New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आवेदन पत्र भर...

Sunday, 25 June 2017

UNNAO:गुनहगारों पर जल्द ही गिर सकती है गाज 🎯शिक्षा विभाग में घोटालों की होगी उच्चस्तरीय जांच 🎯बीएसए कार्यालय पहुंच बेसिक शिक्षा निदेशक ने गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी पूछे सवाल, शिक्षा विभाग में मची खलबली

गुनहगारों पर जल्द ही गिर सकती है गाज
🎯शिक्षा विभाग में घोटालों की होगी उच्चस्तरीय जांच
🎯बीएसए कार्यालय पहुंच बेसिक शिक्षा निदेशक ने गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी पूछे सवाल, शिक्षा विभाग में मची खलबली
जागरण संवाददाता, उन्नाव: बेसिक शिक्षा महकमे के स्थलीय पटल से भ्रष्टाचार के उठ रहे मामलों पर जांच तेज है। एक तरफ जहां छापेमारी की कार्रवाई के बाद जांच रिपोर्ट को आगे बढ़ाने की तैयारी सीडीओ कर रहे हैं, वहीं शनिवार को बेसिक शिक्षा निदेशक ने भी कुछ पन्नों को उलटने का काम शुरू हो गया है। कुछ सवालों के जवाब मौके से लिए। इस दौरान महकमे में खलबली मची गई है। बेसिक शिक्षा निदेशक डा. सर्वेंद्र बहादुर विक्रम सिंह एसवीएम में आयोजित एक शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम के बाद वह बेसिक शिक्षा कार्यालय पहुंचे। साथ में बीएसए दीवान सिंह यादव भी थे। करीब 20 मिनट तक वह सर्व शिक्षा अभियान को लेकर होने वाले कार्यों की समीक्षा की। इस बीच उन्होंने कई और मामलों की जानकारी की। इस दौरान उन्होंने जूनियर हाईस्कूल में विज्ञान और गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी सवाल-जवाब किए। सूत्रों का कहना है कि उन्होंने सीडीओ द्वारा की गई छापेमारी में सामने आई फाइलों में कमी, शिक्षकों के जीपीएफ भुगतान, दिव्यांग और मृतक आश्रित सहित प्रेरकों के भुगतान संबंधी जानकारी भी की। पटल सहायकों के बारे में भी पूछताछ की। साथ ही खंड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले की रिपोर्ट पर भी जवाब लिया। 1गर्दन फंसने से पहले बचने की कोशिश : सीडीओ की छापेमारी में कई ¨बदुओं पर सामने आए भ्रष्टाचार की जांच में कई चेहरे का रंग उड़ा है। जांच रिपोर्ट पर डीएम की सहमति पर आगे की कार्रवाई तय होगी। इससे पहले सामने आ रहे अधिकारी व बाबू अपने आप को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। वहीं, पटल सहायकों ने भी अपने हिस्से के कार्यों को मूरत रूप देना शुरू किया है। फाइलों से धूल हटाने भी तेज हो चुका है। यही नहीं, ठंडे बस्ते में पड़े बिलों को भी ढूंढ़ अपनों को बचाने की कवायद भी तेज हो चली है। 1 76 परीक्षार्थी हुए परीक्षा में शामिल उन्नाव: जवाहर नवोदय विद्यालय फतेहपुर चौरासी में आयोजित प्रवेश परीक्षा शनिवार को सुबह 10 बजे से शुरू हुई। तीन घंटे की परीक्षा में 9वीं कक्षा में दाखिले की दौड़ देखने को मिली। यहां 80 रिक्त सीटों पर 76 छात्र-छात्रओं ने परीक्षा दी। जूनियर हाईस्कूल के प्रमाण पत्र के आधार पर परीक्षा कराई गई है। यहां पर नि:शुल्क प्रवेश के साथ ही बेहतर शिक्षा पास होने वाले परीक्षार्थियों को दिया जाएगा। प्रधानाचार्य आरआर कसर ने बताया कि परीक्षा शांतिपूर्वक कराई गई। 1जागरण संवाददाता, उन्नाव: बेसिक शिक्षा महकमे के स्थलीय पटल से भ्रष्टाचार के उठ रहे मामलों पर जांच तेज है। एक तरफ जहां छापेमारी की कार्रवाई के बाद जांच रिपोर्ट को आगे बढ़ाने की तैयारी सीडीओ कर रहे हैं, वहीं शनिवार को बेसिक शिक्षा निदेशक ने भी कुछ पन्नों को उलटने का काम शुरू हो गया है। कुछ सवालों के जवाब मौके से लिए। इस दौरान महकमे में खलबली मची गई है। 1बेसिक शिक्षा निदेशक डा. सर्वेंद्र बहादुर विक्रम सिंह एसवीएम में आयोजित एक शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि थे। कार्यक्रम के बाद वह बेसिक शिक्षा कार्यालय पहुंचे। साथ में बीएसए दीवान सिंह यादव भी थे। करीब 20 मिनट तक वह सर्व शिक्षा अभियान को लेकर होने वाले कार्यों की समीक्षा की। इस बीच उन्होंने कई और मामलों की जानकारी की। इस दौरान उन्होंने जूनियर हाईस्कूल में विज्ञान और गणित किट में हुई गड़बड़ी की रिपोर्ट पर भी सवाल-जवाब किए। सूत्रों का कहना है कि उन्होंने सीडीओ द्वारा की गई छापेमारी में सामने आई फाइलों में कमी, शिक्षकों के जीपीएफ भुगतान, दिव्यांग और मृतक आश्रित सहित प्रेरकों के भुगतान संबंधी जानकारी भी की। पटल सहायकों के बारे में भी पूछताछ की। साथ ही खंड शिक्षा अधिकारियों के हुए तबादले की रिपोर्ट पर भी जवाब लिया।
📚गर्दन फंसने से पहले बचने की कोशिश : सीडीओ की छापेमारी में कई ¨बदुओं पर सामने आए भ्रष्टाचार की जांच में कई चेहरे का रंग उड़ा है। जांच रिपोर्ट पर डीएम की सहमति पर आगे की कार्रवाई तय होगी। इससे पहले सामने आ रहे अधिकारी व बाबू अपने आप को बचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। वहीं, पटल सहायकों ने भी अपने हिस्से के कार्यों को मूरत रूप देना शुरू किया है। फाइलों से धूल हटाने भी तेज हो चुका है। यही नहीं, ठंडे बस्ते में पड़े बिलों को भी ढूंढ़ अपनों को बचाने की कवायद भी तेज हो चली है।


Blog Archive

Blogroll

Recommended Posts × +