फजी डिग्री लेकर नौकरी कर रहे 4570 शिक्षकों को चिह्नित करने का दिया था आदेश बेसिक शिक्षा परिषद सचिव ने बीएसए से 30 अक्टूबर तक मांगी सूची चिन्हित शिक्षकों पर विभागीय व विधिक कार्यवाही करने का आदेश

October 29, 2017
Advertisements

फजी डिग्री लेकर नौकरी कर रहे 4570 शिक्षकों को चिह्नित करने का दिया था आदेश

बेसिक शिक्षा परिषद सचिव ने बीएसए से 30 अक्टूबर तक मांगी सूची

चिन्हित शिक्षकों पर विभागीय व विधिक कार्यवाही करने का आदेश

जासं, आगरा : डॉ. बीआर अंबेडकर विवि की फर्जी बीएड डिग्री पाकर नौकरी कर रहे 4570 शिक्षकों को चिह्न्ति करने के लिए शासन ने एडी बेसिक और बीएसए को 27 अक्टूबर तक का समय दिया था, लेकिन विभाग ने एक भी शिक्षक को चिह्न्ति नहीं किया। इस पर शासन ने नाराजगी जताते हुए 30 अक्टूबर तक का समय दिया है।1एसआइटी की जांच में सामने आए इन शिक्षकों के नामों की एक सीडी बेसिक शिक्षा सचिव ने मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक और बीएसए को 12 अक्टूबर को भेजी थी। इसमें इन्हें चिह्न्ति कर कार्रवाई करके 27 अक्टूबर तक बेसिक शिक्षा सचिव को अवगत कराना था, लेकिन विभाग की ओर से एक भी शिक्षक को चिह्न्ति नहीं किया गया। लापरवाही पर सचिव ने 30 अक्टूबर तक फर्जी शिक्षकों की सूची उपलब्ध कराने और 10 नवंबर तक उन पर विधिक और विभागीय कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। 1शासन की सख्ती से काम शुरू : सीडी में दिए नाम, पतों के आधार पर शनिवार को दिन भर बेसिक शिक्षा विभाग के अफसर जिले में तैनात फर्जी डिग्री धारक शिक्षकों की पहचान करने में जुटे रहे। खुद बीएसए और एबीएसए कमान संभाले हुए हैं। सैकड़ों की तादाद में फर्जी डिग्री धारक शिक्षक पकड़ में आ सकते हैं। इसमें कई शिक्षक नेता और उनके रिश्तेदारों के नाम भी शामिल हो सकते हैं। एडी बेसिक ने बताया कि सीडी में दर्ज रिकॉर्ड का शिक्षकों के रिकॉर्ड से मिलान कराया जा रहा है। 1राज्य ब्यूरो, इलाहाबाद : बेसिक शिक्षा परिषद ने विद्यालयों में बीएड के फर्जी अभिलेखों के आधार पर नियुक्ति पाने वाले शिक्षकों की पूरी सूची तलब की है। साथ ही निर्देश दिया है कि बेसिक शिक्षा अधिकारी चिन्हित शिक्षकों पर विभागीय व विधिक कार्यवाही पूरी करके 10 नवंबर तक परिषद मुख्यालय को अवगत कराएं। 1डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा के बीएड सत्र 2004-05 के परिणाम में फर्जी अंक तालिका व प्रमाणपत्र बनाकर तमाम अभ्यर्थियों ने बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक स्कूलों में नियुक्ति पा ली है। पुलिस जांच में यह खुलासा होने के बाद बीते 12 अक्टूबर को परिषद ने प्रदेश के सभी जिलों व मंडलों को पुलिस की ओर से दी गई सीडी उपलब्ध कराई थी। साथ ही बीएसए को निर्देश दिया गया था कि सीडी के आधार पर अपने जिलों में फर्जी अभिलेखों के आधार पर नियुक्त शिक्षकों को चिन्हित करके विधिक व विभागीय कार्रवाई की जाए। 1 परिषद ने उक्त चिन्हीकरण के बाद ऐसे नामों की सूची 27 अक्टूबर तक मुख्यालय को उपलब्ध कराने को कहा था, लेकिन प्रदेश के एक भी जिले व मंडल से परिषद मुख्यालय को फर्जीवाड़ा करने वाले शिक्षकों की सूची नहीं भेजी गई। इस पर परिषद सचिव संजय सिन्हा ने सख्त नाराजगी जताई है। अब फिर बीएसए को निर्देश दिया गया है कि वह चिन्हित शिक्षकों की सूची 30 अक्टूबर तक उपलब्ध कराएं। साथ ही फर्जीवाड़ा करने वाले शिक्षकों के विरुद्ध नियमानुसार प्रक्रिया का अनुपालन करते हुए विभागीय व विधिक कार्यवाही पूरी करके 10 नवंबर तक परिषद को अवगत कराएं। यह भी कहा गया है कि इस मामले में कोर्ट में सुनवाई चल रही है इसमें शिथिलता बरतने पर बीएसए ही जिम्मेदार होंगे।

Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads