New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आवेदन पत्र भर...

Wednesday, 24 May 2017

एक दर्जन बीएसए गलत नियुक्तियों के घेरे में फंसे,प्रदेश भर के सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों की शिक्षक भर्ती में हळ्ई गड़बड़ियां जिलों में नियुक्ति विज्ञापन, अनुभव व योग्यता जांचने में हळ्ई खानापूर्ति,शिक्षा निदेशालय और मंडल अफसरों की साझा टीम जांच में जुटी

एक दर्जन बीएसए गलत नियुक्तियों के घेरे में फंसे

भर्ती मामला

प्रदेश भर के सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों की शिक्षक भर्ती में हळ्ई गड़बड़ियां

जिलों में नियुक्ति विज्ञापन, अनुभव व योग्यता जांचने में हळ्ई खानापूर्ति,शिक्षा निदेशालय और मंडल अफसरों की साझा टीम जांच में जुटी

धर्मेश अवस्थी, इलाहाबाद 1प्रदेश भर के सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों की शिक्षक भर्ती में जमकर गड़बड़ियां हुई हैं। विभागीय अफसरों ने आठ माह पहले कई बेसिक शिक्षा अधिकारियों को चिह्न्ति किया, उसकी अब जांच शुरू हो गई है। शिक्षा निदेशालय और मंडल अफसरों की साझा जांच टीम को तमाम जिलों में नियुक्ति विज्ञापन, अनुभव व योग्यता जांचने में खानापूरी मिली है। कई जिलों में तो बिना निर्देश के ही लिपिकों को नियुक्ति दे दी गई। ऐसे एक दर्जन बीएसए पर जल्द कार्रवाई होने के आसार हैं।1अशासकीय जूनियर हाईस्कूल में शिक्षकों की कमी दूर करने को न्यूनतम मानक के तहत शैक्षिक पदों को भरने के आदेश छह नवंबर 2015 को हुए। पहले अशासकीय सहायता प्राप्त 2888 जूनियर हाईस्कूलों में प्रधानाध्यापक व सहायक अध्यापकों की कमी सामने आई थी। शासन ने पदों की संख्या तय करने के बजाए सीधी भर्ती से न्यूनतम मानक पूरा करने का आदेश दिया। तत्कालीन शिक्षा निदेशक बेसिक डीबी शर्मा ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों को शिक्षकों की सीधी भर्ती करने के लिए पहले 31 मार्च 2016 तक की मियाद तय की थी, लेकिन वह पूरी नहीं हो सकी। बाद में इसे बढ़ाकर 31 जुलाई 2016 किया गया। बेसिक शिक्षा अधिकारियों ने इन भर्तियों में जमकर मनमानी की। जिलों में भर्ती से पहले विज्ञापन तक नहीं निकाले गए, बल्कि साठगांठ करके चहेतों को प्रधानाध्यापक व सहायक अध्यापक के रूप में तैनाती दी गई। नियुक्ति से पूर्व अनुभव प्रमाणपत्र का अभिलेखों से मिलान नहीं किया गया। अफसरों ने प्रदेश भर में 800 नियुक्तियां की हैं। इसमें 147 प्रधानाध्यापक व 653 सहायक अध्यापक हैं। इनमें गोरखपुर सबसे अधिक भर्ती हुई। पिछले दिनों वहां के बेसिक शिक्षा अधिकारी को नियुक्ति में खामी के कारण निलंबित किया जा चुका है। इसके बाद बलिया में भी गड़बड़ी उजागर हो चुकी है, लेकिन प्रकरण हाईकोर्ट में लंबित होने के कारण वहां के बीएसए पर अभी कार्रवाई नहीं हुई है। 1निदेशालय से ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि बलिया के बीएसए पर बड़ी कार्रवाई होना तय है। इसके बाद कानपुर, आजमगढ़, वाराणसी, लखनऊ, इलाहाबाद व बस्ती आदि में बड़े पैमाने पर नियुक्तियां हुई हैं। वहीं, देवरिया, आगरा, चंदौली, वाराणसी आदि जिलों की नियुक्तियों में जमकर घालमेल किया गया है। सरसरी तौर पर तमाम गड़बड़ी पहले ही पकड़ में आ चुकी है, लेकिन अब जांच टीमों को भी ऐसे सबूत मिले हैं। कई जिलों में मनमाने तरीके से लिपिकों को भी नियुक्ति दी गई है, जबकि शिक्षणोत्तर कर्मियों की नियुक्ति नहीं होनी थी। 1बेसिक शिक्षा अपर निदेशक विनय कुमार पांडेय ने बताया कि शासन ने एक स्कूल में प्रधानाध्यापक, चार सहायक अध्यापक का मानक पूरा किए जाने के निर्देश थे। उनमें गड़बड़ियों की शिकायतें होने पर इलाहाबाद, वाराणसी, मिर्जापुर, गोरखपुर, देवीपाटन समेत मंडलों में नियुक्ति व अन्य कार्यो की जांच हो रही है। इसके लिए शिक्षा निदेशालय और मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक कार्यालय के अफसरों को लगाया गया है।

Blog Archive

Blogroll

Recommended Posts × +