��हलचल एक नाम विश्वास का ��शिक्षा विभाग की समस्त खबरें एवं आदेश सबसे तेज एवं सबसे विश्वसनीय सिर्फ हलचल पर - सौरभ त्रिवेदी

Breaking

New

उ0प्र0 शिक्षक पात्रता परीक्षा 2017 में आवेदन हेतु ऑनलाइन प्रक्रिया प्रारम्भ, आप यहाँ से सुगमता से सभी दिशा निर्देश पढ़ते हुए आवेदन करें, UPTET 2017 ONLINE PROCESS SYSTEM NOW AVAILABLE, CLICK HERE TO FILL FORM

आवेदन पत्र भरने हेतु महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश ऑनलाइन आवेदन करने से पूर्व दिशा निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ लें एवं आव...

Tuesday, 18 July 2017

डीएलएड 2016 का सत्र शून्य, फिर होंगे आवेदनविलंब से चल रहे सत्र को पटरी पर लाने के लिए शासन का बड़ा फैसलाआवेदन को फिर खुलेगी वेबसाइट

डीएलएड 2016 का सत्र शून्य, फिर होंगे आवेदन

विलंब से चल रहे सत्र को पटरी पर लाने के लिए शासन का बड़ा फैसला

आवेदन को फिर खुलेगी वेबसाइट

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : बीटीसी का नया नाम डीएलएड (डिप्लोमा इन एलीमेंटरी एजुकेशन) प्रशिक्षण सत्र 2016-17 शून्य घोषित कर दिया गया है। अब 2017-18 सत्र के लिए प्रवेश होंगे। इसके लिए नये आवेदक जिनकी उम्र एक जुलाई को 18 वर्ष पूरी हो रही है उन्हें आवेदन करने का मौका दिया जाएगा। शासन ने यह बड़ा कदम सत्र के विलंब से चलने के कारण उठाया है। ‘दैनिक जागरण’ ने बीते 12 जुलाई के अंक में ‘वर्ष और डीएलएड सत्र का नहीं हो सकेगा संगम’ खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी, जिसमें शीर्ष कोर्ट के निर्देशों का अनुपालन न होने का विस्तार से जिक्र किया गया।

डीएलएड सत्र 2016-17 के लिए बीते 14 जून से ऑनलाइन पंजीकरण, आवेदन की प्रक्रिया चल रही है। बीते सात जुलाई तक करीब छह लाख अभ्यर्थियों ने इसके लिए दावेदारी की है। ऑनलाइन आवेदन पत्रों की प्रविष्टियों में संशोधन का कार्य भी 13 जुलाई को पूरा हो चुका है। इस सत्र से शासन ने नये कालेजों को संबद्धता देने से इनकार कर दिया था और पिछले वर्ष की तय सीटों पर ही प्रवेश लिए जाने की तैयारी थी। इसी बीच ‘दैनिक जागरण’ ने सत्र विलंब से चलने और शीर्ष कोर्ट के निर्देशों का अनुपालन न होने की खबर प्रमुखता से प्रकाशित की। इसमें लिखा गया कि शीर्ष कोर्ट ने 2017 से सत्र नियमित करने का आदेश आठ सितंबर 2015 को दिया है, लेकिन अभी 2016 के ही प्रवेश हो रहे हैं, ऐसे में इस वर्ष भी सत्र नियमित होने के आसार नहीं है। इसका शासन ने संज्ञान लिया और अपर मुख्य सचिव राज प्रताप सिंह की अगुवाई में सत्र नियमित करने पर गंभीरता से विचार किया। इसमें प्रशासनिक टीम ने सुझाव दिया कि 2016 का सत्र शून्य करना ही एकमात्र विकल्प है, जिसमें सत्र नियमित हो सकता है। इस पर न्याय विभाग ने भी मुहर लगा दी। इसी के बाद शासन और परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डा. सुत्ता सिंह ने 2016-17 का सत्र शून्य घोषित करने का आदेश सोमवार को जारी कर दिया है।

निजी कालेज बढ़े, सीटें दोगुनी : 2016-17 सत्र शून्य होने के कारण निजी डीएलएड कालेजों की संख्या दोगुनी से अधिक हो जाएगी। 2016-17 सत्र में 1422 निजी कॉलेजों की 71100 और 63 डायट की 10500 समेत कुल 81600 सीटों पर प्रवेश के लिए आवेदन मांगे गए। जबकि 2017-18 सत्र में 1557 निजी कालेजों की संख्या बढ़कर 2979 हो जाएगी। ऐसे में नये सत्र के लिए सीटों की संख्या एक लाख 59 हजार 450 होगी। असल में नये निजी कालेजों को 30 मई 2016 के बाद संबद्धता दी गई है, जबकि कोर्ट ने इसके पहले संबद्ध करने को कहा था, सत्र शून्य होने से वह अनुपालन भी हो गया है।

इलाहाबाद : 2016-17 सत्र शून्य घोषित होने के कारण परीक्षा नियामक प्राधिकारी को डीएलएड 2017-18 सत्र के आवेदन के लिए वेबसाइट को दोबारा खोलना होगा।

असल में 2016-17 सत्र में प्रवेश के लिए एक जुलाई 2016 को 18 वर्ष पूरा करने वाले अभ्यर्थी आवेदन कर सकते थे, लेकिन सत्र 2017-18 के लिए एक जुलाई 2017 को 18 वर्ष पूरा करने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन के योग्य हो जाएंगे। ऐसे में इन अभ्यर्थियों को अवसर देने के लिए दोबारा कम से कम एक सप्ताह के लिए वेबसाइट खोलनी होगी। सचिव ने बताया कि जल्द ही वेबसाइट खोली जाएगी।12 जुलाई के अंक में प्रकाशित खबर

Adbox