40 बरस पुराने आदेश से हटेंगे सरप्लस शिक्षकउप शिक्षा निदेशक विभा शुक्ला ने जिलों को निर्देश दिया है कि वह 20 नवंबर 1976 और 25 मई 1977 के शासनादेश में निर्धारित मानक के अनुसार जिले के अशासकीय विद्यालयों में कक्षावार, अनुभागवार छात्र संख्या सृजित व कार्यरत अध्यापकों का विवरण भेजें

May 30, 2017
Advertisements

40 बरस पुराने आदेश से हटेंगे सरप्लस शिक्षक

उप शिक्षा निदेशक विभा शुक्ला ने जिलों को निर्देश दिया है कि वह 20 नवंबर 1976 और 25 मई 1977 के शासनादेश में निर्धारित मानक के अनुसार जिले के अशासकीय विद्यालयों में कक्षावार, अनुभागवार छात्र संख्या सृजित व कार्यरत अध्यापकों का विवरण भेजें

धर्मेश अवस्थी ’ इलाहाबाद1अशासकीय माध्यमिक विद्यालयों के सरप्लस शिक्षकों की खोज 40 साल पुराने आदेश से हो रही है। इसके लिए कक्षावार और अनुभाग वार छात्र-छात्रओं की संख्या मांगी जा रही है। प्रवक्ता व एलटी ग्रेड शिक्षकों के वादन को भी फेरबदल का आधार बनाने की तैयारी है। महकमे में सरप्लस शिक्षकों की रिपोर्ट मंगाने के लिए दो बार आदेश जारी हो चुके हैं लेकिन, विद्यालय और मंडलीय अफसर सूचनाएं नहीं दे रहे हैं। 1

प्रदेश के सहायता प्राप्त माध्यमिक स्कूलों में हाईस्कूल स्तर के 4556 व इंटरमीडिएट के 4025 विद्यालय हैं। इन स्कूलों के सरप्लस अध्यापकों की रिपोर्ट मांगने के लिए नौ मई को ही जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र जारी हुआ है।

शिक्षा निदेशक माध्यमिक की ओर से उप शिक्षा निदेशक विभा शुक्ला ने जिलों को निर्देश दिया है कि वह 20 नवंबर 1976 और 25 मई 1977 के शासनादेश में निर्धारित मानक के अनुसार जिले के अशासकीय विद्यालयों में कक्षावार, अनुभागवार छात्र संख्या सृजित व कार्यरत अध्यापकों का विवरण भेजे। इंटरमीडिएट स्तर का भी विवरण मांगा गया। यह निर्देश एलटी ग्रेड व प्रवक्ता के लिए दिया गया। अफसर बताते हैं कि अशासकीय स्कूलों में मानक का स्टैंडर्ड अब भी 1976 व 1977 का ही लागू है। 1यह जरूर है कि 1999 में अनुभाग का नए सिरे से गठन हुआ है। ज्ञात हो कि पहले एक अनुभाग में 40 बच्चे होते और बाद में इसे बढ़ाकर 65 कर दिया गया। 1शासन केनिर्देश पर उप शिक्षा निदेशक ने 19 मई तक जिलों से रिपोर्ट मांगी थी लेकिन, एक भी जिले से सूचना नहीं पहुंची। 26 मई को शिक्षा निदेशक माध्यमिक अमरनाथ वर्मा ने संयुक्त शिक्षा निदेशकों से 30 मई तक रिपोर्ट मांगी है लेकिन, इस आदेश के बाद से जिलों में हड़कंप मचा है। 

Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads