प्रतापगढ़:शिक्षामित्रों को मानदेय का शासनादेश जारी 🎯सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मूल पदों पर समायोजित शिक्षकों की वापसी 🎯आज होगा विद्यालयों का निरीक्षण

September 23, 2017
Advertisements

शिक्षामित्रों को मानदेय का शासनादेश जारी
🎯सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मूल पदों पर समायोजित शिक्षकों की वापसी
🎯आज होगा विद्यालयों का निरीक्षण
प्रतापगढ़ : अपर शिक्षा निदेशक रूबी सिंह ने मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक एवं सभी बीएसए को शनिवार को प्राथमिक विद्यालयों का निरीक्षण कराकर समायोजित शिक्षामित्रों की उपस्थिति की सूचना शाम चार बजे तक मांगी है। बीएसए बीएन सिंह ने बताया कि स्कूलों से अनुपस्थित चल रहे शिक्षामित्रों की सूचना शासन ने मांगी है। इसके लिए बीईओ को निरीक्षण कर सूचना देने को कहा है।

वापस नहीं करना होगा खाते में गया पैसा 1प्रतापगढ़ : सर्वोच्च न्यायालय का फैसला 25 जुलाई को आने के बाद शासन ने शिक्षामित्र से समायोजित शिक्षकों को 25 जुलाई तक का ही वेतन देने का आदेश दिया था। बेसिक शिक्षा विभाग के लेखा विभाग की लापरवाही से जिले के 88 समायोजित शिक्षकों के खाते में पूरे माह का वेतन भेज दिया गया था। सर्वाधिक गौरा विकास खंड के शिक्षक रहे। इसकी जानकारी होने पर बीएसए ने लेखाधिकारी से जवाब तलब करते हुए पैसे की रिकवरी कराने का आदेश दिया था। अब शासन के आदेश के अनुसार समायोजित शिक्षकों को पूरे जुलाई माह का वेतन देने का आदेश कर दिया गया है। अब उन्हें खाते में अधिक गए पैसे वापस नहीं करने होंगे। बीएसए बीएन सिंह ने बताया कि जुलाई में तो पूरा वेतन दिया जाएगा लेकिन एक अगस्त से 10 हजार रुपये मानदेय मिलेगा।

🎯प्रतापगढ़ : शिक्षामित्रों के मानदेय भुगतान का शासनादेश जारी हो गया है। अब उन्हें 11 माह तक दस-दस हजार रुपये मानदेय के तौर पर दिया जाएगा। शासनादेश जारी होने के बाद बीएसए ने जिले के सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को भेजे पत्र में स्पष्ट किया है कि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद जिले में समायोजित शिक्षकों को एक अगस्त से शिक्षामित्र पद पर उनकी वापसी मानते हुए प्रदेश सरकार द्वारा उन्हें प्रति माह 10 हजार रुपये वर्ष में 11 महीने तक भुगतान किया जाएगा। 1बीएसए ने कहा है कि शासन के आदेश के बाद जनपद के सभी समायोजित शिक्षक, शिक्षामित्र के पद पर नियमानुसार शिक्षण कार्य करेंगे। उन्होंने बताया कि शासन की ओर से उन्हें मूल विद्यालयों में वापस करने से संबंधित किसी प्रकार का कोई आदेश नहीं मिला है। बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारियों से कहा है कि विद्यालय से संबंधित किसी खाते का संचालन अब शिक्षा मित्रों द्वारा नहीं होगा

Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads