टीईटी की उत्तरकुंजी पर हाईकोर्ट में याचिका अभ्यर्थियों ने आठ प्रश्नों के उत्तरों को दी है चुनौती, संशोधित उत्तरकुंजी में अभ्यर्थियों की आपत्तियां दरकिनार करने का मामला

November 17, 2017
Advertisements

टीईटी की उत्तरकुंजी पर हाईकोर्ट में याचिका

अभ्यर्थियों ने आठ प्रश्नों के उत्तरों को दी है चुनौती, संशोधित उत्तरकुंजी में अभ्यर्थियों की आपत्तियां दरकिनार करने का मामला

राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपी टीईटी 2017 की उत्तरकुंजी का मामला हाईकोर्ट तक पहुंच गया है। बड़ी संख्या में अभ्यर्थियों ने प्रश्नों के गलत उत्तरों में संशोधन के लिए आपत्ति की थी, लेकिन वह दरकिनार होने पर अभ्यर्थियों ने आठ प्रश्नों के उत्तर को याचिका के जरिए चुनौती दी है। 1परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने बीते 15 अक्टूबर को टीईटी 2017 का आयोजन प्रदेश भर के केंद्रों पर किया था। अभ्यर्थियों का कहना है कि प्राथमिक व उच्च प्राथमिक में एनसीटीई की ओर से जारी मानक पाठ्यक्रम से इतर तमाम प्रश्न पूछे गए, जिनमें कई प्रश्नों के संभावित दो उत्तर व कुछ प्रश्नों के उत्तर दिए विकल्पों में थे ही नहीं। साथ ही कई ऐसे प्रश्न भी थे जो अपूर्ण थे। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने जब उत्तरकुंजी जारी की तो हजारों अभ्यर्थियों ने अलग-अलग प्रश्नों के जवाब पर साक्ष्य के साथ आपत्तियां भेजी। इसमें मुख्य रूप से आठ प्रश्नों व सिलेबस से बाहर के प्रश्नों पर ही अधिकतर आपत्तियां हुई। 1परीक्षा नियामक कार्यालय ने छह नवंबर को संशोधित उत्तरकुंजी जारी की जिसमें एक प्रश्न में सभी को समान अंक देने को कहा व दूसरे प्रश्न के विकल्प को बदला गया है। अन्य प्रश्नों के जवाब पर कोई संशोधन नहीं हुआ। अभ्यर्थी अनूप कुमार सिंह ने बताया कि इन प्रश्नों के जवाब को लेकर वह परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव से मिले, लेकिन उसका कोई हल नहीं निकल सका है। उन्होंने बताया कि सीरीज ‘डी’ में प्रश्न संख्या दो, 22, 42, 61, 72, 49 व 133 के जवाब को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है। इसकी जल्द ही सुनवाई होगी।1उधर, परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव डॉ. सुत्ता सिंह ने तीन दिन पहले कहा था कि अभ्यर्थियों ने जिन प्रश्नों पर आपत्तियां की थी उनका परीक्षण अब दूसरे विषय विशेषज्ञों से कराया जा रहा है। यदि वह जवाब बदलने का निर्देश देते हैं तो नए सिरे से उत्तरकुंजी जारी हो सकती है।

Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads