फतेहपुर : शासन की सख्ती से टूटे शिक्षामित्र, पहुंचे स्कूल तैनाती पाए शिक्षामित्रों ने सोमवार को 95 फीसद उपस्थिति दर्ज कराई

September 19, 2017

शासन की सख्ती से टूटे शिक्षामित्र, पहुंचे स्कूल


तैनाती पाए शिक्षामित्रों ने सोमवार को 95 फीसद उपस्थिति दर्ज कराई


जागरण संवाददाता, फतेहपुर : नौकरी पाने के लिए संघर्ष का रास्ता अख्तियार कर चुके शिक्षामित्रों का साहस दिनों दिन मानों टूटता जा रहा है। शासन के कड़े रुख के चलते सोमवार को प्राथमिक विद्यालयों में तैनात 95 फीसद शिक्षामित्र दायित्व निर्वहन पर डट गए, जबकि इसके पहले पचास फीसद से अधिक शिक्षा मित्र स्कूल नहीं जा रहे थे। न जाने वाले शिक्षा मित्रों की जगह सेवानिवृत शिक्षकों के रखने के सचिव के बयान से उपस्थिति का ग्राफ बढ़ गया।

जिले के 1903 प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षामित्रों की तैनाती है। दो चक्रों में इन्हें सहायक अध्यापक बनाकर समायोजित किया जा चुका था। सुप्रीमकोर्ट में चल रहे वाद में मिले झटके के बाद 2 अगस्त से शिक्षामित्र आंदोलन की राह पकड़े हुए हैं। कभी जिला मुख्यालय में तो कभी प्रदेश मुख्यालय लखनऊ और दिल्ली के जंतर मंतर में धरना देकर विरोध की आवाज बुलंद कर चुके हैं। लगातार आंदोलन की राह पकड़ने के चलते शुरुआती दिनों में बेसिक शिक्षा का पठन पाठन प्रभावित हो गया था। विद्यालयों में प्रभावित हो रहे पठन पाठन से चिन्तित शासन ने इन पर शिकंजा कस दिया है। प्रतिदिन की रिपोर्ट प्रेषित होने से हड़कंप मचा तो शिक्षामित्र विद्यालयों में हाजिरी दे रहे हैं। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने कहाकि शुरुआती दिनों में गैरहाजिरी ज्यादा थी जो समय आते सुधर गई है। दिनों दिन सुधार हो रहा है। दिन भर की योगदान आख्या जुटाई गई है जिसमें महज 117 शिक्षामित्र गैरहाजिर रहे हैं। शासन के हाजिरी मंगाने के प्रश्न पर बोले कि यह क्यों मंगाई जा रही हैं इसकी जानकारी नहीं है और न ही कोई पत्र आया है। शाम 3 बजे प्रतिदिन सचिव बेसिक शिक्षा को रिपोर्ट भेजी जा रही है।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »