धरना-प्रदर्शन में जान गंवाने वाले शिक्षामित्रों की होगी जांच, बेसिक शिक्षा मंत्री ने धरना प्रदर्शन के दौरान किसी भी शिक्षामित्र की मौत से किया इनकार

February 10, 2018

धरना-प्रदर्शन में जान गंवाने वाले शिक्षामित्रों की होगी जांच

राज्य ब्यूरो, लखनऊ : विधान परिषद में शुक्रवार को सभापति रमेश यादव ने सरकार को धरना प्रदर्शन के दौरान जान गंवाने वाले शिक्षामित्रों के बारे में सपा सदस्य आनंद भदौरिया की ओर से सौंपी गई सूची के आधार पर मामले की जांच कराने का निर्देश दिया। उन्होंने सरकार को यह भी निर्देश दिया कि सभी शिक्षामित्रों को 10 हजार रुपये मानदेय सुनिश्चित किया जाए।

प्रश्नकाल के दौरान भदौरिया ने बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल से सवाल किया था कि अपनी मांगों को लेकर किये गए धरना प्रदर्शन में कितने शिक्षामित्रों की जान गई थी। उन्होंने यह भी पूछा था कि जान गंवाने शिक्षामित्रों को कितना मुआवजा दिया गया है। जवाब में बेसिक शिक्षा मंत्री ने कहा कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों से प्राप्त सूचना के अनुसार धरना प्रदर्शन में किसी शिक्षामित्र की मृत्यु नहीं हुई है। इस पर भदौरिया ने कहा कि यूं तो धरना प्रदर्शनों के दौरान प्रदेश में 400 से अधिक शिक्षामित्र जान गंवा चुके हैं लेकिन इस समय उनके पास ऐसे 104 शिक्षामित्रों की सूची उपलब्ध है। उन्होंने यह सूची सभापति को सौंपते हुए इसके आधार पर मामले की जांच कराने का अनुरोध किया। इस पर सभापति ने सरकार को निर्देश दिया कि वह सूची में दिये गए तथ्यों के आधार पर मामले की जांच कराए।

भदौरिया ने यह भी कहा कि सर्व शिक्षा अभियान के तहत नियुक्त शिक्षामित्रों को जहां 10 हजार रुपये मासिक मानदेय मिल रहा है, वहीं उनकी सुनिश्चित जानकारी है कि लखीमपुर खीरी और सीतापुर में परिषदीय स्कूलों में बड़ी संख्या में तैनात शिक्षामित्रों को अभी 3500 रुपये मानिक मानदेय दिया जा रहा है। उन्होंने इस भेदभाव को दूर करने की मांग की। इस पर सभापति ने सरकार को निर्देश दिया कि सभी शिक्षामित्रों का मानदेय बढ़ाकर 10 हजार रुपये किया जाए। सवाल-जवाब के दौरान सपा सदस्यों और सत्ता पक्ष में नोकझोंक भी हुई।

छुट्टा मवेशियों के लिए बुंदेलखंड के सातों जिलों में बनेंगे गोवंश विहार : कांग्रेस के दीपक सिंह के सवाल के जवाब में पशुधन राज्य मंत्री जय प्रताप निषाद ने बताया कि छुट्टा मवेशियों की समस्या से किसानों को निजात दिलाने के लिए सरकार बुंदेलखंड के सातों जिलों में गोवंश विहार की स्थापना करने जा रही है।1उन्होंने बताया कि छुट्टा पशुओं के लिए प्रदेश के 22 जिलों के 193 ब्लॉक में कांजी हाउस संचालित है। इनके अलावा प्रदेश के 16 नगर निगमों में गोशालाएं हैं। 495 गोशालाएं स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा संचालित हैं।

11.06 करोड़ बच्चों को मिले स्वेटर : सपा के वासुदेव यादव के सवाल पर बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने बताया कि चालू शैक्षिक सत्र में परिषदीय स्कूलों के बच्चों को सरकार की ओर से मुफ्त में स्वेटर बांटने का काम छह जनवरी से शुरू हुआ था। सात फरवरी तक 1,06,21,720 बच्चों को स्वेटर बांटे जा चुके थे। उन्होंने कहा कि वह 10 फरवरी को स्वेटर वितरण की समीक्षा करेंगी।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »