आधार से थमेगा यूपी बोर्ड में फर्जीवाड़ा

August 12, 2017

आधार से थमेगा यूपी बोर्ड में फर्जीवाड़ा

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : यूपी बोर्ड परीक्षा में इस बार से शिक्षा माफियाओं के मंसूबे पूरे नहीं हो सकेंगे। कक्षा 9 व 11 के पंजीकरण और हाईस्कूल व इंटर के परीक्षा फार्म भरने में आधार के अनिवार्य होने से अंकुश लगना तय माना जा रहा है। बोर्ड परीक्षार्थियों की बाद में जांच करने के बजाए पहले ही फर्जीवाड़ा रोक सकेगा। आधार के जरिए छात्र-छात्रओं से जुड़ी सभी जानकारियां भी बोर्ड के पास आसानी से पहुंचेंगी। यूपी बोर्ड में हर साल लाखों छात्र व छात्रएं कक्षा 9 व 11 में पंजीकरण कराते हैं। हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के परीक्षार्थी मिलाकर हर बार आकड़ा 50 लाख को पार कर जाता है। पिछले वर्ष की परीक्षा के लिए करीब 65 लाख ने परीक्षा फार्म भरा था। हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा शुरू होते ही पहले ही दिन परीक्षा छोड़ने वालों की संख्या लाखों में पहुंच गई और परीक्षा खत्म होते-होते करीब पांच लाख परीक्षार्थियों तक पहुंची थी। इससे इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि फार्म भरने में बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़ा हुआ। बोर्ड अधिकारी कहते है कि कई बार ऐसे मामले आए, जब परीक्षार्थियों ने एक से अधिक स्थानों या कालेज से बोर्ड परीक्षा में शामिल होने के लिए फार्म भर देते हैं। इसके लिए वह फार्म भरते समय कुछ जानकारियों में बदलाव कर देते हैं, ताकि कंप्यूटर ये गड़बड़ियां पकड़ में न सके। अब परीक्षा फार्म भरते समय आधार अनिवार्य करने से इस प्रकार के फर्जीवाड़े में विराम लगेगा। वहीं, कक्षा 9 व 11 के पंजीकरण की संख्या भी घटने के पूरे आसार हैं।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »