विडम्बनाएं ....!! वाह रे नीति नियंता क्या सोच है तुम्हारी, प्राथमिक शिक्षा के नौनिहालों के लिए शीतकालीन अवकाश की कोई व्यवस्था नहीं वातानुकूलित में बैठने वाले अधिकारियों को लग रही ठंड ,उनके लिए की है शीतकालीन अवकाश की व्यवस्था विडम्बना यह है कि जो नियम कानून बनते हैं वह सिर्फ बड़ों को ध्यान में रखकर बनते हैं, क्योंकि बनाने वाले अपने ये ही बनाते यहां होते शीतकालीन अवकाश ....! @उच्चतम न्यायालय @उच्च न्यायालय @संघ लोक सेवा आयोग @लोक सेवा आयोग @केंद्रीय विश्वविद्यालय @राज्य विश्वविद्यालय @डिग्री कालेज @पब्लिक स्कूल परन्तु जिसको सबसे ज्यादा जरूरत है जिसके पास व्यवस्था नहीं है उसके लिए कोई नियम नहीं क्योंकि ईर्ष्या तू न गयी मेरे मन से के तहत अध्यापक की छुट्टी से जलन

December 29, 2018
Advertisements


विडम्बनाएं ....!!




वाह रे नीति नियंता क्या सोच है तुम्हारी, प्राथमिक शिक्षा के नौनिहालों के लिए शीतकालीन अवकाश की कोई व्यवस्था नहीं





वातानुकूलित में बैठने वाले अधिकारियों को लग रही ठंड ,उनके लिए की है शीतकालीन अवकाश की व्यवस्था





विडम्बना यह है कि जो नियम कानून बनते हैं वह सिर्फ बड़ों को ध्यान में रखकर बनते हैं, क्योंकि बनाने वाले अपने ये ही बनाते





यहां होते शीतकालीन अवकाश ....!





@उच्चतम न्यायालय





@उच्च न्यायालय





@संघ लोक सेवा आयोग





@लोक सेवा आयोग





@केंद्रीय विश्वविद्यालय





@राज्य विश्वविद्यालय





@डिग्री कालेज





@पब्लिक स्कूल





परन्तु जिसको सबसे ज्यादा जरूरत है जिसके पास व्यवस्था नहीं है उसके लिए कोई नियम नहीं क्योंकि ईर्ष्या तू न गयी मेरे मन से के तहत अध्यापक की छुट्टी से जलन






Advertisements

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Related Ads