New

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 के लिये ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ, समस्त नियम शर्ते अर्हता आदि को पढ़ते समझते हुए यहां से आवेदन करें

डी० एल० एड० ( पूर्व प्रचलित नाम बी० टी० सी० ) प्रशिक्षण- 2016 परीक्षा नियामक प्राधिकारी, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश STEP 1 आवेदन पत्र भर...

Thursday, 13 July 2017

बिना मान्यता स्कूल संचालन पर एक लाख रुपये जुर्माना निश्शुल्क एवं बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2009 लागू होने के बाद बिना मान्यता प्राप्त किए कोई स्कूल स्थापित व संचालित नहीं किया जा सकता है।

प्रदेश में बिना मान्यता विद्यालय संचालन करने वाले स्कूलों में सिर्फ ताला ही नहीं लटकेगा, बल्कि संचालक को जुर्माना भी देना होगा। ऐसे स्कूलों पर एक लाख रुपये तक जुर्माना लगाया जा सकता है, साथ ही आदेश का उल्लंघन करने वाले स्कूलों पर दस हजार रुपये प्रतिदिन के हिसाब से अर्थदंड लगाने का भी प्रावधान किया गया है। सभी जिलों में नए नियमों के तहत बिना मान्यता के स्कूल संचालन रोकने के कड़े निर्देश जारी किए गए हैं। 1प्रदेश में छह से 14 आयुवर्ग के बच्चों की शिक्षा के लिए राज्य सरकार की ओर से परिषदीय प्राथमिक व जूनियर हाईस्कूल, मान्यता प्राप्त व सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूल और प्राथमिक स्कूल बड़ी संख्या में संचालित हैं। निश्शुल्क एवं बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2009 लागू होने के बाद बिना मान्यता प्राप्त किए कोई स्कूल स्थापित व संचालित नहीं किया जा सकता है। इसको अमल में लाने के लिए तमाम प्रावधान किए गए हैं। नये स्कूलों के लिए स्पष्ट निर्देश है कि बिना मानक पूरे किए उन्हें किसी भी दशा में मान्यता नहीं दी जाएगी। साथ ही यदि कोई स्कूल शर्तो का उल्लंघन करता है और उसकी मान्यता सरकार वापस लेती है तो वहां के बच्चों को आसपास के स्कूलों में प्रवेश दिलाया जाएगा। साथ ही जिस स्कूल की मान्यता वापस होगी उसको सुनवाई का पूरा अवसर दिया जाएगा। 1निर्देश है कि मान्यता वापस लेने के बाद भी यदि स्कूल का संचालन होता है तो उस पर एक लाख रुपये तक का जुर्माना किया जा सकता है और यदि उल्लंघन जारी रहता है तो दस हजार रुपये प्रतिदिन के हिसाब से अर्थदंड लगाया जा सकता है। प्रदेश के अधिकांश जिलों में बिना मान्यता के विद्यालय चल रहे हैं, तमाम स्कूल अफसरों की सहमति पर संचालित हैं। वहां अभिभावकों की जेब काटी जा रही है और उसकी नियमित शिकायतें भी हो रही हैं लेकिन, अनसुनी जारी है। हर साल बिना मान्यता प्राप्त स्कूलों को बंद करने के निर्देश जारी होते हैं, अनुपालन के नाम पर खानापूरी की जा रही है। अब शिक्षा निदेशक बेसिक डा. सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह ने सभी मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक व बेसिक शिक्षा अधिकारियों को इन निर्देशों का जिलों में कड़ाई से अनुपालन करने का आदेश दिया है। यह अभियान जुलाई-अगस्त माह में विशेष रूप से संचालित होगा।alt146>>उल्लंघन जारी रखने पर दस हजार रुपये प्रतिदिन लगेगा अर्थदंड 1alt146>>शिक्षा निदेशक बेसिक का सभी जिलों में अनुपालन करने का निर्देश

Blog Archive

Blogroll

Recommended Posts × +