��हलचल एक नाम विश्वास का ��शिक्षा विभाग की समस्त खबरें एवं आदेश सबसे तेज एवं सबसे विश्वसनीय सिर्फ हलचल पर - सौरभ त्रिवेदी

Breaking

Latest Update

बीटीसी 2014 चतुर्थ सेमेस्टर परीक्षा परिणाम डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें, BTC 2014 4rth SEMESTER EXAM RESULT DECLARED, CLICK HERE TO DOWNLOAD

पार्ट - 1रिजल्ट ( PART -1 RESULT )    परीक्षा परिणाम डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें  ( पार्ट - 1 )     पार्ट 2 डाउनलोड करने के लिए...

Monday, 29 May 2017

परिक्षेत्र में 75.06 परीक्षार्थी सफललड़कियों ने लहराया परचमटॉपर मेधावियों की सूची नहीं हुई जारीवाराणसी और कानपुर रहे आगे

परिक्षेत्र में 75.06 परीक्षार्थी सफल

लड़कियों ने लहराया परचम

टॉपर मेधावियों की सूची नहीं हुई जारी

वाराणसी और कानपुर रहे आगे

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की इंटरमीडिएट परीक्षा 2017 का परिणाम रविवार दोपहर में जारी हो गया है। इसमें लड़कियों ने फिर परचम लहराया है। क्षेत्रीय कार्यालय ने टॉपर मेधावियों की इस बार सूची नहीं जारी की है लेकिन, शिखर पर आने वाले परीक्षार्थियों की संख्या चार है और यह सभी कानुपर व वाराणसी के कालेजों की छात्रएं हैं। इलाहाबाद परिक्षेत्र में इंटरमीडिएट परीक्षा का परिणाम 75.06 फीसद रहा है। इसमें लड़कियां चार फीसद अंकों के फासले के साथ आगे रही हैं। 1इलाहाबाद परिक्षेत्र की सीबीएसई इंटर परीक्षा में चार छात्रएं समान अंक पाकर शिखर पर हैं। इसमें सनबीम भगवानपुर स्कूल लंका वाराणसी की खुशी अग्रवाल व इसी कालेज की गरिमा लोहिया, दिल्ली पब्लिक स्कूल वाराणसी की कृतिका शाह और दिल्ली पब्लिक स्कूल बिठूर कल्याणपुर कानुपर की ऊष्मी टंडन शामिल हैं। इन चारों को 98.2 फीसद यानी 491-491 अंक हासिल हुए हैं। इनमें से तीन कामर्स और एक मानविकी संकाय की छात्र रही है। इस बार विज्ञान संकाय को शिखर पर रहने का मौका नहीं मिल सका है। इंटर परीक्षा में परिक्षेत्र के 997 स्कूलों ने प्रतिभाग किया था। 289 स्कूलों में हुई परीक्षा में कुल एक लाख 20 हजार 907 परीक्षार्थी शामिल हुए। इसमें 77 हजार 642 छात्र व 43 हजार 265 छात्रएं रहीं। इनमें से 71.10 फीसद छात्र व 75.10 फीसद छात्रएं सफल हुई हैं। यह परीक्षाएं बीते नौ मार्च से शुरू होकर 29 अप्रैल तक हुई थी।

बोर्ड की सख्ती और बड़ों की गैरहाजिरी अखरी :

सीबीएसई इंटर के परिणाम को लेकर इस बार विवाद रहा है। पहले मॉडरेशन प्रणाली खत्म करने का निर्णय रिजल्ट के ऐन मौके पर हुआ। मॉडरेशन प्रणाली को लेकर कोर्ट की टिप्पणी के बाद परिणाम जारी होने को लेकर कयास लगे। दिन और तारीख तय होने के बाद भी सीबीएसई ने अफसरों को औपचारिक प्रेस कांफ्रेंस करने से रोका। 26 मई को बोर्ड की वेबसाइट पर इस आशय का निर्देश जारी किया गया। जिसमें कहा गया कि रिजल्ट के लिए एनआइसी की वेबसाइट का सहारा लिया जाए, परिणाम के लिए बोर्ड या क्षेत्रीय कार्यालय लोग न जाएं। इसमें इलाहाबाद परिक्षेत्र की स्थिति और भी दयनीय रही। यहां के क्षेत्रीय अधिकारी पीयूष शर्मा अपनी पत्नी का इलाज करा रहे हैं। वह दो माह से लगातार अवकाश पर हैं। सहायक सचिव विजय सिंह यादव यहां का कार्यभार संभाल रहे हैं। वह परिणाम जारी होने से पहले ही दिल्ली पहुंचे और सुबह इलाहाबाद के लिए केंद्रीय आफिस से निकले लेकिन, समय पर वह फ्लाइट नहीं पकड़ सके। इससे टॉपर सूची जारी न हो पाई। पिछले वर्षो में बोर्ड मुख्यालय क्षेत्रीय अधिकारी की ई-मेल पर और मुख्यालय आने वाले अफसर को परिक्षेत्र का पूरा रिजल्ट मुहैया कराता रहा है लेकिन, इस बार बोर्ड की सख्ती से अफसरों ने भी समय पर क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचने में रुचि नहीं दिखाई

Adbox