New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आवेदन पत्र भर...

Wednesday, 28 June 2017

वाराणसी : ये स्कूल अब डीएम की पाठशाला जिलाधिकारी ने गोद लिया अर्दली बाजार के प्राइमरी सह मिडिल स्कूल को पहल प्रमुख बिंदु बच्चों को पढ़ाएंगे, शिक्षकों को करेंगे अपडेट, मॉडल रूप में विकसित किया जाएगा एलटी कालेज परिसर ये स्कूल अब डीएम की पाठशाला

शिक्षा विभाग के आंगन में होने के बाद भी सबसे जर्जर हालत वाला प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय अर्दली बाजार अब डीएम योगेश्वर राम मिश्र की पाठशाला बनेगा। वे यहां बच्चों को पढ़ाएंगे और शिक्षकों को अपडेट रखेंगे। विभागीय अधिकारियों को आईना दिखाते हुए उन्होंने इस विद्यालय को गोद लिया है। एलटी कालेज परिसर स्थित स्कूल में माध्यमिक शिक्षा के संयुक्त शिक्षा निदेशक, जिला विद्यालय निरीक्षक, शिक्षकों को ट्रेंड करने वाले एलटी कालेज के प्रिसिंपल बैठते हैं। वहीं परिसर के ठीक सटे बेसिक शिक्षा अधिकारी, संयुक्त शिक्षा निदेशक (बेसिक शिक्षा), माध्यमिक शिक्षा के क्षेत्रीय बोर्ड के सचिव, राजकीय हंिदूी संस्थान के हेड समेत अधिकारियों की पूरी जमात यहां रहती है। इसके बावजूद यह स्कूल शैक्षिक व बुनियादी रूप से बदहाल है। 1महज 53 बच्चों का नामांकन1एक ही भवन में संचालित प्राइमरी में 44 व मिडिल में सिर्फ नौ बच्चे पंजीकृत हैं। प्राइमरी में दो सहायक अध्यापक, एक शिक्षामित्र व जूनियर में दो सहायक अध्यापक तथा एक परिचारक है। बच्चों की शिक्षा गुणवत्ता विद्यालय के शैक्षणिक स्तर को बताने के लिए पर्याप्त है। मजे की बात यह कि शिक्षा विभाग के किसी आला अधिकारी ने इस विद्यालय को संवारने का जिम्मा नहीं उठाया। जबकि स्कूल व यहां अध्ययनरत बच्चे ही इनकी जीविका हैं। 1भवन पर क्षेत्रीय बोर्ड का कब्जा1खूबसूरत स्कूल को जमींदोज करने में अधिकारियों ने कसर नहीं छोड़ी। स्कूल के लगभग दस कमरों में से आधे पर क्षेत्रीय बोर्ड कार्यालय का कब्जा है। कमरों की खिड़कियों को ईंट से बंद करके बोर्ड की कापियां रखने का गोदाम बनाया गया है। 1कभी था मॉडल विद्यालय 1एलटी कालेज परिसर स्थित प्राथमिक स्कूल एक दौर में मॉडल विद्यालय रहा। यहां पढ़ने वाले लोग आज भी फख्र के साथ कहते हैं कि उस दौर में इससे अधिक अच्छा कोई स्कूल नगरीय क्षेत्र में नहीं था। दाखिले की यहां होड़ होती थी। 1जुड़ी हैं विवेकानंद की यादें भी 1एलटी कालेज स्थित इस स्कूल के ठीक सामने खंडहर में तब्दील भवन से स्वामी विवेकानंद का भी रिश्ता रहा है। बीमारी के दौरान यहां उन्होंने यहां प्रवास किया था। विवेकानंद के पत्र में भी

इस परिसर की खूबसूरती का बखान मिलता है।1मॉडल बनने की ओर लाइब्रेरी 1जिलाधिकारी के निर्देशन में परिसर की राजकीय लाइब्रेरी मॉडल बनने की राह पर है। लाखों रुपये से इसे सजाया संवारा जा रहा है। 90 फीसद से अधिक कार्य हो चुका है। ई लाइब्रेरी समेत अन्य तकनीकी कार्य को अंतिम रूप दिया जा रहा है।एलटी कालेज परिसर स्थित इसी प्राथमिक विद्यालय को डीएम ने लिया है गोदalt146>>परिसर में होगा पौधरोपण भवन का रंगरोगन भी 

Blog Archive

Blogroll

Recommended Posts × +