिलेंगे नियुक्ति पत्र :

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : बेसिक शिक्षा के 12460 पदों की भर्ती के लिए किए गए ऑनलाइन आवेदन में व्यापक पैमाने पर फर्जीवाड़ा उजागर हो गया है। फर्जी अभिलेखों को ऑनलाइन आवेदन से जोड़ते हुए खुद को उच्च गुणांक का दावेदार दर्शाया गया है। पड़ताल में उजागर हुआ है कि जिस रोल नंबर की मार्कशीट लगाई गई है उसके रोल नंबर में बोर्ड व विश्व विद्यालय की साइट में दूसरे का नाम पता दर्ज है। फर्जीवाड़ा करने वाले भले ही बाद में कानून के शिकंजे में फंस जाएं, लेकिन मौजूदा समय में सैकड़ों प्रशिक्षु नौकरी की लाइन से बाहर खड़े हो जाएंगे। 1शासन द्वारा सहायक अध्यापक भर्ती को हरी झंडी दी है, जिसके तहत जिले में 252 पदों के सापेक्ष 963 महिला-पुरुष प्रशिक्षुओं ने दावा किया है। 963 दावेदारों के बजाए 147 दावेदारों की सूची में भारी पैमाने पर शैक्षिक प्रमाण पत्रों से छेड़छाड़ करके नौकरी पाने का प्रयास किया है। रोल नंबर में हेरफेर के साथ लिंग भी बदले हुए दिख रहे हैं। भर्ती की ऑनलाइन दावेदारी और बोर्ड तथा विश्व विद्यालय की वेबसाइट की मिलान में हेराफेरी स्पष्ट दिख रही है। शुक्रवार को यह मामला उजागर होने से गुणांक से बाहर होने वालों में मायूसी के बादल दिखाई दिए। फर्जीवाड़े की शिकायत डीएम समेत अफसरों को भेजी है। मामले पर बीएसए विनय कुमार सिंह ने कहाकि ऑनलाइन आवेदन करने वालों को काउंसिलिंग में शामिल करने से रोक नहीं सकते हैं। काउंसिलिंग के समय उनके द्वारा जो अभिलेख लगाए गए हैं वह मूल रूप से जमा कराए जाएंगे। इसके बाद इनका सत्यापन कराया जाएगा। जिसमें फर्जी शैक्षिक प्रमाण पत्र लगाने का मामला पकड़ में आएगा। सत्यापन में शैक्षिक प्रमाण पत्रों के फर्जी पाए जाने पर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

सत्यापन के बाद मिलेंगे नियुक्ति पत्र : सचिव बेसिक शिक्षा संजय सिन्हा ने शुक्रवार को आदेश जारी किया है, जिसमें साफ कर दिया है कि काउंसिलिंग में जमा होने वाले शैक्षिक अभिलेखों का सत्यापन 15 दिन के अंदर कराया जाए। सत्यापन के बाद ही नियुक्ति पत्र दिए जाएंगे। यह खबर गुणांक से बाहर हुए युवाओं के लिए राहत वाली है।

Adbox