��हलचल एक नाम विश्वास का ��शिक्षा विभाग की समस्त खबरें एवं आदेश सबसे तेज एवं सबसे विश्वसनीय सिर्फ हलचल पर - सौरभ त्रिवेदी

Breaking

Saturday, 8 July 2017

प्रतापगढ़ : जमीन में गाड़ दिया बच्चों का निवाला एसडीएम ने छापा मारकर एमडीएम राशन का घपला पकड़ा सौ से ज्यादा बोरे बरामद

जमीन में गाड़ दिया बच्चों का निवाला

एसडीएम ने छापा मारकर एमडीएम राशन का घपला पकड़ा सौ से ज्यादा बोरे बरामद



कुंडा, प्रतापगढ़: जिले में मिड डे मील के राशन में किस तरह धांधली हो रही है। इसका खुलासा शुक्रवार को मानिकपुर के निकट एक स्कूल में हुआ। जहां बच्चों के खाने के लिए आए राशन को जमीन में गाड़ कर रखा गया था। इस स्कूल से करीब डेढ़ सौ बोरा राशन बरामद हुआ है। जिसे सील कर एसडीएम ने जिलाधिकारी को रिपोर्ट भेज दी है। मामले में नगर पंचायत स्थित इंटर कॉलेज के प्रबंधक सतीश शर्मा की शिकायत की थी। 1डीएम के निर्देश पर एसडीएम आरपी वर्मा ने यहां छापा मारा तो हकीकत सामने आ गई। दोपहर के वक्त एसडीएम अपने स्टाफ स्कूल गए और एमडीएम के राशन के बारे में पूछताछ की तो प्रधानाचार्य अशोक तिवारी ने आनाकानी की। उन्होंने स्टाक रजिस्टर भी कार्यालय में न होने की बात बताई। ऐसे में एसडीएम के स्टाफ ने छानबीन की तो परिसर के एक कोने में कुछ चावल व गेहूँ बिखरा दिखाई दिया। जिस पर कूड़ा कचरा डाल दिया गया था।1एसडीएम ने इसकी खोदाई करवाने के लिए जब ¨प्रसिपल से सहयोग मांगा तो उन्होंने आनाकानी की। ऐसे में नगर पंचायत का स्टाफ बुलाकर खोदाई करवाई गई तो उसमें से आठ बोरी गेहूं और चावल मिला। यह अनाज काफी हद तक खराब हो गया था। एसडीएम खाद्यान्न स्टोर की चाबी मांगी तो वह भी उन्हें नहीं दी गई। स्टोर का ताला तोड़ा गया तो वहां पर 49 बोरी चावल और 53 बोरी गेहूं मिला। जिसके बारे में प्रधानाचार्य कोई स्पष्ट जवाब नहीं दे सके। स्कूल में छात्र संख्या देखते हुए यह कई वर्ष का राशन माना जा रहा है। ऐसे में एसडीएम ने स्टोर रूम को सील करवा दिया और सारा राशन सील कर उप प्रधानाचार्य राकेश आर्या व प्रवक्ता रमाकान्त के सुपुर्दगी में दे दिया। एसडीएम ने बताया कि अभी किसी तरह का मुकदमा दर्ज नहीं कराया गया है। जांच जारी है, प्राथमिक रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेज दी गई है। आदेश पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।1दिसंबर 16 तक का है स्टाक : कॉलेज में पकड़ा गया मिड डे मील का राशन वर्ष 2016 तक का है। इतना स्टाक करने की अनुमति भी किसी को नहीं मिलती। ऐसे में यह राशन कहां से आया अब यह शिक्षा विभाग की जांच का विषय है। 1कालाबाजारी की आशंका: पकड़े गए राशन की मात्र देखकर कयास लगाए जा रहे हैं कि आसपास के स्कूलों का मिड डे मील का राशन भी यहां स्टाक होता था। जो शायद कालाबाजार में बेचा जाता था। इस मामले में जांच का इंतजार किया जा रहा है।1चतुर्थ श्रेणी के नाम से मंगाया: कॉलेज से पकड़ा गया राशन स्कूल के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के माध्यम से मंगाया गया है। एसडीएम ने बताया कि इस संबंध में दस्तावेज मिले हैं। यह काम केवल विपणन निरीक्षक के जरिए ही किया जाना चाहिए।मानिकपुर इंटर कालेज में कूड़े में छिपाए गए खाद्यान्न को खोदाई करके निकालता युवक।

Adbox