इलाहाबाद:अगले माह सितम्बर से टीईटी 2017 के आवेदन 🎯सचिव डॉ. सुत्ता सिंह ने ऑनलाइन आवेदन के लिए सरकार की दो एजेंसियों एनआइसी व यूपी डेस्को को पत्र भेजकर प्रस्ताव मांगा है। यह प्रक्रिया पूरी होने पर आवेदन की वेबसाइट खोले जाने की मियाद भी तय हो जाएगी। 🎯उम्मीद है कि इस बार आवेदकों की संख्या करीब दस लाख के आसपास होगी। ऐसे में परीक्षा उत्तीर्ण करने की प्रतिस्पर्धा कठिन होने के आसार हैं।

August 06, 2017

अगले माह सितम्बर से टीईटी 2017 के आवेदन
🎯सचिव डॉ. सुत्ता सिंह ने ऑनलाइन आवेदन के लिए सरकार की दो एजेंसियों एनआइसी व यूपी डेस्को को पत्र भेजकर प्रस्ताव मांगा है। यह प्रक्रिया पूरी होने पर आवेदन की वेबसाइट खोले जाने की मियाद भी तय हो जाएगी।
🎯उम्मीद है कि इस बार आवेदकों की संख्या करीब दस लाख के आसपास होगी। ऐसे में परीक्षा उत्तीर्ण करने की प्रतिस्पर्धा कठिन होने के आसार हैं।

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : शिक्षामित्रों व शिक्षक बनने की तैयारी में जुटे अभ्यर्थियों के लिए ये खबर अहम है। उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी) 2017 कराने की तैयारियां तेजी से शुरू हो गई हैं। इसके लिए ऑनलाइन आवेदन की वेबसाइट तैयार करने के लिए दो एजेंसियों को पत्र भी लिखा जा चुका है। अब वेबसाइट शुरू होने का रोस्टर मिलते ही आवेदन लेने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। प्रदेश में 2011 से टीईटी की परीक्षा एक वर्ष को छोड़कर निरंतर हो रही है। खास बात यह है कि जिस तरह से परीक्षा के वर्ष बढ़ते जा रहे हैं, उसी तरह से परीक्षा परिणाम में सफलता प्रतिशत घटता जा रहा है। 2016 में महज 11 फीसद अभ्यर्थी उत्तीर्ण हो सके थे, जबकि 2015 में यह आंकड़ा 17 फीसद रहा है। इससे साफ है कि इस परीक्षा को उत्तीर्ण करना आसान नहीं है। इस वर्ष की टीईटी में वैसे तो डीएलएड (पूर्व बीटीसी) के अंतिम सेमेस्टर में शामिल होने वालों के साथ ही पहले प्रशिक्षण ले चुके अभ्यर्थी बड़ी संख्या में शामिल होंगे। वहीं, इस बार शिक्षामित्र भी हजारों की तादाद में परीक्षा देंगे। ज्ञात हो कि शीर्ष कोर्ट ने सहायक अध्यापक पद पर उनका समायोजन रद कर दिया है और टीईटी उत्तीर्ण करके शिक्षक बनने के लिए दो अवसर देने का राज्य सरकार को निर्देश दिया है। उस लिहाज से शिक्षामित्रों के लिए यह टीईटी पहला अवसर भी होगा। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय इधर कई दिनों से इस परीक्षा की तैयारियों में जुटा है। सचिव डॉ. सुत्ता सिंह ने ऑनलाइन आवेदन के लिए सरकार की दो एजेंसियों एनआइसी व यूपी डेस्को को पत्र भेजकर प्रस्ताव मांगा है। यह प्रक्रिया पूरी होने पर आवेदन की वेबसाइट खोले जाने की मियाद भी तय हो जाएगी। उसी के बाद सचिव शासन को प्रस्ताव भेजकर अनुमति लेंगी। तैयारी है कि ऑनलाइन आवेदन लेने का कार्य सितंबर माह के दूसरे पखवारे में हर हाल में शुरू जाए, ताकि परीक्षा नवंबर माह में कराकर इसी वर्ष रिजल्ट भी दिया जा सके। उम्मीद है कि इस बार आवेदकों की संख्या करीब दस लाख के आसपास होगी। ऐसे में परीक्षा उत्तीर्ण करने की प्रतिस्पर्धा कठिन होने के आसार हैं।


Share this

Related Posts

Previous
Next Post »