GORAKHPUR : आइजी के गोद लिए विद्यालय के बच्चे देखेंगे सिनेमा, घूमेंगे माल अधिकतर बच्चों ने सिनेमाहाल में नहीं देखी है फिल्म

September 07, 2017

आइजी मोहित अग्रवाल के गोद लिए पूर्व माध्यमिक विद्यालय के 150 से अधिक बच्चे गुरुवार को एसआरएस में सिनेमा देखेंगे और सिटी माल घूमने का आनंद लेंगे। इनमें से अधिकतर बच्चों ने कभी सिनेमाहाल में फिल्म नहीं देखी है। आइजी के प्रयास से एसआरएस प्रबंधन ने बच्चों को फिल्म दिखाने के लिए मुफ्त में एक हाल बुक किया है। उन्हें alt145टायलेट एक प्रेम कहानीalt146 फिल्म दिखाई जाएगी।1जिले के प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालयों की शिक्षा के स्तर में सुधार लाने के उद्देश्य से आइजी मोहित अग्रवाल ने बेलीपार क्षेत्र के जीतपुर स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय को गोद ले रखा है। आइजी का उद्देश्य इस विद्यालय के बच्चों को कान्वेंट विद्यालयों होने वाली पढ़ाई के स्तर की शिक्षा देना है। इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए वह खुद सप्ताह में एक दिन विद्यालय में पहुंचकर बच्चों को पढ़ाते भी हैं। बच्चों का हर महीने टेस्ट लिया जाता है। इसमें सर्वोच्च अंक हासिल करने वाले बच्चों को पुरस्कृत भी किया जाता है। यहां कार्यरत शिक्षक भी आइजी के अभियान में कदम से कदम मिलाकर साथ दे रहे हैं। गांव के लोग भी इसमें भरपूर सहयोग कर रहे हैं। इतना नहीं आइजी ने जन सहयोग से विद्यालय के अंदर और बाहर के हिस्से को कान्वेंट की तरह सुसज्जित भी कराया है तथा बच्चों के बैठने के लिए डेस्क और बेंच की व्यवस्था करा रखी है।विद्यालय में एक दिन आठवीं कक्षा के बच्चों को पढ़ाने के दौरान आइजी ने पूछ लिया कि किस-किस ने सिनेमाहाल में फिल्म देखी है। सिर्फ एक बच्चे ने सिनेमा हाल मे फिल्म देखने की बात कही। बाकी किसी बच्चे ने सिनेमा हाल में फिल्म नहीं देखी थी। उसी दिन आइजी ने बच्चों को फिल्म दिखाने का निर्णय लिया था। विद्यालय के कक्षा छह, सात और आठवीं के बच्चे फिल्म देखने आएंगे। उन्हें लाने के लिए विभिन्न विद्यालयों से एक-एक बस ली गई है। बच्चे आठ बजे तक सिटी माल पहुंच जाएंगे। विद्यालय का कोई बच्चा कभी लिफ्ट में नहीं चढ़ा है। इसलिए उन्हें लिफ्ट से ऊपर ले जाया जाएगा। नौ बजे शो शुरू होगा। मध्यांतर में एसआरएस प्रबंधन की तरफ से बच्चों को नाश्ता कराया जाएगा। फिल्म खत्म होने के बाद उन्हें माल घुमाया जाएगा। इसके बाद बस से उन्हें वापस विद्यालय भेज दिया जाएगा।1आइजी जोन मोहित अग्रवाल ने कहा कि दुनिया में हो रहे बदलावों से परिचित कराने के लिए बच्चों को फिल्म दिखाने का निर्णय लिया गया है। इससे न केवल उनके मानसिक स्तर के विकास में मदद मिलेगी, बल्कि इसका सकारात्मक प्रभाव भी पड़ेगा।1

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »