��हलचल एक नाम विश्वास का ��शिक्षा विभाग की समस्त खबरें एवं आदेश सबसे तेज एवं सबसे विश्वसनीय सिर्फ हलचल पर - सौरभ त्रिवेदी

Breaking

Saturday, 15 July 2017

गोरखपुर : 1065 रिक्त पद के लिए 2113 अध्यापकों की सूची जारी

शासन के दिशा-निर्देश पर बेसिक शिक्षा विभाग ने परिषदीय विद्यालय के शिक्षकों के समायोजन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। जिले में 1065 रिक्त पदों को भरने के लिए 2113 अध्यापकों की सूची विभाग और ब्लाक संसाधन केंद्रों पर चस्पा कर दी गई है। 1जूनियर हाईस्कूलों में अध्यापकों के कुल 243 पद रिक्त हैं। इसके सापेक्ष 851 शिक्षकों की सूची जारी की गई है। वहीं प्राथमिक विद्यालयों में 822 पद रिक्त हैं, जिसके सापेक्ष 1262 शिक्षकों की सूची जारी की गई है। 1सभी रिक्त पदों को भरने के बाद भी 1048 शिक्षक अतिरिक्त बच रहे हैं। अतिरिक्त शिक्षकों को कहां रखा जाएगा, अभी यह यक्ष प्रश्न बना हुआ है। इसको लेकर शिक्षकों में उहापोह की स्थिति बनी हुई है।1 विभाग का कहना है कि शासन के निर्देश पर नियमानुसार ही छात्र 

और शिक्षक अनुपात को दुरुस्त करने के लिए शिक्षकों को समायोजित 

किया जा रहा है। शिक्षा का अधिकार कानून के तहत 30-35 छात्र पर एक शिक्षक की तैनाती होनी है। लेकिन स्थित यह है कि कुछ विद्यालयों में पढ़ने 

वाले हैं तो वहां शिक्षकों का टोटा है और जहां शिक्षकों की भीड़ है वहां पढ़ने वाले नहीं हैं। 1विषय विशेषज्ञ भी किए जा रहे समायोजित 1जूनियर हाईस्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए विषय विशेषज्ञों की तैनाती की गई है। उन्हें समायोजन की प्रक्रिया से बाहर रखा गया है। इसके बाद भी समायोजन सूची में विषय विशेषज्ञों का नाम चस्पा है। पिछले वर्ष ही गणित और विज्ञान के विषय विशेषज्ञ शिक्षकों की तैनाती की गई थी। इसको लेकर शिक्षकों में रोष है। उनका कहना है कि शासनादेश में विषय विशेषज्ञ शिक्षकों के लिए कोई दिशा-निर्देश नहीं है। 1सूची में शामिल हैं वरिष्ठ अध्यापक 1शासनादेश के अनुसार जो शिक्षक सबसे अंत में विद्यालय में तैनात हुआ है, उसे सबसे पहले समायोजित होना है। लेकिन पहले से तैनात वरिष्ठ शिक्षकों का भी नाम सूची में शामिल कर लिया गया है। 101 से अधिक छात्र संख्या वाले विद्यालय में विज्ञान, गणित के साथ भाषा और समाजिक विषय के शिक्षकों का भी प्रावधान है, लेकिन नियमों की अनदेखी करते हुए अधिकतर शिक्षकों का नाम समायोजन सूची में शामिल कर लिया गया है। 1समायोजन का विरोध करता है शिक्षक संघ 1उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलामंत्री श्रीधर मिश्र के अनुसार समायोजन में बहुत विसंगतियां हैं। अगर विषय विशेषज्ञ समायोजित हो जाएंगे तो छात्रों को कौन पढ़ाएगा। 1आदेश है कि एक विद्यालय में एक प्रधानाध्यापक और दो शिक्षक अनिवार्य रूप से तैनात रहेंगे। लेकिन यहां इस

नियम को भी ताक पर रखा जा रहा 

है। संघ शुरू हुई इस प्रक्रिया का

विरोध करते हुए संशोधित सूची के आधार पर समायोजन करने की मांग करता है। 1alt146>>बेसिक शिक्षा विभाग ने शुरू की समायोजन की प्रक्रिया, ब्लाकों पर सूची चस्पा 1alt146>>अप्रैल की छात्र संख्या के आधार पर हो रहा समायोजन, 1048 शिक्षक अधिकसमायोजन की सूची समस्त ब्लाक संसाधन केंद्रों पर चस्पा कर दी गई है। शासन के आदेश पर ही सूची तैयार की गई है। अगर किसी शिक्षक को आपत्ति है तो वह ब्लाक संसाधन केंद्र पर अपनी लिखित शिकायत दर्ज करा सकता है। 1ब्रह्मचारी शर्मा, प्रभारी बीएसए

Adbox