इलाहाबाद: डीएलएड 2018 प्रवेश हेतु अब एसएमएस से रजिस्ट्रेशन नंबर, ओटीपी से आवेदन: इस बार 68500 सहायक अध्यापक भर्ती के एडमिट कार्ड वाली गलती परिषद ने की दूर।

March 28, 2018

डीएलएड 2018 प्रवेश हेतु अब एसएमएस से रजिस्ट्रेशन नंबर, ओटीपी से आवेदन: इस बार 68500 सहायक अध्यापक भर्ती के एडमिट कार्ड वाली गलती परिषद ने की दूर।

इलाहाबाद प्राथमिक स्कूलों की 68500 सहायक अध्यापक भर्ती के एडमिट कार्ड डाउनलोड होते ही हड़कंप मचा था। वजह तमाम अभ्यर्थियों के फोटो, जन्म तारीख व अन्य महत्वपूर्ण रिकॉर्ड बदल गए थे। उस समय शिकायतें यह कहकर टाल दी गईं कि यह करतूत उनके करीबियों की है, इसमें विभाग का क्या दोष है। अब उन्हीं का विभाग ने संज्ञान लिया है, इसीलिए डीएलएड (पूर्व बीटीसी) 2018 का विज्ञापन जारी होने में विलंब हो रहा है, क्योंकि इस बार वेबसाइट में बड़े बदलाव किए जा रहे हैं, ताकि अभ्यर्थियों को परेशानी नहीं हो। 1बेसिक शिक्षा की सचिव मनीषा त्रिघाटिया ने बीते छह मार्च को डीएलएड 2018 शैक्षिक सत्र के लिए समय सारिणी जारी की। उसमें निर्देश था कि परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव 28 मार्च को प्रवेश का विज्ञापन जारी करेंगी, इसके पहले एनआइसी वेबसाइट तैयार करेगा।
यह वेबसाइट अभी तैयार नहीं हो सकी है, क्योंकि शासन के निर्देश पर एनआइसी उसे अपडेट करने में जुटा है। इसमें तमाम नए सिक्योरिटी फीचर्स डाले जा रहे हैं, ताकि किसी अभ्यर्थी का कोई दूसरा शख्स जन्म तारीख आदि जानने के बाद भी रिकॉर्ड न बदल सके।

सचिव डा. सुत्ता सिंह ने बताया कि तैयारी है कि हर अभ्यर्थी को उसके मोबाइल पर एसएमएस के जरिए रजिस्ट्रेशन नंबर दिया जाएगा। यही नहीं अभी तक काउंसिलिंग के दौरान अभ्यर्थियों को ओटीपी यानि वन टाइम पासवर्ड दिया जाता था लेकिन, अब ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि यह ओटीपी अभ्यर्थी को आवेदन के समय ही मिले, जिससे साइबर कैफे का शख्स भी चाहकर रिकॉर्ड न बदल सके। इसके अलावा वेबसाइट अक्सर ज्यादा हिट होने पर हैंग हो जाती रही है, उससे बचाने की प्रक्रिया चल रही है।

सचिव ने बताया कि प्रवेश का विज्ञापन इसी सप्ताह जारी हो सकता है लेकिन, वह तभी जारी करेंगे, जब एनआइसी से अनुमति मिलेगी। एनआइसी प्रवेश की वेबसाइट में तमाम सिक्योरिटी फीचर्स डाल रहा है यह सभी के हित में है इसलिए जल्दबाजी में निर्णय नहीं लेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि शासन की मंशा के अनुरूप डीएलएड 2018 का शैक्षिक सत्र एक जुलाई से ही शुरू होगा।
ज्ञात हो कि डीएलएड की प्रदेश भर में करीब दो लाख से अधिक सीटें हैं। साथ ही विभाग नए निजी कालेजों को मान्यता भी देने जा रहा है इससे सीटें और बढ़ेंगी।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »