रायबरेली: बोर्ड परीक्षा का बहिष्कार करेंगे वित्त विहीन शिक्षक 🎯वित्तविहीन विद्यालयों के प्रधानाचार्यों, शिक्षकों एवं प्रबंधकों को संशय की दृष्टि से देखना दुर्भाग्यपूर्ण- चन्द्र प्रकाश पाण्डेय

January 31, 2018
Advertisements

बोर्ड परीक्षा का बहिष्कार करेंगे वित्त विहीन शिक्षक
🎯वित्तविहीन विद्यालयों के प्रधानाचार्यों, शिक्षकों एवं प्रबंधकों को संशय की दृष्टि से देखना दुर्भाग्यपूर्ण- चन्द्र प्रकाश पाण्डेय

रायबरेली। वित्तविहीन शिक्षकों ने क्षेत्रीय बीजेपी विधायक धीरेन्द्र बहादुर सिंह के माध्यम से माननीय मुख्यमन्त्री आदित्यनाथ योगी एवं शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा को ज्ञापन भेज माध्यमिक शिक्षा परिषद की होने जा रही बोर्ड परीक्षा का बहिष्कार करने का ऐलान किया है। लालगंज कस्बा स्थित गंगाराम बारातीलाल सरस्वती विद्या मन्दिर इंटर कॉलेज में हुई शिक्षक महासभा की बैठक में प्रदेश सरकार पर कई आरोप लगाते हुए सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया। माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के प्रधनाचार्य जिला परिषद अध्यक्ष गणेश कुमार मिश्र ने कहा कि प्रदेश सरकार की ओर से वित्तविहीन शिक्षकों को मिल रहा मानदेय बंद करना दुखद है। वित्तविहीन शिक्षकों की सेवा सुरक्षा युक्त नियमावली बनाने का आश्वासन भी झूठा है। इसके चलते शिक्षकों ने परीक्षा में सहयोग न करने का निर्णय लिया है। तहसील संरक्षक माध्यमिक वित्तविहीन चंद्रप्रकाश पांडेय ने कहा कि बोर्ड परीक्षा में प्रतिपाली 36 रुपये पारिश्रमिक मिलता है। यह बहुत कम है। यह पैसा भी समय से नहीं मिलता है। प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा में 85 प्रतिशत की भागीदारी निभाने वाले वित्तविहीन शिक्षकों के साथ शौतेला व्यवहार किया जा रहा है।  माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के ब्लॉक संरक्षक मनोज कुमार अवस्थी ने कहा कि वित्तविहीन विद्यालयों के प्रधानाचार्यों, शिक्षकों एवं प्रबंधकों को संशय की दृष्टि से देखा जाता है। सरकारी नीतियों में भेदभाव पूर्ण आचरण करते हुए हर कदम पर उपेक्षित किया जाता है। बैठक को कोषाध्यक्ष राजेन्द्र कुमार पाण्डेय ने भी संबोधित किया। इस मौके पर माध्यमिक प्रधनाचार्य जिला परिषद अध्यक्ष गणेश कुमार मिश्र, तहसील संरक्षक माध्यमिक वित्तविहीन चंद्रप्रकाश पांडेय, ब्लॉक संरक्षक माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा मनोज कुमार अवस्थी, ब्लॉक अध्यक्ष सुंदरलाल बाजपेयी, कोषाध्यक्ष एवम् पत्रकार राजेन्द्र कुमार पाण्डेय, दिनेश कुमार दीक्षित आदि शिक्षक मौजूद रहे।

Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads