ALLAHABAD:यूपी बोर्ड में जीएसटी को विस्तार देने की तैयारी

July 09, 2017

यूपी बोर्ड में जीएसटी को विस्तार देने की तैयारी

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : यूपी बोर्ड केवल तकनीक के साथ कदमताल नहीं कर रहा, बल्कि समाज के बदलावों को पाठ्यक्रम के जरिये तेजी से स्वीकार भी करता है। जीएसटी (सेवा व वस्तु कर) को बोर्ड ने पाठ्यक्रम में नाममात्र को अंगीकार भी किया है लेकिन, विस्तार देने के लिए उसके पास न साहित्य है और न ही निर्देश। पाठ्यक्रम समिति के सदस्य इसे विस्तार देने को तैयार हैं । यूपी बोर्ड ने चंद माह पहले ही योग को विस्तृत रूप में पाठ्यक्रम में शामिल किया है। यह अलग बात है कि इंटरमीडिएट स्तर पर योग पढ़ाने व सिखाने का प्रबंध अब तक नहीं हो सका है। बोर्ड की पाठ्यक्रम समिति की संजीदगी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जीएसटी को पहली जुलाई से देश में लागू करने की तैयारी थी, उसके पहले ही हाईस्कूल 10वीं के सामाजिक विज्ञान विषय के आर्थिक विकास अध्याय में एक बिंदु के रूप में ही सही जीएसटी, वैट व सर्विस टैक्स के रूप में आंशिक रूप से जोड़ा गया है। पिछले दिनों कुलपति सम्मेलन में सूबे के शिक्षामंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने स्नातक स्तर पर जीएसटी को पाठ्यक्रम में जोड़ने का एलान किया।


Share this

Related Posts

Previous
Next Post »