चयन बोर्ड सदस्यों से शासन ने मांगा इस्तीफा पांचों सदस्य भी एक सप्ताह में सौंप सकते हैं त्यागपत्र बोर्ड का पुनर्गठन या फिर विलय पर से इसी माह उठेगा पर्दा

August 12, 2017

चयन बोर्ड सदस्यों से शासन ने मांगा इस्तीफा

पांचों सदस्य भी एक सप्ताह में सौंप सकते हैं त्यागपत्र

बोर्ड का पुनर्गठन या फिर विलय पर से इसी माह उठेगा पर्दा

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र के अध्यक्ष हीरालाल गुप्ता के इस्तीफे के बाद शासन ने यहां नियुक्त पांचों सदस्यों से भी त्यागपत्र मांगा है। ऐसे संकेत हैं कि एक सप्ताह में सभी सदस्य इस्तीफा सौंप सकते हैं। शासन की इस मांग से आयोग के पुनर्गठन की चर्चा ने भी जोर पकड़ लिया है, हालांकि इसी माह बोर्ड के पुनर्गठन या फिर विलय पर से पर्दा उठ जाएगा। 1प्रदेश में अशासकीय माध्यमिक और महाविद्यालयों में प्राचार्य, प्रवक्ता व शिक्षकों का एक ही आयोग से चयन करने की तैयारी है। इसके लिए माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड और उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग का विलय होना है। शासन की पहल के बाद दोनों आयोगों के अध्यक्षों ने शासन को इस्तीफा सौंप दिया है। इससे नए आयोग गठन का रास्ता साफ हो गया है लेकिन, अब शासन ने चयन बोर्ड के सदस्यों को भी पद छोड़ने का संदेश दिया है। ज्ञात हो कि पूर्व शिक्षाधिकारी रमेश शर्मा, डॉ. आशालता सिंह, अनीता यादव, मनोज कुमार यादव, नरेंद्र सिंह यादव सदस्य के रूप में कार्यरत हैं। हालांकि अध्यक्ष के त्यागपत्र देने के बाद चयन बोर्ड और आयोग का बोर्ड वैसे भी भंग हो गया है, अब सदस्यों का इस्तीफा मांगने से यह चर्चा तेज हो चली है कि कहीं शासन चयन बोर्ड का पुनर्गठन करने की तैयारी में तो नहीं है। सूत्रों की मानें तो बोर्ड के सदस्य एक सप्ताह में शासन की मंशा पूरी कर सकते हैं।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »