FATEHPUR: समायोजन रदद् होने से पटरी से उतरी शिक्षा,पसरा रहा सन्नाटा

July 27, 2017

समायोजन रद होने से पटरी से उतरी शिक्षा

समायोजित शिक्षकों के स्कूलों में पसरा रहा सन्नाटा, विद्यालय खोलने के लिए लगाए गए पड़ोसी शिक्षक

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : शिक्षामित्रों से सहायक अध्यापक पद पर हुए समायोजन को रद करने के बाद पहले दिन बेसिक शिक्षा की गाड़ी पटरी से उतरी नजर आई। विभाग के विकल्प काम नहीं आ सके। इन शिक्षामित्रों के सहारे खुलने वाले तमाम स्कूलों में तालाबंदी जैसे हालात रहे। स्कूलों में आए बच्चे बैरंग लौटने को मजबूर हुए तो रसोइयां बिना काम के वापस हो गईं। जानकारी के अभाव में कई जगहों पर शिक्षामित्र अपने दायित्व को निभाते भी दिखे। 1समायोजन रद होने से प्रभावित स्कूलों में शहर में नगर क्षेत्र के 11 स्कूलों का पठन पाठन पटरी से उतर गया। विजयीपुर ब्लाक के कुम्हारन डेरा, बहुआ ब्लाक का प्राथमिक स्कूल बरौंहा, प्राथमिक विद्यालय का बंवारा, प्राथमिक विद्यालय मिराई, हथगाम ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय गोहटीपर और हस्वा ब्लाक के स्कूलों में खैदीपुर, जानिकपुर, सखियांव, मंडा सरांय, गड़रियनपुरवा, टेक्सारी बुजुर्ग, सातों द्वितीय तो अमौली ब्लाक के प्राथमिक स्कूल एकडला, रघुराजपुर, सरौली प्रथम, पहाड़पुर, मनीपुर सेमरिया, अलीपुर, शिवपुरी, कुल्ली, रहमतपुर, खखरेड़ू, हरदासपुर, महिलापुर, सोनमऊ, सोनेमऊ, त्रिलोचनपुर, पांभीपुर, तिलकापुर, ब्राह्मपुर, मंडा सरांय, मलवां में प्राथमिक अहिरनखेड़ा आदि तमाम स्कूलों में तालाबंदी जैसे हालात रहे। तमाम स्कूल बंद ही रहे तो तमाम को देर सबेर खुलवाया गया, लेकिन तब तक बच्चे घर जा चुके थे। 1बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने कहाकि शुरुआती समय में दिक्कत आई थी जिसे खत्म कराया गया है। देर सबेर तक सारे विद्यालयों को खुलवा दिया गया था। गुरुवार से पूरी तरह से बिना बाधा के स्कूलों का संचालन होगा। 1बीएसए ने बैठक कर की समीक्षा : जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी शिवेंद्र प्रताप सिंह ने कार्यालय में बुधवार को खंड शिक्षाधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में अहम मुद्दे स्कूलों में तालाबंदी न होने पाए इस पर विचार मंथन हुआ। आ रही सूचनाओं के आधार पर निस्तारित किया। बीएसए ने सभी खंड शिक्षाधिकारियों को निर्देशित किया कि किसी भी दशा में एक भी स्कूल में तालाबंदी नहीं होनी चाहिए। पड़ोस के शिक्षक-शिक्षिकाओं को विकल्प के रूप में लगाकर पठन पाठन चालू कराया जाए। इसके साथ मानव संपदा फी¨ड़ग, पौधरोपण, ड्रेस, किताब वितरण आदि विभिन्न मुद्दों की प्रगति जानी।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »