RAEBARELI:आवासीय स्कूल में शिक्षा लेंगे श्रमिकों के लाडले, श्रम विभाग ने उठाया कदम, एनजीओ को दी जायेगी जिम्मेदारी 🎯श्रमिकों के बच्चों का आवासीय विद्यालय बनाकर प्रवेश लेने को कानपुर की छात्रा अन्नू पाण्डेय ने सराहा।

June 14, 2017
Advertisements



आवासीय स्कूल में शिक्षा लेंगे श्रमिकों के लाडले,
श्रम विभाग ने उठाया कदम, एनजीओ को दी जायेगी जिम्मेदारी
🎯श्रमिकों के बच्चों का आवासीय विद्यालय बनाकर प्रवेश लेने को कानपुर की छात्रा अन्नू पाण्डेय ने सराहा।

रवि उपाध्याय’रायबरेली।श्रम विभाग पंजीकृत श्रमिकों को अन्य सुविधाओं के साथ अब उनके लाडलों को बेहतर शिक्षा भी दिलायेगा। बेसिक शिक्षा विभाग के कस्तूरबा गांधी विद्यालयों की तर्ज पर यहां एक आवासीय विद्यालय खोला जायेगा। इस पर करीब 89 लाख रुपये खर्च किये जायेंगे। इस आवासीय विद्यालय में ही रहकर श्रमिकों के नौनिहाल शिक्षा ग्रहण करेंगे। उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्ननिर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की ओर से जिलों में आवासीय विद्यालय खोले जा रहे हैं। कई जिलों में ये विद्याल खुलने के बाद अब यहां भी श्रमिकों के बच्चों को बेहतर शिक्षा देने के लिये यह व्यवस्था शुरू की जा रही। इस विद्यालय के संचालन की जिम्मेदारी एनजीओ को दी जायेगी। इसके लिये एनजीओ के चयन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। श्रम विभाग ने जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी और जिला विद्यालय निरीक्षक से शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाली एनजीओ की सूचना मांगी है। शिक्षा लेंगे सिर्फ लड़के।बोर्ड की ओर से लड़कों और लड़कियों के लिये अलग-अलग आवासीय स्कूल चलाने की योजना बनाई गई है। स्कूल में 6,7 व 8 तक की कक्षाएं चलेंगी। फिलहाल अभी यहां पर खुल रहे स्कूल में सिर्फ लड़कों का ही दाखिला लिया जायेगा। इस स्कूल में श्रमिकों के 100 बच्चों का प्रवेश लिया जायेगा। कस्तूबरा गांधी विद्यालय में मिलने वाली सारी सुविधाएं यहां इन बच्चों को मिलेंगी। इसके अलावा जिले में जल्द ही लड़कियों के लिये भी दूसरा विद्यालय खोला जायेगा।धोबहा में देखी गई जमीन जिले में श्रमिकों के बच्चों के लिये आवासीय विद्यालय के लिये धोबहा में श्रम विभाग ने चार बीघे जमीन चिन्हित की है।


Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads