उन्नाव:शिक्षा विभाग में आयकर रिटर्न दाखिल में भी खेल 📣 लापरवाही:अंतर्जनपदीय तबादले से आये शिक्षकों से अब विभाग नहीं भरा सका इनकम टैक्स का फॉर्म, फॉर्म 16 व् आयकर रिटर्न की बात तो दूर है। शिक्षकों में ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है। विभाग भी सही जानकारी देने के बजाय टॉल मटोल कर रहा है। 📣यदि विभाग मैनुअल कापी देने की व्यवस्था को खत्म कर दे और 26 एएस अपलोड करने की प्रक्रिया शुरू हो जाये तो यह समस्या स्वत: खत्म हो जाएगी लेकिन कर्मचारी अपनी खाऊ कमाऊ नीति के कारण इस प्रक्रिया से किनारा किये रहते हैं। 📣 दूसरी तरफ आयकर विभाग ने राज भी खोला है कि विभाग अपनी सीडी ही नहीं भेजता है। इसी कारण से मजबूरी में नोटिस जारी होती है। 📣दूसरे सरकारी विभागों की तरह ही बेसिक शिक्षा विभाग में भी इन दिनों आयकर रिटर्न दाखिल करने की आपाधापी है।

August 03, 2017
Advertisements

शिक्षा विभाग में आयकर रिटर्न दाखिल में भी खेल
📣 लापरवाही:अंतर्जनपदीय तबादले से आये शिक्षकों से अब विभाग नहीं भरा सका इनकम टैक्स का फॉर्म, फॉर्म 16 व् आयकर रिटर्न की बात तो दूर है। शिक्षकों में ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है। विभाग भी सही जानकारी देने के बजाय टॉल मटोल कर रहा है।
📣यदि विभाग मैनुअल कापी देने की व्यवस्था को खत्म कर दे और 26 एएस अपलोड करने की प्रक्रिया शुरू हो जाये तो यह समस्या स्वत: खत्म हो जाएगी लेकिन कर्मचारी अपनी खाऊ कमाऊ नीति के कारण इस प्रक्रिया से किनारा किये रहते हैं।
📣 दूसरी तरफ आयकर विभाग ने राज भी खोला है कि विभाग अपनी सीडी ही नहीं भेजता है। इसी कारण से मजबूरी में नोटिस जारी होती है।
📣दूसरे सरकारी विभागों की तरह ही बेसिक शिक्षा विभाग में भी इन दिनों आयकर रिटर्न दाखिल करने की आपाधापी है।

जागरण संवाददाता, उन्नाव: सरकारी विभागों में कार्यरत अधिकारी कर्मचारी सभी के आयकर रिटर्न की प्रक्रिया वर्ष में दो बार पूरी होती है। सभी विभागों में यह सामान्य प्रक्रिया में है, पर शिक्षा विभाग में आयकर रिटर्न शिक्षकों के लिए सबसे बड़ी मुसीबत है। वहीं, लिपिकीय वर्ग के लिए ये सहालग से कम नहीं है। शिक्षकों को जारी होने वाले फार्म 16 में इरादतन खामियां छोड़ी जाती, बाद में उनको दुरुस्त करने के नाम पर वसूली होती। अधिकारी कह कर पल्ला झाड़ लेते हैं कि उनके सामने ऐसी कोई शिकायत नहीं आई है। इसी के चलते शिक्षकों के रिटर्न दाखिल होने में लगातार देरी हो रही है।1दूसरे सरकारी विभागों की तरह ही बेसिक शिक्षा विभाग में भी इन दिनों आयकर रिटर्न दाखिल करने की आपाधापी है। शिक्षकों को विभाग द्वारा उसकी सकल आय का लेखाजोखा आयकर कटौती सहित फार्म 16 के रूप में उपलब्ध कराता है। उसी फार्म से शिक्षक अपना आयकर रिटर्न दाखिल करता है। लेकिन पिछले दो वर्षों से फार्म-16 के नाम पर शिक्षकों को रिटर्न फार्म के नाम पर सुविधा कम मुसीबत अधिक मिल रही है। मूल फार्म पर तो गलती है ही साथ ही आयकर की वेबसाइड के 26 एएस पर भी शो नहीं कर रहा है। यदि किसी किसी का शो करता है तो उसमें दर्ज धनराशि में अंतर होने से उसका मिलान नहीं हो पाता है। रिटर्न दाखिल न होने से आयकर विभाग द्वारा शिक्षकों को नोटिस जारी की जा रही हैं। इसी के बाद शिक्षक यहां वहां चक्कर लगाने शुरू कर देता है। शिक्षकों का कहना है कि यदि विभाग मैनुअल कापी देने की व्यवस्था को खत्म कर दे और 26 एएस अपलोड करने की प्रक्रिया शुरू हो जाये तो यह समस्या स्वत: खत्म हो जाएगी लेकिन कर्मचारी अपने लाभ के लिए वह इस प्रक्रिया से किनारा किये रहते हैं। दूसरी तरफ आयकर विभाग का कहना है कि विभाग अपनी सीडी ही नहीं भेजता है। इसी कारण से नोटिस जारी होती है।

समस्या सुनाने पर लगाना पड़ता लखनऊ का चक्कर : आयकर रिटर्न में मिलने वाली खामी को लेकर शिक्षकों की माने तो जब वह लेखा कार्यालय पहुंचते हैं तो उनकी समस्या का निस्तारण करने की जगह उन्हें सीधे विभाग के सीए का पता थमा कर उनके पास भेज दिया जाता है। लेकिन वहां पहुंचने पर सीए भी उसकी समस्या का हल नहीं कर पाते हैं। शिक्षकों का कहना तो है कि सीए उन्हें तवज्जो ही नहीं देते हैं। जिससे वह फार्म 16 की खामियों को लेकर यहां वहां भटकर वापस लौट आते।
📚कैसे करें लिखित शिकायत नौकरी भी तो करनी है : शिक्षकों का आरोप है कि लेखा अनुभाग से की जा रही त्रुटियों के पीछे कोई और कारण नहीं बल्कि नोटिस आदि में उलझने के बाद उसमें सुधार के लिए होने वाले वसूली मुख्य कारण रहती है। जिसकी मौखिक शिकायत तो वह करते हैं लेकिन सेवा काल में पड़ने वाली तमाम जरूरतों के कारण वह किसी से कुछ कह नहीं पाते, न ही लिखित शिकायत कर पाते हैं, यही कारण हैं कि लगातार वह मनमानी का शिकार होते हैं।
📚इस प्रकार की मिल रही हैं खामियां: शिक्षक या शिक्षिका के नाम में गलत दर्ज होते हैं। तैनाती वाले विद्यालय का नाम गलत दर्ज होता है। फार्म 16 में दर्ज पैन में अकसर त्रुटि होती है। आयकर कटौती की धनराशि यदि अग्रमिक कटौती 9 हजार हुई है तो फार्म पर 16.. कुछ और दर्ज होती है।


Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads