उन्नाव: शिक्षक शिव स्वरूप चौधरी की विदाई पर बच्चों समेत रो पड़ा पूरा गाँव 🎯काश ! हर सरकारी परिषदीय स्कूलों के शिक्षक ऐसे ही होते तो निजी स्कूल शोषण नहीं कर पाते- प्रधान दिवाकर सिंह।

August 24, 2018
Advertisements




















शिक्षक शिव स्वरूप चौधरी की विदाई पर बच्चों समेत रो पड़ा पूरा गाँव
🎯काश ! हर सरकारी परिषदीय स्कूलों के शिक्षक ऐसे ही होते तो निजी स्कूल शोषण नहीं कर पाते- प्रधान दिवाकर सिंह

उन्नाव। जब कोई शिक्षक अच्छे हों तो उनकी विदाई समारोह में विद्यार्थियों को दुख लगना लाजिमी है, लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि किसी शिक्षक के विदाई समारोह में न सिर्फ स्कूल के बच्चे बल्कि पूरा गांव फूट फूट कर रोया हो। ऐसे शिक्षक विरले ही मिलते हैं।
       मामला उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के सुमेरपुर ब्लॉक का है जहां पढ़ाई की दृष्टि से अत्यंत दुर्गम इलाका होने के कारण कोई भी शिक्षक यहां आने से हाय-तौबा करता था। सुमेरपुर ब्लॉक के मनिकापुर गांव में शिक्षा की स्थिति बदहाल थी। तब उन्नाव शहर के रहने वाले शिव स्वरूप चौधरी की तैनाती 18 मार्च 2017 को प्राथमिक विद्यालय मनिकापुर प्रथम में हुई तो स्कूल की हालत बेहद खराब थी। शिक्षक शिव स्वरूप ने सिर्फ एक वर्ष 5 माह 5 दिन की कड़ी मेहनत से स्कूल को बेहतर बना दिया। सुबह स्कूल खुलने से लेकर स्कूल बन्द होने तक उन्होंने कड़ी मेहनत किया जिसके कारण शिक्षा के बल पर ग्रामीणों के बच्चों की तकदीर बदलने का जो अभियान शुरू किया, वो लगातार आगे बढ़ता ही चला गया। जिसमें ग्रामीणों का सबसे ज्यादा सहयोग मिला। उन्होंने स्कूल के बच्चों को इतना मेधावी बना दिया कि उनके सामने प्राइवेट स्कूल बच्चे भी पीछे होने लगे। मनिकापुर ग्राम सभा के प्रधान दिवाकर सिंह का कहना है कि काश ! हर सरकारी परिषदीय स्कूलों के शिक्षक ऐसे ही होते तो निजी स्कूल शोषण नहीं कर पाते। शिक्षक का तबादला होने पर प्राथमिक विद्यालय मनिकापुर प्रथम की प्रधानाचार्या राखी उत्तम प्रा वि मनिकापुर द्वितीय की प्रधानाचार्या सारिका शुक्ला देश दीपक पाण्डेय धीरेन्द्र सिंह शारदेंदु मिश्रा नीरज देवी रेनू देवी आंगनवाड़ी कार्यकत्री सावित्री देवी एवम् ग्रामीण रामसेवक आदि ने बताया शिक्षक शिव स्वरूप मिलनसार एवम् कर्मठ शिक्षक थे जिनके जाने से पूरा स्कूल एवम् गाँव दुःखी है।
__________________________________________
शिक्षक के तबादले ने आखों में आसूं ला दिए
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
सरकार की जनपदीय तबादला नीति आई जिसमें शिव स्वरूप चौधरी का तबादला हो गया। शिक्षक शिव स्वरूप जब स्कूल छोड़कर जाने लगे तब सारे स्कूल के बच्चे फूट फूट कर रोने लगे। गांव के लोग भी खूब रोए। इस दौरान खुद शिक्षक शिव स्वरूप अपने आपको रोक नहीं सके और वह भी रो पड़े। शिक्षक के तबादले से दुःखी बच्चे उदास थे लकुं समझाने बुझाने पर बच्चों ने अपने प्रिय गुरू को ढेर सारी मालाएं पहना कर विदाई दी।


Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads