95 हजार शिक्षको की भर्ती चुनाव से पगले, अक्टूबर अंतिम सप्ताह में टीईटी परीक्षा की योजना

August 28, 2018
Advertisements

दिसम्बर तक टीईटी और अगली 68500 परीक्षा की तैयारी

हिन्दुस्तान टीम,इलाहाबाद

Updated: Mon, 27 Aug 2018 12:33 PM IST
अ+ अ-
बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में सहायक अध्यापकों की भर्ती का इंतजार कर रहे युवाओं के लिए खुशखबरी है। सबकुछ ठीक रहा तो इसी साल उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी-टीईटी) और 68500 सहायक अध्यापकों के एक और बैच की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा करा ली जाएगी।
शासन ने परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय को दोनों परीक्षा दिसंबर तक कराने के निर्देश दिए हैं।
इससे साफ है कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एक और शिक्षक भर्ती पूरी कर सरकार युवाओं को अपने पाले में लाने की कोशिश में जुट गई है। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी डॉ. सुत्ता सिंह ने नवंबर में टीईटी और फरवरी में 68500 सहायक अध्यापक लिखित परीक्षा कराने का प्रस्ताव शासन को पूर्व में भेजा था।
दोनों महत्वपूर्ण परीक्षाओं की तैयारी के लिए विभाग थोड़ा समय चाह रहा था लेकिन शासन ने दिसंबर तक ही दोनों परीक्षाएं कराने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश के 1.37 लाख शिक्षामित्रों का समायोजन 25 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट से निरस्त होने के बाद 68500 शिक्षकों के दो बैच की भर्ती होनी है ताकि आदेश के कारण हुई शिक्षकों की कमी को दूर किया जा सके। 27 मई को हुई पहली परीक्षा में 41556 अभ्यर्थी ही सफल हुए हैं। ऐसे में बचे हुए पदों को अगली भर्ती में जोड़ने की भी चर्चा है।
चार लाख बीटीसी/डीएलएड बेरोजगारों को इंतजार
इलाहाबाद। परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में सहायक अध्यापक पद पर नौकरी के लिए चार लाख बीटीसी/डीएलएड बेरोजगार लाइन में खड़े हैं। एक अनुमान के मुताबिक बीटीसी 2010 बैच से 2015 बैच तक और डीएलएड 2017 के कुल चार लाख प्रशिक्षु नौकरी के दावेदार हैं।
बीएड डिग्रीधारक शामिल होने पर मुश्किल होगी राह
इलाहाबाद। परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती में बीएड डिग्रीधारकों को शामिल किया गया तो आवेदकों की संख्या बढ़ने के कारण बीटीसी/डीएलएड प्रशिक्षुओं की राह कठिन हो जाएगी। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद ने 29 जून को जारी अधिसूचना में बीएड डिग्रीधारकों को कक्षा एक से पांच तक के स्कूलों में अध्यापक के योग्य मान लिया है। इसके बाद से बीटीसी अभ्यर्थी आंदोलित हैं।

Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads