शिक्षक दिवस पर विधानभवन घेरेंगे शिक्षामित्र उत्तर प्रदेश शिक्षामित्र शिक्षक कल्याण समिति ने सोमवार को बेसिक शिक्षा के अपर मुख्य सचिव को ज्ञापन सौंपकर ऐसे तीन बिंदु सुझाए हैं, जिससे उनकी तैनाती का रास्ता आसान हो जाए तीन दिन के अंदर कार्यवाही न हुई तो पांच सितंबर को शिक्षक दिवस पर विधानभवन का घेराव

August 29, 2017

शिक्षक दिवस पर विधानभवन घेरेंगे शिक्षामित्र

उत्तर प्रदेश शिक्षामित्र शिक्षक कल्याण समिति ने सोमवार को बेसिक शिक्षा के अपर मुख्य सचिव को ज्ञापन सौंपकर ऐसे तीन बिंदु सुझाए हैं, जिससे उनकी तैनाती का रास्ता आसान हो जाए

तीन दिन के अंदर कार्यवाही न हुई तो पांच सितंबर को शिक्षक दिवस पर विधानभवन का घेराव

इलाहाबाद : सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति पाने की राह सुगम कराने की मांग पर शिक्षामित्र अड़े हैं। उत्तर प्रदेश शिक्षामित्र शिक्षक कल्याण समिति ने सोमवार को बेसिक शिक्षा के अपर मुख्य सचिव को ज्ञापन सौंपकर ऐसे तीन बिंदु सुझाए हैं, जिससे उनकी तैनाती का रास्ता आसान हो जाएगा। साथ ही अल्टीमेटम भी दिया है कि यदि उनकी मांगे न मानी गई तो पांच सितंबर शिक्षक दिवस पर हजारों शिक्षामित्र विधानभवन का घेराव करेंगे। शिक्षामित्रों ने यह भी कहा है कि इस बार वह आश्वासन पर धरना समाप्त नहीं करेंगे। अब लड़ाई आरपार की होगी।

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में कार्यरत एक लाख 37 हजार शिक्षामित्रों का सहायक अध्यापक पद पर समायोजन बीते 25 जुलाई को रद कर दिया है। उसके बाद से प्रदेश भर के शिक्षामित्र आंदोलित हैं, जिलों में आंदोलन व प्रदर्शन के बाद पिछले दिनों लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान पर धरना दिया गया।

सोमवार को उप्र शिक्षामित्र शिक्षक कल्याण समिति के प्रांतीय अध्यक्ष अनिल कुमार वर्मा ने बेसिक शिक्षा के अपर मुख्य सचिव राज प्रताप सिंह को नया प्रत्यावेदन सौंपा है। इसके बाद लखनऊ के दारूलसफा बी ब्लाक में बैठक करके निर्णय लिया गया कि सरकार उनकी मांगों को जल्द पूरा करें। यह भी कहा गया कि यदि तीन दिन के अंदर कार्यवाही न हुई तो पांच सितंबर को शिक्षक दिवस पर विधानभवन का घेराव किया जाएगा।

शिक्षामित्रों ने कहा कि अब मान-सम्मान के साथ समझौता नहीं होगा और न ही सरकार का कोई आश्वासन मानेंगे, बल्कि मांगों को लेकर सरकार शासनादेश जारी करे। यहां प्रांतीय मंत्री अरुण केशरी, उपाध्यक्ष त्रिभुवन सिंह, अजय कुमार सिंह, आरके पटेल, राजेंद्र प्रसाद, पवन आदि मौजूद थे।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »